26 C
Mumbai
Thursday, August 6, 2020

महिलाएं अब स्क्रीन पर पुरुषों के लिए सिर्फ सहारा नहीं: जेनिफर विंगेट

विज्ञापन
Loading...

Must read

अच्छी खबर! अपनी क्यारी- अपनी थाली योजना अब बिहार के सभी जिलों में

‘अपनी क्यारी- अपनी थाली’ योजना राज्य के चार जिलों में कोरोना से जंग में कामयाब रही तो अब सरकार उसके विस्तार की योजना...

कोविड-19 के गंभीर रूप से बीमार मरीजों के इलाज में कारगर साबित हुई नई दवा आरएलएफ-100

अमेरिका के ह्यूस्टन शहर में एक अस्पताल के डॉक्टरों ने आरएलएफ-100 नाम की नई दवा का इस्तेमाल किया है, जिससे गंभीर रूप से बीमार...

लेबनान की राजधानी बेरूत में हुए भीषण धमाके में यूपी की पत्रकार भी घायल

मंगलवार को लेबनान की राजधानी बेरूत में हुए भीषण विस्फोट में उत्तर प्रदेश के मेरठ की पत्रकार आंचल वोहरा भी घायल हो गई...

इमरान खान को करारा झटका: UNSC ने फिर कहा- द्विपक्षीय तरीके से हल करें कश्मीर मुद्दा

कश्मीर घाटी का अंतरराष्ट्रीयकरण करने की पाकिस्तान की कोशिशों को बुधवार को एक और करारा झटका लगा है। संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद (UNSC) ने...
MCS Deskhttps://metrocitysamachar.com/
Latest Breaking News India, Express Headlines 2020, Political News - Metro City Samachar

अभिनेत्री जेनिफर विंगेट कहती हैं कि यह यह अच्छी बात है कि स्क्रीन पर महिलाओं को अब दरकिनार नहीं किया जा रहा। अब उन्हें ज्यादा मजबूत भूमिकाएं दी जा रही हैं। 

सल जिंदगी में अपनी जिद पर जीने वाली जेनिफर विंगेट किस्मत की धनी हैं कि उन्हें स्क्रीन पर भी इसी तरह की भूमिकाएं निभाने को मिली हैं। धारावाहिक ‘सरस्वतीचंद्र’ में एक गुजराती लड़की, ‘बेहद’ में एक जुनूनी  प्रेमी, ‘बेपनाह’ में एक साधारण मुस्लिम लड़की। उनके करियर के ग्राफ में वे शो और भूमिकाएं दर्ज हैं, जिनसे उनकी प्रोफाइल और चमकी है। अब तक के निभाए किरदार को लेकर खुद जेनिफर कहती हैं, ‘अब तक मैंने जो भी भूमिकाएं की हैं, वे मुझे एक पायदान ऊपर ही ले गई हैं। इसके लिए मैं बहुत शुक्रगुजार हूं। जब मैंने करियर की शुरुआत की थी, तब मुझे चुनने का वक्त भी नहीं मिला। लेकिन जो भी रोल मुझे मिले, सब अच्छे थे और अलग थे। मुझे लगता है कि भगवान हमेशा मेरे पीछे खड़े रहे, इसलिए मेरे सारे काम बहुत अच्छे तरीके से हुए।’

अभी भी मिलते हैं हॉरर फिल्मों के प्रस्ताव : बिपाशा

दि लायन किंग का हिस्सा बनकर खुश हूं : अरमान मलिक

इंडस्ट्री में कई साल बिता चुकीं अभिनेत्री जेनिफर ने स्वीकार किया कि अब वह अपने रोल को लेकर थोड़ा सर्तक हो रही हैं कि उन्हें आगे क्या करना है। अपनी पहली वेब शृंखला में एक सैन्य अधिकारी की भूमिका निभाने के लिए पूरी तरह से तैयार जेनिफर ने कहा, ‘दरअसल मैं न तो खुद से संतुष्ट होना चाहती हूं और न ही किसी एक चीज में बंधना चाहती हूं। जिंदगी में मेरी दिलचस्पी बढ़ने और खुद को जितना हो सके, फिर से परिभाषित करने के लिए है।’  

