28 C
Mumbai
Sunday, August 9, 2020

कैलाश से कम नहीं है औरंगाबाद का शिव धाम, मंदिर को बनाने में लगे थे 100 साल

विज्ञापन
Loading...

Must read

प्रदर्शनकारियों ने लेबनान के विदेश मंत्रालय पर बोला धावा, पुलिस ने दागे आंसू गैस के गोले

लेबनान में प्रदर्शनकारियों के एक समूह ने शनिवार (8 अगस्त) को राजधानी में विदेश मंत्रालय की इमारत पर धावा बोल दिया। उन्हें रोकने के...

केरल के इडुक्की में लैंडस्लाइड वाले स्थान से 26 शव बरामद, 46 अब भी लापता

केरल के इडुक्की जिले में भूस्खलन की घटना के बाद मलबे से अब तक 26 शव बरामद किए गए हैं, जबकि लापता लोगों...

महिंदा राजपक्षे चौथी बार लेंगे श्रीलंका के प्रधानमंत्री पद की शपथ

श्रीलंका के पूर्व राष्ट्रपति महिंदा राजपक्षे रविवार (9 अगस्त) को एक ऐतिहासिक बौद्ध विहार में देश के प्रधानमंत्री के रूप में चौथी बार शपथ...

हरदीप पुरी बोले, कुछ लोगों ने बिना पता लगाए केरल विमान हादसे पर उठाए सवाल

केरल के कोझीकोड में रनवे पर एयर इंडिया एक्सप्रेस के विमान फिसलने और उसके खाई में जाने के बाद दो टुकड़ों में बंटने...
MCS Deskhttps://metrocitysamachar.com/
Latest Breaking News India, Express Headlines 2020, Political News - Metro City Samachar

नई दिल्ली। देश में कई अद्भुत और चमत्कारिक (Miracle) मंदिर है। सबकी अलग-अलग मान्यताएं हैं। इन्हीं में से एक है औरंगाबाद स्थित शिव मंदिर (Shiv Temple)। चूंकि ये एलोरा (Ellora Caves) की गुफाओं में है इसलिए इसे एलोरा के कैलाश मंदिर के नाम से जाना जाता है। बताया जाता है कि इस मंदिर का महत्व कैलाश पर्वत से कम नहीं है। तभी इसका आकार काफी कुछ वैसा ही रखा गया है।

276 फीट लंबे और, 154 फीट चौड़े इस मंदिर की खासियत ये है कि इसे केवल एक ही चट्टान को काटकर बनाया गया है। यह मंदिर दो या तीन मंजिला इमारत के बराबर है। बताया जाता है कि इस मंदिर के निर्माण (Construction) में जिस चट्टान का इस्तेमाल किया गया था उसका वजन करीब 40 हजार टन था। यह मंदिर भगवान शिव को समर्पित है। मान्यता है कि यहां दर्शन करने वाले भक्त को वैसा ही फल मिलता है, जैसे कैलाश पर्वत के दर्शन पर जाने पर। इसलिए जो लोग कैलाश नहीं जा पाते हैं, वे यहां दर्शन के लिए आते हैं।

इस अद्भुत शिव धाम को बनने में लगभग 100 साल से ज्यादा का वक्त लगा। इसके निर्माण कार्य की शुरुआत मालखेड स्थित राष्ट्रकूट वंश के नरेश कृष्ण (प्रथम) (757-783 ई.) ने शुरु करवाया था। इसे बनाने में करीब 7000 मजदूरों ने दिन-रात काम किया था। इस मंदिर में देश-विदेश से सैकड़ों लोग दर्शन के लिए आते हैं, लेकिन हैरानी की बात यह है कि यहां एक भी पुजारी नहीं है। आज तक कभी पूजा नहीं हुई। यूनेस्को ने 1983 में ही इस जगह को ‘विश्व विरासत स्थल’ घोषित किया है।

विज्ञापन
Loading...

More articles

- Advertisement -
- Advertisement -

Latest article

प्रदर्शनकारियों ने लेबनान के विदेश मंत्रालय पर बोला धावा, पुलिस ने दागे आंसू गैस के गोले

लेबनान में प्रदर्शनकारियों के एक समूह ने शनिवार (8 अगस्त) को राजधानी में विदेश मंत्रालय की इमारत पर धावा बोल दिया। उन्हें रोकने के...

केरल के इडुक्की में लैंडस्लाइड वाले स्थान से 26 शव बरामद, 46 अब भी लापता

केरल के इडुक्की जिले में भूस्खलन की घटना के बाद मलबे से अब तक 26 शव बरामद किए गए हैं, जबकि लापता लोगों...

महिंदा राजपक्षे चौथी बार लेंगे श्रीलंका के प्रधानमंत्री पद की शपथ

श्रीलंका के पूर्व राष्ट्रपति महिंदा राजपक्षे रविवार (9 अगस्त) को एक ऐतिहासिक बौद्ध विहार में देश के प्रधानमंत्री के रूप में चौथी बार शपथ...

हरदीप पुरी बोले, कुछ लोगों ने बिना पता लगाए केरल विमान हादसे पर उठाए सवाल

केरल के कोझीकोड में रनवे पर एयर इंडिया एक्सप्रेस के विमान फिसलने और उसके खाई में जाने के बाद दो टुकड़ों में बंटने...

सिंधु जल संधि: विश्व बैंक ने निष्पक्ष विशेषज्ञ या मध्यस्थता अदालत नियुक्त करने में असमर्थता जताई

विश्व बैंक ने भारत और पाकिस्तान के बीच लंबे समय से लंबित जल विवाद के समाधान के लिये एक निष्पक्ष विशेषज्ञ या मध्यस्थता अदालत...