32 C
Mumbai
Wednesday, October 21, 2020

श्रीराम नगर में रामलीला का आगाज

विज्ञापन
Loading...

Must read

भोजपुर में बोले राजनाथ सिंह- BJP व JDU की जोड़ी सचिन-सहवाग की तरह, इसे नकारना मत

केंद्रीय रक्षा मंत्री और भारतीय जनता पार्टी के दिग्गज नेता राजनाथ सिंह ने बिहार के भोजपुर में एक चुनावी जनसभा को संबोधित करेत...

क्या पाकिस्तान FTF की ‘ग्रे सूची’ से निकल सकता है या नहीं? जानें क्या कहती है नई रिपोर्ट

पाकिस्तान, वित्तीय कार्रवाई कार्य बल (एपएटीएफ) की 'ग्रे सूची' में संभवत: बना रहेगा क्योंकि वैश्विक निगरानी कार्य योजना द्वारा दिए गए 27 लक्ष्यों में...
MCS Deskhttps://metrocitysamachar.com/
Latest Breaking News India, Express Headlines 2020, Political News - Metro City Samachar

हितेंद्र ठाकुर ने फीता काटकर किया उद्घाटन

नालासोपारा:- श्रीराम नगर रामलीला मंडल के तत्वाधान में नालासोपारा पूर्व स्थित श्रीराम नगर में आयोजित 17वें वर्ष के रामलीला का आयोजन शनिवार को किया गया। जिसका उद्घाटन हर वर्ष की भांति इस वर्ष भी मुख्यातिथि के रूप में उपस्थित लोकनेता हितेंद्र ठाकुर द्वारा फीता काटकर किया गया।

इसके पूर्व अतिथि द्वारा शस्त्र एवं मुकुट पूजन किया गया। इस दौरान आये अतिथियों का रामलीला अध्यक्ष प्रदीप सिंह द्वारा सत्कार किया गया। रामलीला का आरंभ नारदमोह, व रामजन्म से हुआ। इस लीला को करने वाले सभी पात्र श्रीराम नगर क्षेत्र के ही रहिवासी है। जिनके द्वारा लीला के लिए एक माह पूर्व से रिहर्सल किया जाता है।

मंडल के संस्थापक एवं प्रमुख आयोजक प्रदीप सिंह स्वयं दशरथ की भूमिका निभाते है। रामलीला के पात्रों द्वारा लीला के प्रथम दिन के मंचन में भगवान विष्णु की तपस्या में लीन होना, इंद्र दरबार मे अप्सराओं का नृत्य, कामदेव द्वारा भगवान इंद्रदेव की तपस्या भंग न कर पाना, लेकिन मोहिनी के स्वयंम्बर में उसे पाने के लिए उत्सुक नारदजी भगवान विष्णु से उनका स्वरूप मांगने जाते है।

उस दौरान वह कहते है- “जेहि विधि होय नाथ हित मोरा, करहुं सो वेग दास मै तोरा” भगवान विष्णु नारदजी को बंदर (हरि) का स्वरूप देते है। नारदजी को अपने बंदर स्वरूप के बारे में जानकारी स्वयंम्बर के बाद होती है। तब वह भगवान विष्णु को श्राप देते है कि  त्रेता युग मे यही बंदर तुम्हारा साथ देंगे। जय विजय नामक द्वारपालों को राक्षस बनने का श्राप नारदजी ने दिया। जो आगे चलकर रावण व कुम्भकर्ण नामक भयंकर राक्षस बने।

रामलीला के उद्घाटन अवसर पर मुख्यरूप से काशीनाथ पाटिल, सभापति सरिता प्रमोद दुबे, नगर सेवक पंकज पाटिल, भरत मकवाना, सचिन देशाई, सीताराम गुप्ता, नगर सेविका दीक्षा घरत, अंजली पाटिल, जयश्री किणी, राधेश्याम मिश्रा, रामदरश पाल, वंशनरायण मिश्रा, सुरेंद्र उपाध्याय, नरेंद्र उपाध्याय सहित बड़ी संख्या में स्थानीय लोगो के साथ ही कई गणमान्य उपस्थित रहे।

विज्ञापन
Loading...

More articles

- Advertisement -
- Advertisement -

Latest article

भोजपुर में बोले राजनाथ सिंह- BJP व JDU की जोड़ी सचिन-सहवाग की तरह, इसे नकारना मत

केंद्रीय रक्षा मंत्री और भारतीय जनता पार्टी के दिग्गज नेता राजनाथ सिंह ने बिहार के भोजपुर में एक चुनावी जनसभा को संबोधित करेत...

क्या पाकिस्तान FTF की ‘ग्रे सूची’ से निकल सकता है या नहीं? जानें क्या कहती है नई रिपोर्ट

पाकिस्तान, वित्तीय कार्रवाई कार्य बल (एपएटीएफ) की 'ग्रे सूची' में संभवत: बना रहेगा क्योंकि वैश्विक निगरानी कार्य योजना द्वारा दिए गए 27 लक्ष्यों में...

आज फिर ED दफ्तर पहुंचे फारुख अब्दुल्ला, 43 करोड़ के घोटाले के आरोप में होगी पूछताछ

जम्मू-कश्मीर के मुख्यमंत्री फारुख अब्दुल्ला आज एकबार फिर श्रीनगर के राज बाग स्थित प्रवर्तन निदेशालय के दफ्तर पहुंचे हैं, जहां उनसे कथित रूप से...