उन्होंने गुजरे दौर में महिलाओं को ज्यादातर किसी की प्रेमिका या गृहिणी के रूप में दिखाए जाने के चलन का जिक्र करते हुए कहा, ‘मुझे खुशी है  कि अतीत के विपरीत मेरे लिए बेहतर और मजबूत भूमिकाएं लिखी जा रही हैं। यह देखना प्रेरक है कि महिलाएं अब और दरकिनार नहीं की जा रही हैं।  आखिरकार स्क्रीन पर वो अपना गौरवपूर्ण स्थान पा रही हैं। महिलाओं को अब पुरुषों के लिए समर्थन का जरिया नहीं बनना चाहिए। अब वे भी नायक हो सकती हैं, अपनी लड़ाइयां लड़ सकती हैं, अपनी रक्षा कर सकती हैं…।’ उन्होंने कहा, ‘हालांकि अभी भी हमारे आगे एक लंबी सड़क है, लेकिन कम-से-कम हमने बदलाव की शुरुआत तो की है। और यह इस इंडस्ट्री के लिए अच्छा संकेत है।’

अपनी पहली वेब शृंखला करने में कितना समय लगा?  इस सवाल के जवाब में जेनिफर कहती हैं, ‘व्यस्त टीवी शेड्यूल ने मुझे डिजिटल स्पेस में कदम रखने से दूर रखा। लेकिन अब मैं न सिर्फ एक अभिनेत्री के रूप में, बल्कि अपने विकास के लिए भी प्रयोग करने को तैयार हूं। मुझे चीजों को रफ्तार देना पसंद है। और सच कहूं तो मैं इंतजार नहीं कर रही थी, बस कुछ ऐसा करना चाहती थी, जो मुझे आगे बढ़ने में मदद करे। मेरे ताज में एक और हीरा जड़ने के लिए एक चुनौती पर्याप्त है। मेरा मानना है कि तमाम अच्छी चीजें तय वक्त पर ही आपको मिलती हैं। जिस मुकाम पर मैं हूं, मुझे नहीं लगता कि मैंने कुछ भी गंवाया है। मैं वही हूं, जहां मुझे होना है। मैं अपने काम से भी संतुष्ट हूं।’ 

विज्ञापन
Loading...

More articles

- Advertisement -
- Advertisement -

Latest article

अच्छी खबर! अपनी क्यारी- अपनी थाली योजना अब बिहार के सभी जिलों में

‘अपनी क्यारी- अपनी थाली’ योजना राज्य के चार जिलों में कोरोना से जंग में कामयाब रही तो अब सरकार उसके विस्तार की योजना...

कोविड-19 के गंभीर रूप से बीमार मरीजों के इलाज में कारगर साबित हुई नई दवा आरएलएफ-100

अमेरिका के ह्यूस्टन शहर में एक अस्पताल के डॉक्टरों ने आरएलएफ-100 नाम की नई दवा का इस्तेमाल किया है, जिससे गंभीर रूप से बीमार...

लेबनान की राजधानी बेरूत में हुए भीषण धमाके में यूपी की पत्रकार भी घायल

मंगलवार को लेबनान की राजधानी बेरूत में हुए भीषण विस्फोट में उत्तर प्रदेश के मेरठ की पत्रकार आंचल वोहरा भी घायल हो गई...

इमरान खान को करारा झटका: UNSC ने फिर कहा- द्विपक्षीय तरीके से हल करें कश्मीर मुद्दा

कश्मीर घाटी का अंतरराष्ट्रीयकरण करने की पाकिस्तान की कोशिशों को बुधवार को एक और करारा झटका लगा है। संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद (UNSC) ने...

लॉकडाउन के बाद बढ़ गया बोझ, रोजाना 48 मिनट ज्यादा काम कर रहे लोग

लॉकडाउन के कारण आई आर्थिक चिंताओं ने लोगों पर काम का बोझ बढ़ा दिया। हार्वर्ड और एनवाईयू संस्थानों के विशेषज्ञों ने अपने अध्ययन...