31.5 C
Mumbai
Wednesday, December 2, 2020

सबरीमाला मामला: वकील आर्यमा सुंदरम ने छोड़ा देवस्वाम बोर्ड का साथ

Must read

नगर पालिका परिषद में आयोजित हुआ समारोह तीन वर्ष के सफल कार्यकाल पर पालिकाध्यक्ष सहित सभी सभासदों का किया गया स्वागत

भदोही। स्थानीय निकाय चुनाव हुए तीन वर्ष बीत गए। नगर पालिका परिषद ने अपने तीन वर्ष के कार्यकाल को सफलतापूर्वक पूरा कर लिया। जिसके...

सर्विस लेन के खस्ताहाली पर अधिकारी उदासीन

भदोही। इंदिरा मिल के फ्लाई ओवर निर्माण से यातायात व्यवस्था सुदृण हुआ था लेकिन खस्ता हाल सर्विस लेन ने मुश्किके बढा दिया है। हाल...

ट्रकों में आमने सामने की जोरदार टक्कर बाल बाल बचे लोग घंटों बाधित रहा आवागमन

चौरी। स्थानीय बाजार स्थित ब्रह्माश्रम मंदिर के निकट मंगलवार को प्रात: के समय दो ट्रकों के आमने सामने जोरदार टक्कर हो जाने के चलते...

नवधन में ग्राम समाज की अवैध जमीन से हटेगा विधायक विजय मिश्र का कब्जा तहसीलदार ज्ञानपुर के न्यायालय से बेदखली व जुर्माने का आदेश

नवधन में ग्राम समाज की भूमि पर विधायक ने बनाया है बाउंड्रीवाल ज्ञानपुर। बाहुबली विधायक विजय मिश्र द्वारा डीघ विकासखंड के नवधन गांव में ग्राम...
MCS Deskhttps://metrocitysamachar.com/
Latest Breaking News India, Express Headlines 2020, Political News - Metro City Samachar

सबरीमाला मामला: वकील आर्यमा सुंदरम ने छोड़ा देवस्वाम बोर्ड का साथ

सबरीमाला मामले में त्रावणकोर देवस्वाम बोर्ड (टीडीबी) की ओर से समीक्षा याचिका दाखिल करने वाले वरिष्ठ वकील सी आर्यमा सुंदरम, अब याचिकाकर्ताओं में से एक के रूप में दिखाई देंगे. शेखर नाफाडे अब सुंदरम की जगह टीडीबी की ओर अदालत में पक्ष रखेंगे.

सुंदरम ने इस मामले से खुद को दूर कर लिया है क्योंकि वह नायर सर्विस सोसाइटी (एनएसएस) से जुड़े हुए थे जो कि इस मामले में एक याचिकाकर्ता हैं. देवस्वाम बोर्ड ने अपने वकील बीना माधवन के स्थान पर सुंदरम को अपनी ओर से वकील बनाया था.

आर्यमा सुंदरम एक कॉर्पोरेट वकील हैं जिन्होंने कई मामलों में भारतीय क्रिकेट कंट्रोल बोर्ड (बीसीसीआई) का प्रतिनिधित्व भी किया है. साल 1989 में, उन्हें केंद्र सरकार का स्थायी वकील बनाया गया था. उन्होंने इस पद पर अपना कार्यकाल जारी रखा. इसके बाद 1995 में मद्रास हाईकोर्ट द्वारा उन्हें एक वरिष्ठ वकील बनाया गया.

सुंदरम ‘एस रंगराजन’ मामले में भी वकील थे, जिसके परिणामस्वरूप अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता पर ऐतिहासिक निर्णय हुआ. सुंदरम बीसीसीआई सचिव के श्रीनिवासन मामले में भी वकील थे. सुंदरम चेन्नई के नामी वकील चेतपत पट्टाभीरामन रामस्वामी अय्यर और सीपी रामास्वामी अय्यर के पोते हैं, जिन्होंने पूर्ववर्ती त्रावणकोर में सभी जातियों के पुरुषों और महिलाओं के लिए मंदिरों के द्वार खोलने में अहम भूमिका निभाई थी.

More articles

- Advertisement -
- Advertisement -

Latest article

नगर पालिका परिषद में आयोजित हुआ समारोह तीन वर्ष के सफल कार्यकाल पर पालिकाध्यक्ष सहित सभी सभासदों का किया गया स्वागत

भदोही। स्थानीय निकाय चुनाव हुए तीन वर्ष बीत गए। नगर पालिका परिषद ने अपने तीन वर्ष के कार्यकाल को सफलतापूर्वक पूरा कर लिया। जिसके...

सर्विस लेन के खस्ताहाली पर अधिकारी उदासीन

भदोही। इंदिरा मिल के फ्लाई ओवर निर्माण से यातायात व्यवस्था सुदृण हुआ था लेकिन खस्ता हाल सर्विस लेन ने मुश्किके बढा दिया है। हाल...

ट्रकों में आमने सामने की जोरदार टक्कर बाल बाल बचे लोग घंटों बाधित रहा आवागमन

चौरी। स्थानीय बाजार स्थित ब्रह्माश्रम मंदिर के निकट मंगलवार को प्रात: के समय दो ट्रकों के आमने सामने जोरदार टक्कर हो जाने के चलते...

नवधन में ग्राम समाज की अवैध जमीन से हटेगा विधायक विजय मिश्र का कब्जा तहसीलदार ज्ञानपुर के न्यायालय से बेदखली व जुर्माने का आदेश

नवधन में ग्राम समाज की भूमि पर विधायक ने बनाया है बाउंड्रीवाल ज्ञानपुर। बाहुबली विधायक विजय मिश्र द्वारा डीघ विकासखंड के नवधन गांव में ग्राम...

स्मार्ट मीटरों में गड़बड़ी पर चुप है सरकार-मनोज आप का आरोप समस्या समाधान की जगह मुद्दों से भटकाने का हो रहा काम

भदोही। प्रदेश में स्मार्ट मीटर में हुई गड़बड़ी के सभी आंकड़ें सरकार के पास होने के बावजूद कोई कार्यवाही नहीं की जा रही है।...