27 C
Mumbai
Wednesday, August 12, 2020

श्रीलंका के राष्ट्रपति का आरोप, तमिलों के लिए काम नहीं कर रहे पीएम विक्रमसिंघे

विज्ञापन
Loading...

Must read

रूस के स्वास्थ्य मंत्री ने बताया, कब आएगा कोरोना वैक्सीन स्पूतनिक-V का पहला बैच

रूस के स्वास्थ्य मंत्री मिखाइल मुराशको ने बुधवार को बताया कि कोविड -19 की वैक्सीन  स्पूतनिक-V की पहला बैच दो हफ्तों के अंदर आ...

अमेरिका को रूस की टीके पर शक, कहा- कोरोना वैक्सीन बनाना कोई रेस तो नहीं

अमेरिकी स्वास्थ्य सचिव एलेक्स अजार का कहना है कि एक COVID-19 वैक्सीन विकसित करना कोई रेस नहीं है। बुधवार को ताइवान की यात्रा...

रूस की कोरोना वैक्सीन Sputnik-V पर क्यों उठ रहे हैं सवाल, क्यों दुनिया को नहीं हो रहा यकीन

कोरोना वायरस वैश्विक महामारी के करीब 9 महीने बाद दुनियाभर में पहली वैक्सीन आई है। रूस ने दावा किया है कि उसने कोरोना की...

जोधपुर में 11 लोगों की मौत मामला: ‘PAK से बचने को भारत आए और यहां इज्जत बचाने के लिए दी जान’

पाकिस्तान से आए परिवार के 11 लोगों की मौत के मामले में पुलिस को मौके से मिले सुसाइड नोट में जोधपुर की मंडोर...
MCS Deskhttps://metrocitysamachar.com/
Latest Breaking News India, Express Headlines 2020, Political News - Metro City Samachar

श्रीलंका के राष्ट्रपति मैत्रीपाला सिरीसेना ने प्रधानमंत्री रानिल विक्रमसिंघे की पार्टी पर अल्पसंख्यक तमिल समुदाय की समस्याओं को सुलझाने के लिए संविधान में बदलाव के लिए पर्याप्त कार्य नहीं करने का आरोप लगाया। तमिल मुद्दे के समाधान के लिए नया संविधान बनाने के इरादे से वर्ष 2015 में राष्ट्रपति सिरिसेना और प्रधानमंत्री विक्रमसिंघे ने गठबंधन सरकार बनाई।

तमिल बहुल जाफना में शुक्रवार को एक जनसभा को संबोधित करते हुए सिरिसेना ने कहा, ”सरकार के इस सज्जन ने नया संविधान बनाने की कोशिश में चार साल बर्बाद कर दिए। वे तमिल जनता की उम्मीदों को पूरा करने में असफल रहे। यह मेरी गलती नहीं है।” उनका इशारा विक्रमसिंघे की पार्टी यूनाइटेड नेशनल पार्टी (यूएनपी) की तरफ था।

सिरिसेना ने संविधान में हुए 19वें संशोधन की भी आलोचना की जिसके जरिये राष्ट्रपति के अधिकारों में कटौती की गई है। सिरिसेना ने कहा, 19ए ने राष्ट्रपति, प्रधानमंत्री और संसद के अध्यक्ष की तीन समानांतर सरकारें बना दी है। वर्ष 2015 में हुए चुनाव में सिरिसेना का यह अहम चुनावी मुद्दा था। सिरिसेना का यह बयान आठ दिसंबर को होने वाले राष्ट्रपति चुनाव से पहले आया है।

गौरतलब है कि श्रीलंका के उत्तरी और पूर्वी इलाके को अलग कर अलग देश बनाने के लिए लिबरेशन टाइगर्स ऑफ तमिल ईलम (एलटीटीई) 30 साल से सैन्य अभियान चला रहा था, 2009 में श्रीलंका की सेना के हाथों वेलुपिल्लई प्रभाकरण की मौत के बाद यह गृहयु्द्ध समाप्त हुआ।

विज्ञापन
Loading...

More articles

- Advertisement -
- Advertisement -

Latest article

रूस के स्वास्थ्य मंत्री ने बताया, कब आएगा कोरोना वैक्सीन स्पूतनिक-V का पहला बैच

रूस के स्वास्थ्य मंत्री मिखाइल मुराशको ने बुधवार को बताया कि कोविड -19 की वैक्सीन  स्पूतनिक-V की पहला बैच दो हफ्तों के अंदर आ...

अमेरिका को रूस की टीके पर शक, कहा- कोरोना वैक्सीन बनाना कोई रेस तो नहीं

अमेरिकी स्वास्थ्य सचिव एलेक्स अजार का कहना है कि एक COVID-19 वैक्सीन विकसित करना कोई रेस नहीं है। बुधवार को ताइवान की यात्रा...

रूस की कोरोना वैक्सीन Sputnik-V पर क्यों उठ रहे हैं सवाल, क्यों दुनिया को नहीं हो रहा यकीन

कोरोना वायरस वैश्विक महामारी के करीब 9 महीने बाद दुनियाभर में पहली वैक्सीन आई है। रूस ने दावा किया है कि उसने कोरोना की...

जोधपुर में 11 लोगों की मौत मामला: ‘PAK से बचने को भारत आए और यहां इज्जत बचाने के लिए दी जान’

पाकिस्तान से आए परिवार के 11 लोगों की मौत के मामले में पुलिस को मौके से मिले सुसाइड नोट में जोधपुर की मंडोर...

कैसे हुआ पाकिस्तान-सऊदी के बीच दोस्ती का दी एंड, क्यों अपने ही पैर पर पाक ने मारी कुल्हाड़ी, पढ़ें इनसाइड स्टोरी

कश्मीर मसले पर पाकिस्तान की बेकार जिद ने उसे कहीं का नहीं छोड़ा है। उसके दशकों पुराने मित्र सऊदी अरब ने भी अब उसका...