Deprecated: jetpack_enable_opengraph is deprecated since version 2.0.3! Use jetpack_enable_open_graph instead. in /opt/bitnami/apps/wordpress/htdocs/wp-includes/functions.php on line 4773
27.5 C
Mumbai
Tuesday, October 27, 2020

कैलाश से कम नहीं है औरंगाबाद का शिव धाम, मंदिर को बनाने में लगे थे 100 साल

विज्ञापन
Loading...

Must read

महबूबा मुफ्ती को परिवार के साथ पाकिस्तान चले जाना चाहिए: गुजरात के उप मुख्यमंत्री नितिन पटेल

जम्मू-कश्मीर से आर्टिकल 370 समाप्त करने को लेकर पीडीपी अध्यक्ष महबूबा मुफ्ती के हालिया बयान पर नाराजगी जताते हुए गुजरात के उप मुख्यमंत्री...

हाथरस गैंगरेप मामला दिल्ली ट्रांसफर होगा या नहीं, सुप्रीम कोर्ट आज सुनाएगा फैसला

सुप्रीम कोर्ट द्वारा आज कुछ याचिकाओं पर फैसला सुनाए जाने की संभावना है, जिनमें हाथरस मामले की अदालत की निगरानी में जांच कराने...
MCS Deskhttps://metrocitysamachar.com/
Latest Breaking News India, Express Headlines 2020, Political News - Metro City Samachar

नई दिल्ली। देश में कई अद्भुत और चमत्कारिक (Miracle) मंदिर है। सबकी अलग-अलग मान्यताएं हैं। इन्हीं में से एक है औरंगाबाद स्थित शिव मंदिर (Shiv Temple)। चूंकि ये एलोरा (Ellora Caves) की गुफाओं में है इसलिए इसे एलोरा के कैलाश मंदिर के नाम से जाना जाता है। बताया जाता है कि इस मंदिर का महत्व कैलाश पर्वत से कम नहीं है। तभी इसका आकार काफी कुछ वैसा ही रखा गया है।

276 फीट लंबे और, 154 फीट चौड़े इस मंदिर की खासियत ये है कि इसे केवल एक ही चट्टान को काटकर बनाया गया है। यह मंदिर दो या तीन मंजिला इमारत के बराबर है। बताया जाता है कि इस मंदिर के निर्माण (Construction) में जिस चट्टान का इस्तेमाल किया गया था उसका वजन करीब 40 हजार टन था। यह मंदिर भगवान शिव को समर्पित है। मान्यता है कि यहां दर्शन करने वाले भक्त को वैसा ही फल मिलता है, जैसे कैलाश पर्वत के दर्शन पर जाने पर। इसलिए जो लोग कैलाश नहीं जा पाते हैं, वे यहां दर्शन के लिए आते हैं।

इस अद्भुत शिव धाम को बनने में लगभग 100 साल से ज्यादा का वक्त लगा। इसके निर्माण कार्य की शुरुआत मालखेड स्थित राष्ट्रकूट वंश के नरेश कृष्ण (प्रथम) (757-783 ई.) ने शुरु करवाया था। इसे बनाने में करीब 7000 मजदूरों ने दिन-रात काम किया था। इस मंदिर में देश-विदेश से सैकड़ों लोग दर्शन के लिए आते हैं, लेकिन हैरानी की बात यह है कि यहां एक भी पुजारी नहीं है। आज तक कभी पूजा नहीं हुई। यूनेस्को ने 1983 में ही इस जगह को ‘विश्व विरासत स्थल’ घोषित किया है।

विज्ञापन
Loading...

More articles

- Advertisement -
- Advertisement -

Latest article

महबूबा मुफ्ती को परिवार के साथ पाकिस्तान चले जाना चाहिए: गुजरात के उप मुख्यमंत्री नितिन पटेल

जम्मू-कश्मीर से आर्टिकल 370 समाप्त करने को लेकर पीडीपी अध्यक्ष महबूबा मुफ्ती के हालिया बयान पर नाराजगी जताते हुए गुजरात के उप मुख्यमंत्री...

हाथरस गैंगरेप मामला दिल्ली ट्रांसफर होगा या नहीं, सुप्रीम कोर्ट आज सुनाएगा फैसला

सुप्रीम कोर्ट द्वारा आज कुछ याचिकाओं पर फैसला सुनाए जाने की संभावना है, जिनमें हाथरस मामले की अदालत की निगरानी में जांच कराने...

देश के पूर्व सॉलिसिटर जनरल हरीश साल्वे रचाएंगे दूसरी शादी, पेशे से कलाकार हैं होने वाली पत्नी

भारत के पूर्व सॉलिसिटर जनरल और सुप्रीम कोर्ट के वरिष्ठ वकील 65 वर्षीय हरीश साल्वे इसी हफ्ते दूसरी बार वैवाहिक बंधन में बंधने...