माइग्रेन के दर्द से छुटकारा दिलाएंगेे आयुर्वेद के ये उपाय

0
180

सिर में तेज व लगातार दर्द माइग्रेन भी हो सकता है। इसके दर्द से निजात पाने के लिए बहुत दवाएं खाने की जरूरत नहीं है। आयुर्वेद में पंचकर्म व कुछ दवाओं से बीमारी पर पूरी तरह से काबू पाया जा सकता है। यह जानकारी विवेकानंद पॉलीक्लीनिक एंड इंस्टीट्यूट ऑफ मेडिकल सांइसेज के सचिव स्वामी मुक्तिनाथानंद और आयुर्वेद विभाग के डॉ. विजय सेठ ने दी।
मंगलवार को पत्रकारों को जानकारी देते हुए स्वामी मुक्तिनाथानंद ने बताया कि माइग्रेन की परेशानी लगातार बढ़ रही है। इसकी तमाम वजह हैं। माइग्रेन के प्रकोप पर काबू पाने के लिए लोग दर्द निवारक दवाएं खाते हैं। पर, आयुर्वेद में इसका सटीक इलाज है। विवेकानंद में आयुर्वेद विभाग के डॉ. विजय सेठ ने कहा कि पंचकर्म के तहत सिरोधारा प्रक्रिया है। इसमें खास जड़ी बूटी से तैयार काढ़ा और तेल का इस्तेमाल किया जाता है। गुनगुना काढ़ा व तेल माथे के बीचो-बीच डालते हैं। 15 से 20 मिनट की प्रक्रिया से मरीज को राहत मिलती है। यह प्रक्रिया 25 से 30 दिन चलती है। इससे पहले शरीर को शुद्ध करने के लिए स्टीम बाथ समेत दूसरी प्रक्रिया भी की जाती है। सिरोधार के साथ आयुर्वेदिक दवाएं भी लेनी होती है। इससे बीमारी जड़ से खत्म होती है।
विवेकानंद हॉस्पिटल के सचिव स्वामी मुक्तिनाथानंद ने बताया कि आयुर्वेदिक पद्धति के प्रति लोगों का भरोसा बढ़ रहा है। आयुर्वेद चिकित्सा शिक्षा में भी तब्दीली आ रही है। अब जरूरत है शोध की जरूरत है। वह भी साक्ष्यों के साथ। आयुर्वेदिक डॉक्टर बड़ी-बड़ी बीमारियों का इलाज करते हैं। मरीजों का फायदा भी होता है लेकिन डॉक्टर उसका दस्तावेज तैयार नहीं करते हैं। यही वजह है कि अन्य मरीजों का भरोसा जीतने में कठिनाई होती है।

पंचकर्म में 50 प्रतिशत तक की छूट
डॉ. विजय सेठ ने बताया कि मरीजों को जागरुक करने के लिए आयुर्वेदिक स्वास्थ्य मेले का आयोजन किया जा रहा है। 24 से 26 नवम्बर तक मेला लगेगा। सुबह साढ़े नौ से शाम सात बजे तक मेला चलेगा। मेले का शुभारंभ कैबिनेट मंत्री बृजेश पाठक करेंगे। उन्होंने बताया कि पंचकर्म की फीस में 50 प्रतिशत तक की छूट प्रदान की जाएगी। इसका पंजीकरण शुरू हो गया है। 10 दिसम्बर तक पंजीकरण होंगे। उन्होंने बताया कि मेले में जोड़, गठिया, सांस, त्वचा, मुंहासे, डायबिटीज, मोटापा, लिवर व पाचन समेत दूसरी बीमारियों पर विशेषज्ञ सलाह देंगे। छूट पर व मुफ्त दवाएं भी हासिल कर सकेंगे।