26 C
Mumbai
Thursday, August 6, 2020

यहां किस्‍मत खुलने के लिए चढ़ाते हैं बंद ताले, जानें क्‍या है इसके पीछे का रहस्‍य

विज्ञापन
Loading...

Must read

अच्छी खबर! अपनी क्यारी- अपनी थाली योजना अब बिहार के सभी जिलों में

‘अपनी क्यारी- अपनी थाली’ योजना राज्य के चार जिलों में कोरोना से जंग में कामयाब रही तो अब सरकार उसके विस्तार की योजना...

कोविड-19 के गंभीर रूप से बीमार मरीजों के इलाज में कारगर साबित हुई नई दवा आरएलएफ-100

अमेरिका के ह्यूस्टन शहर में एक अस्पताल के डॉक्टरों ने आरएलएफ-100 नाम की नई दवा का इस्तेमाल किया है, जिससे गंभीर रूप से बीमार...

लेबनान की राजधानी बेरूत में हुए भीषण धमाके में यूपी की पत्रकार भी घायल

मंगलवार को लेबनान की राजधानी बेरूत में हुए भीषण विस्फोट में उत्तर प्रदेश के मेरठ की पत्रकार आंचल वोहरा भी घायल हो गई...

इमरान खान को करारा झटका: UNSC ने फिर कहा- द्विपक्षीय तरीके से हल करें कश्मीर मुद्दा

कश्मीर घाटी का अंतरराष्ट्रीयकरण करने की पाकिस्तान की कोशिशों को बुधवार को एक और करारा झटका लगा है। संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद (UNSC) ने...
MCS Deskhttps://metrocitysamachar.com/
Latest Breaking News India, Express Headlines 2020, Political News - Metro City Samachar


lock-temple3

अक्‍सर ही लोग मंदिरों में मां से अपनी बंद किस्‍मत के ताले खोलने की मन्‍नतें तो करते हैं। लेकिन क्‍या आपने यह सुना है कि कोई मंदिर में ताले ही लगाकर अपनी मन्‍नत मांगे। जी हां ऐसा ही एक मंदिर है कानपुर के बंगाली मोहाल मोहल्‍ले में और यह मंदिर भारत के अनोखे मंदिरों में से एक है। यह कब बना और किसने बनवाया? ये कोई नहीं जानता। मंदिर में मां काली की मूर्ति स्‍थापित है। आइए जानते हैं…

तो यूं लगा था मुरादों का पहला ताला
मंदिर के पुजारी बताते हैं कि दशकों पहले एक रोज ही मां की पूजा के लिए मंदिर आती थी। पूजा-आरती तो उसका रोज का नियम था लेकिन एक रोज किसी ने देखा कि वह मंदिर में ताला लगा रही थी। तो उसने जाकर पूछा कि आखिर वह ताला क्‍यों लगा रही है तब महिला ने जवाब दिया कि उसे सपने में मातारानी ने दर्शन दिया था और ताला लगाने को कहा है। उन्‍होंने कहा कि इसे मेरी मुरादें पूरी हो जाएंगी और सारी समस्‍याएं दूर हो जाएंगी। इसके बाद वह कभी भी मंदिर परिसर में नजर नहीं आई। लेकिन कई सालों बाद वह ताला मंदिर से गायब था और दीवार पर लिखा था कि उसकी मुराद पूरी हो गई है इसके लिए ही उसने ताला खोल दिया है और उसे अपने साथ ले जा रही है।

यह पढ़ें : इस मंदिर में देवी मां करती हैं बातें, जानें क्‍या है रहस्‍य?

यूं नहीं खुलता मन्‍नतों का यह ताला
बताते हैं कि मन्‍नतें पूरी होने के बाद भक्‍त पूरे विधि-विधान से मां की पूजा- अर्चना करते हैं और फिर ताला खोलते हैं। इसके बाद वह दीवार पर अपनी मुराद पूरी होने की भी बात लिखते हैं। बता दें कि भारत के कोने-कोने से यहां पर भक्‍त आते हैं और बंद किस्‍मत का ताला खुलने की अर्जी लग‍ाकर मंदिर में ताला बंद करके लगाते हैं। इसके बाद जैसे ही अर्जी पूरी होती है वह ताला खोलकर दीवार पर लिखते हैं।

यह पढ़ें: हैरान करने वाला है टिटलागढ़ का यह शिव मंदिर, जानें क्‍या है वजह?

मां नहीं करवाती ज्‍यादा इंतजार
पुजारी और भक्‍तजन बताते हैं कि मंदिर में मन्‍नतों का ताला जब लगता है तो मां भी अपने भक्‍तों की किस्‍मत के ताले जल्‍दी ही खोल देती हैं। यही वजह है कि मन्‍नत पूरी होते ही भक्‍त जल्‍दी से जल्‍दी इस ताले को खोलने के लिए आते हैं। हालांकि मंदिर कब और किसने बनवाया? यह कोई नहीं जानता। पुजारी भी बताते हैं कि उन्‍हें भी उनके पुरखों ने बताया है कि यह मंदिर दशकों पहले स्‍थापित हुआ था।

यह पढ़ें: यहां मंदिरों में नहीं तन-मन में बसते हैं श्रीराम, जानें पूरी कहानी

विज्ञापन
Loading...

More articles

- Advertisement -
- Advertisement -

Latest article

अच्छी खबर! अपनी क्यारी- अपनी थाली योजना अब बिहार के सभी जिलों में

‘अपनी क्यारी- अपनी थाली’ योजना राज्य के चार जिलों में कोरोना से जंग में कामयाब रही तो अब सरकार उसके विस्तार की योजना...

कोविड-19 के गंभीर रूप से बीमार मरीजों के इलाज में कारगर साबित हुई नई दवा आरएलएफ-100

अमेरिका के ह्यूस्टन शहर में एक अस्पताल के डॉक्टरों ने आरएलएफ-100 नाम की नई दवा का इस्तेमाल किया है, जिससे गंभीर रूप से बीमार...

लेबनान की राजधानी बेरूत में हुए भीषण धमाके में यूपी की पत्रकार भी घायल

मंगलवार को लेबनान की राजधानी बेरूत में हुए भीषण विस्फोट में उत्तर प्रदेश के मेरठ की पत्रकार आंचल वोहरा भी घायल हो गई...

इमरान खान को करारा झटका: UNSC ने फिर कहा- द्विपक्षीय तरीके से हल करें कश्मीर मुद्दा

कश्मीर घाटी का अंतरराष्ट्रीयकरण करने की पाकिस्तान की कोशिशों को बुधवार को एक और करारा झटका लगा है। संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद (UNSC) ने...

लॉकडाउन के बाद बढ़ गया बोझ, रोजाना 48 मिनट ज्यादा काम कर रहे लोग

लॉकडाउन के कारण आई आर्थिक चिंताओं ने लोगों पर काम का बोझ बढ़ा दिया। हार्वर्ड और एनवाईयू संस्थानों के विशेषज्ञों ने अपने अध्ययन...