27 C
Mumbai
Wednesday, August 12, 2020

'ऑपरेशन बंदर' ने मचाई थी बालाकोट में तबाही

विज्ञापन
Loading...

Must read

एनसीपी नेता माजिद मेनन ने कहा- मौत के बाद ज्यादा फेमस हुए सुशांत सिंह राजपूत

एनसीपी नेता माजिद मेमन ने बुधवार को कहा कि अभिनेता सुशांत सिंह राजपूत अपने जीवनकाल के दौरान उतने प्रसिद्ध नहीं थे, जितने मृत्यु...

नालासोपारा में ढहे 5 घर, ढह सकती हैं अन्य 180 और इमारतें

नालासोपारा : शहर के पूर्व स्थित काजू पाढ़ा इलाके में एक साथ पांच कमरे ढह जाने की बड़ी घटना सामने आई...

रूस के स्वास्थ्य मंत्री ने बताया, कब आएगा कोरोना वैक्सीन स्पूतनिक-V का पहला बैच

रूस के स्वास्थ्य मंत्री मिखाइल मुराशको ने बुधवार को बताया कि कोविड -19 की वैक्सीन  स्पूतनिक-V की पहला बैच दो हफ्तों के अंदर आ...

अमेरिका को रूस की टीके पर शक, कहा- कोरोना वैक्सीन बनाना कोई रेस तो नहीं

अमेरिकी स्वास्थ्य सचिव एलेक्स अजार का कहना है कि एक COVID-19 वैक्सीन विकसित करना कोई रेस नहीं है। बुधवार को ताइवान की यात्रा...
MCS Deskhttps://metrocitysamachar.com/
Latest Breaking News India, Express Headlines 2020, Political News - Metro City Samachar

नई दिल्ली
ने फरवरी में पाकिस्तान के बालाकोट में जैश-ए-मोहम्मद के आतंकी ठिकानों पर हमला किया था। इस ऑपरेशन की गोपनीयता बनाए रखने के लिए इसे एक कोडनेम दिया गया था। यह कोडनेम था ”। वायु सेना ने 12 मिराज-2000 फाइटर जेट को इस हमले को अंजाम देने के लिए भेजा था। हमले में जैश के आतंकी ठिकानों को काफी नुकसान पहुंचा था।

न्यूज एजेंसी एएनआई ने सूत्रों के हवाले से बताया, ‘गोपनीयता बनाए रखने और प्लान को लीक होने से बचाने के लिए बालाकोट ऑपरेशन को ‘ऑपरेशन बंदर’ कोडनेम दिया गया था।’ यह कोड नेम रखने के पीछे की वजह का खुलासा न करते हुए सूत्र ने बताया कि भारत के इतिहास में हुए युद्ध में बंदर का अहम योगदान रहा है। गौरतलब है कि रामायण के युद्ध में भी वानर सेना का अहम रोल था।

26 फरवरी को 12 मिराज-2000 ने कई एयर बेस से उड़ान भरी थी। ये फाइटर जेट पाकिस्तानी सीमा में घुसे और खैबर पख्तूनख्वा प्रांत के बालाकोट में जैश-ए-मोहम्मद के आतंकी ठिकानों पर हमला किया।

इस दौरान भारतीय वायु सेना के पायलट्स ने 5 स्पाइस 2000 बम फेंके थे। 4 बम उन बिल्डिंगों पर गिरे थे, जहां आतंकी सो रहे थे। आतंकियों पर यह हमला सुबह 3:30 पर हुआ था। हमला करने के कुछ मिनटों बाद ही भारतीय जेट अपने एयरबेस पर लौट आए थे।

जिस समय वायु सेना के मिराज आतंकियों पर कार्रवाई कर रह थे, उसी दौरान कुछ मिराज और सुखोई पाकिस्तान वायु सेना का ध्यान भटका रहे थे। ताकि पाकिस्तान की वायु सेना की तरफ से आतंकवादियों पर कार्रवाई में कोई बाधा न आए।

वायु सेना की तरफ से सरकार को दी गई जानकारी के मुताबिक, 80 प्रतिशत बम को सफलता पूर्वक अपने टारगेट पर फेंका गया है, जिससे आतंकी ठिकानों को पर्याप्त नुकसान पहुंचा है।

भारतीय वायु सेना ने कमांडो की एक टीम को भी स्टैंडबाय पर रखा था ताकि किसी भी आपातकालीन स्थिति से निपटा जा सके।

विज्ञापन
Loading...

More articles

- Advertisement -
- Advertisement -

Latest article

एनसीपी नेता माजिद मेनन ने कहा- मौत के बाद ज्यादा फेमस हुए सुशांत सिंह राजपूत

एनसीपी नेता माजिद मेमन ने बुधवार को कहा कि अभिनेता सुशांत सिंह राजपूत अपने जीवनकाल के दौरान उतने प्रसिद्ध नहीं थे, जितने मृत्यु...

नालासोपारा में ढहे 5 घर, ढह सकती हैं अन्य 180 और इमारतें

नालासोपारा : शहर के पूर्व स्थित काजू पाढ़ा इलाके में एक साथ पांच कमरे ढह जाने की बड़ी घटना सामने आई...

रूस के स्वास्थ्य मंत्री ने बताया, कब आएगा कोरोना वैक्सीन स्पूतनिक-V का पहला बैच

रूस के स्वास्थ्य मंत्री मिखाइल मुराशको ने बुधवार को बताया कि कोविड -19 की वैक्सीन  स्पूतनिक-V की पहला बैच दो हफ्तों के अंदर आ...

अमेरिका को रूस की टीके पर शक, कहा- कोरोना वैक्सीन बनाना कोई रेस तो नहीं

अमेरिकी स्वास्थ्य सचिव एलेक्स अजार का कहना है कि एक COVID-19 वैक्सीन विकसित करना कोई रेस नहीं है। बुधवार को ताइवान की यात्रा...

रूस की कोरोना वैक्सीन Sputnik-V पर क्यों उठ रहे हैं सवाल, क्यों दुनिया को नहीं हो रहा यकीन

कोरोना वायरस वैश्विक महामारी के करीब 9 महीने बाद दुनियाभर में पहली वैक्सीन आई है। रूस ने दावा किया है कि उसने कोरोना की...