30 C
Mumbai
Tuesday, October 20, 2020

केंद्र ने राज्यों से कहा- पराली जलाने को रोकने के लिए जिम्मेदारी से करें काम

विज्ञापन
Loading...

Must read

नालासोपारा : कोरोना योद्धाओं को कोरोना किट वितरित

नालासोपारा :आज जहां पूरा विश्व कोरोना संकट से जूझ रहा है वहीं पत्रकारों की भूमिका किसी योद्धा से कम नहीं है मार्च महीने से...

गोल्ड लोन के लिए पति ने मांगे गहने तो पत्नी ने दे दी तलाक की धमकी

यूं तो गहनों से महिलाओं को बहुत प्यार होता है, लेकिन गहनों को लेकर बात तलाक तक पहुंच जाए, ऐसा शायद ही कभी...

कमला हैरिस को दिखाया दुर्गा, ट्रंप को महिषासुर… अमेरिकी चुनाव में पोस्टर पर बवाल

अमेरिका में हिंदू समूहों ने सीनेटर कमला हैरिस की रिश्तेदार को एक आपत्तिजनक तस्वीर ट्वीट करने पर माफी मांगने के लिए कहा है। इस...
MCS Deskhttps://metrocitysamachar.com/
Latest Breaking News India, Express Headlines 2020, Political News - Metro City Samachar

केंद्र सरकार ने दिल्ली के पड़ोसी राज्यों पंजाब और हरियाणा से गुरुवार को अपील की कि वे प्रदूषण नियंत्रित करने की दिशा में धान की पराली जलाए जाने से रोकने के लिए पूरी गंभीरता और जिम्मेदारी से काम करें.

केंद्रीय पर्यावरण, विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी मंत्री हर्षवर्धन ने कहा कि केंद्र सरकार हर स्तर पर मामले की निगरानी कर रही है. उन्होंने पत्रकारों से कहा, ‘मैं अपील और प्रार्थना कर रहा हूं. मुझे उम्मीद भी है कि राज्य इस मुद्दे पर पहले की अपेक्षा अधिक गंभीरता और जिम्मेदारी से काम करेंगे.’

उन्होंने कहा कि मंत्रालय ने राज्यों के मंत्रियों और अधिकारियों से इस बारे में बैठकें की हैं और किसानों को जरूरी उपकरण 15 अक्टूबर तक बांटने को कहा है.

हर्षवर्धन ने कहा कि इसके लिए केंद्र सरकार पहले ही 500-600 करोड़ रुपए दे चुकी है. उन्होंने कहा कि राज्यों से इस मसले पर गंभीरता से काम करने को कहा गया है. उन्होंने कहा कि नौ अक्टूबर तक के आंकड़ों के अनुसार पराली जलाने के मामले इस साल 2016 और 2017 की तुलना में काफी कम रहे हैं.

केंद्र सरकार के राज्यों के संपर्क में होने की बात कहते हुए मंत्री ने कहा, ‘यह एक ऐसा मुद्दा है जिसके लिए हमें जागरूकता और सामाजिक कार्यक्रम बढ़ाने की जरूरत है. सरकार को बेहद सतर्क रहने की जरूरत है.’ उन्होंने कहा कि यदि दिल्ली इस कारण दिक्कत में होती है तो देश की अंतरराष्ट्रीय छवि खराब होती है.

हर्षवर्धन ने कहा, ‘किसानों और राज्यों के लिए संदेश बेहद साफ है कि यदि पंजाब और हरियाणा में पराली जलाई जाती है तो सिर्फ दिल्ली पर प्रभाव नहीं पड़ेगा. उन राज्यों में भी हवा प्रदूषित होगी और लोग फेफड़े की बीमारी और सांस की दिक्कतों से प्रभावित होंगे. इसलिए लोगों को स्वस्थ रखना हर किसी की जिम्मेदारी है.’

यह पूछे जाने पर कि क्या पंजाब इस मुद्दे पर सहमत नहीं होगा, उन्होंने कहा, ‘मैं एक आशावादी इंसान हूं और वे क्यों सहमत नहीं होंगे? यह किसी का व्यक्तिगत एजेंडा नहीं होकर सभी लोगों का एजेंडा है.’

बता दें कि दिल्ली की आबोहवा फिर से खराब होने लगी है. हरियाणा और पंजाब के किसानों ने पराली जलाना शुरू कर दिया है, जिसका असर दिल्ली-एनसीआर की हवा में दिखने लगा है.

विज्ञापन
Loading...

More articles

- Advertisement -
- Advertisement -

Latest article

नालासोपारा : कोरोना योद्धाओं को कोरोना किट वितरित

नालासोपारा :आज जहां पूरा विश्व कोरोना संकट से जूझ रहा है वहीं पत्रकारों की भूमिका किसी योद्धा से कम नहीं है मार्च महीने से...

गोल्ड लोन के लिए पति ने मांगे गहने तो पत्नी ने दे दी तलाक की धमकी

यूं तो गहनों से महिलाओं को बहुत प्यार होता है, लेकिन गहनों को लेकर बात तलाक तक पहुंच जाए, ऐसा शायद ही कभी...

कमला हैरिस को दिखाया दुर्गा, ट्रंप को महिषासुर… अमेरिकी चुनाव में पोस्टर पर बवाल

अमेरिका में हिंदू समूहों ने सीनेटर कमला हैरिस की रिश्तेदार को एक आपत्तिजनक तस्वीर ट्वीट करने पर माफी मांगने के लिए कहा है। इस...

पीएम मोदी के संबोधन से पहले राहुल गांधी का ट्वीट, प्रधानमंत्री बताएं किस तारीख को चीनी सैनिकों को सीमा से बाहर निकाल रहे

कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के राष्ट्र के नाम संबोधन से पहले मंगलवार को कहा कि प्रधानमंत्री को...