27 C
Mumbai
Wednesday, August 12, 2020

गुरु पूर्णिमा के दिन हुआ था महर्षि वेदव्यास का जन्म , जानें उनसे जुड़ी ये खास बातें

विज्ञापन
Loading...

Must read

नालासोपारा में ढहे 5 घर, ढह सकती हैं अन्य 180 और इमारतें

नालासोपारा : शहर के पूर्व स्थित काजू पाढ़ा इलाके में एक साथ पांच कमरे ढह जाने की बड़ी घटना सामने आई...

रूस के स्वास्थ्य मंत्री ने बताया, कब आएगा कोरोना वैक्सीन स्पूतनिक-V का पहला बैच

रूस के स्वास्थ्य मंत्री मिखाइल मुराशको ने बुधवार को बताया कि कोविड -19 की वैक्सीन  स्पूतनिक-V की पहला बैच दो हफ्तों के अंदर आ...

अमेरिका को रूस की टीके पर शक, कहा- कोरोना वैक्सीन बनाना कोई रेस तो नहीं

अमेरिकी स्वास्थ्य सचिव एलेक्स अजार का कहना है कि एक COVID-19 वैक्सीन विकसित करना कोई रेस नहीं है। बुधवार को ताइवान की यात्रा...

रूस की कोरोना वैक्सीन Sputnik-V पर क्यों उठ रहे हैं सवाल, क्यों दुनिया को नहीं हो रहा यकीन

कोरोना वायरस वैश्विक महामारी के करीब 9 महीने बाद दुनियाभर में पहली वैक्सीन आई है। रूस ने दावा किया है कि उसने कोरोना की...
MCS Deskhttps://metrocitysamachar.com/
Latest Breaking News India, Express Headlines 2020, Political News - Metro City Samachar

आषाढ़ पूर्णिमा को गुरु पूर्णिमा के रूप में मनाए जाने के कई ऐतिहासिक पौराणिक कारण हैं। स्कन्द पुराण के अनुसार हजारों वर्ष पहले इसी तिथि पर आदि गुरु शिव ने सप्तऋषियों को ब्रह्म के बारे में ज्ञानोपदेश देना आरंभ किया था तबसे आषाढ़ पूर्णिमा को गुरु पूर्णिमा के रूप में मनाया जाने लगा। इसी तिथि को गौतम बुद्ध तथा जैन तीर्थंकर महावीर ने अपने प्रथम शिष्य बनाए और गुरु के रूप में अपने कार्य की शुरुआत की। यह दिन बौद्ध धर्म तथा जैन धर्म के अनुयायियों के लिए भी पवित्र है।  

महर्षि वेदव्यास का हुआ था जन्म
मान्यता है कि आषाढ़ शुक्ल पूर्णिमा के दिन ही ब्रह्मसूत्र, महाभारत, श्रीमद्भागवत और 18 पुराण जैसे अद्भुत साहित्यों की रचना करने वाले महर्षि वेदव्यास का जन्म हुआ था। इसलिए इस पर्व को गुरु व व्यास पूर्णिमा भी कहते हैं। हमें अपने गुरुओं को व्यास जी का अंश मानकर उनकी पूजा करनी चाहिए। ज्योतिषाचार्य पंडित राजनाथ झा के मुताबिक सदियों से चली आ रही गुरु शिष्य की परंपरा का निवर्हन गुरु पूर्णिमा पर देखने को मिलता है। शिष्य देश-विदेश में कहीं भी हो इस मौके पर गुरु पूजन के लिए अवश्य पहुंचते हैं। राजधानी पटना के गुरु बलराम के शिष्य देशभर में हैं। पर गुरु पूर्णिमा पर उनके शिष्य गुरु पूजन को पटना स्थित मातृउदबोधन आश्रम जरूर पहुंचते हैं। हालांकि गुरु बलराम ब्रह्मलीन हो चुके हैं।  चार भागों में वेदों को विभक्त किया  महर्षि वेदव्यास ऋषि पराशर के पुत्र थे। हिन्दू धर्म शास्त्रों के अनुसार महर्षि व्यास तीनों कालों के ज्ञाता थे। उन्होंने अपनी दिव्य दृष्टि से देख कर यह जान लिया था कि कलियुग में धर्म के प्रति लोगों की रुचि कम हो जाएगी। मनुष्य ईश्वर में विश्वास न रखने वाला, कर्तव्य से विमुख और कम आयु वाला हो जाएगा। एक बड़े और सम्पूर्ण वेद का अध्ययन करना उसके बस की बात नहीं होगी। इसलिये महर्षि व्यास ने वेद को चार भागों में बांट दिया। व्यास ने वेदों को अलग-अलग खण्डों में बांटने के बाद उनका नाम ऋग्वेद, यजुर्वेद, सामवेद और अथर्वेद रखा। वेदों का इस प्रकार विभाजन करने के कारण ही वह वेद व्यास के नाम से प्रसिद्ध हुए। उन्होंने ऋग्वेद, यजुर्वेद, सामवेद और अथर्वेद का ज्ञान अपने प्रिय शिष्यों वैशम्पायन, सुमन्तुमुनि, पैल और जैमिन को दिया।

विज्ञापन
Loading...

More articles

- Advertisement -
- Advertisement -

Latest article

नालासोपारा में ढहे 5 घर, ढह सकती हैं अन्य 180 और इमारतें

नालासोपारा : शहर के पूर्व स्थित काजू पाढ़ा इलाके में एक साथ पांच कमरे ढह जाने की बड़ी घटना सामने आई...

रूस के स्वास्थ्य मंत्री ने बताया, कब आएगा कोरोना वैक्सीन स्पूतनिक-V का पहला बैच

रूस के स्वास्थ्य मंत्री मिखाइल मुराशको ने बुधवार को बताया कि कोविड -19 की वैक्सीन  स्पूतनिक-V की पहला बैच दो हफ्तों के अंदर आ...

अमेरिका को रूस की टीके पर शक, कहा- कोरोना वैक्सीन बनाना कोई रेस तो नहीं

अमेरिकी स्वास्थ्य सचिव एलेक्स अजार का कहना है कि एक COVID-19 वैक्सीन विकसित करना कोई रेस नहीं है। बुधवार को ताइवान की यात्रा...

रूस की कोरोना वैक्सीन Sputnik-V पर क्यों उठ रहे हैं सवाल, क्यों दुनिया को नहीं हो रहा यकीन

कोरोना वायरस वैश्विक महामारी के करीब 9 महीने बाद दुनियाभर में पहली वैक्सीन आई है। रूस ने दावा किया है कि उसने कोरोना की...

जोधपुर में 11 लोगों की मौत मामला: ‘PAK से बचने को भारत आए और यहां इज्जत बचाने के लिए दी जान’

पाकिस्तान से आए परिवार के 11 लोगों की मौत के मामले में पुलिस को मौके से मिले सुसाइड नोट में जोधपुर की मंडोर...