30 C
Mumbai
Thursday, December 3, 2020

अंग्रेजी हुकूमत में हुआ था इस गोलघर का निर्माण, एक बार में होता था लाखों किलो अनाज का भंडारण

Must read

युवती अपहरण मामले में नया मोड़, दुष्कर्म पीड़िता ने जारी किया वीडियो

यूपी के फतेहपुर जिले में रेप पीड़िता के अपहरण से मची सनसनी के मामले में बुधवार को नया मोड़ आ गया। सोमवार को युवती...

यूपी: 30 फीट के गहरे बोरवेल में गिरा चार साल का बच्चा, बच्चे जान बचाने की कोशिशें जारी

महोबा जिले में कुलपहाड़ क्षेत्र के बुधौरा गांव में बुधवार को किसान भागीरथ कुशवाहा का चार साल का इकलौता बेटा धर्नेंद्र उर्फ बाबू 30...

बिहार: डीआरआई को मिली बड़ी कामयाबी, 1.5 किलो सोने के बिस्किट के साथ महिला अपराधी समेत दो गिरफ्तार

सोना तस्करी के खिलाफ डीआरआई को बड़ी कामयाबी हाथ लगी है। म्यांमार से तस्करी कर गुवाहाटी लाए गए डेढ़ किलो सोने को दो व्यक्ति...

बाइक सवार बदमाशों ने दिनदहाड़े बिहार में पशुपालन विभाग के रिटायर्ड पदाधिकारी से 2.5 लाख रुपए छीने

बिहार के सहरसा जिले के बटराहा मुहल्ला स्थित घर के पास बुधवार को दिनदहाड़े बदमाशों ने सेवानिवृत्त पदाधिकारी से ढाई लाख रुपए की छिनतई...
MCS Deskhttps://metrocitysamachar.com/
Latest Breaking News India, Express Headlines 2020, Political News - Metro City Samachar

नई दिल्ली। भारत पर अंग्रेजों ने कई दशकों तक शासन किया। इस दौरान भारत ने जहां अपने स्वतंत्रता की लड़ाई लड़ी वहीं अंग्रेजों ने कई ऐतिहासिक कार्य किए। ऐसा ही एक कार्य बिहार के पटना में हुआ। जहां तात्कालीन ब्रिटिश सरकार ने 1770 में पड़े भयानक अकाल से उबरने के लिए गोलघर का निर्माण करवाया। बता दें कि इस गोलघर का निर्माण ऐसे समय पर कराया गया था जब भारत के लाखों नागरिक भयानक अकाल से मर रहे थे।

 

कश्मीर में ऐसे शुरू हुई थी आतंक की दास्तान, हिज्बुल मुजाहिद्दीन के सरगना ने राजनीति छोड़ थामी थी बंदूक

अकाल से बचने के लिए कराया गया था निर्माण
इस 29 मीटर ऊंचे गोलघर का निर्माण गवर्नर जनरल वारेन हेस्टिंग्स के आदेश पर इंजीनियर जान ने किया था। इसका निर्माण 1784 में शुरू हुआ था और 1786 में यह बनकर पूरा हुआ था। इस गोलघर की खासियत यह है कि इसमें एक बार में 1,40,000 किलो अनाज का भंडारण किया जा सकता है। इतना ही नहीं उस समय यह गोलघर पटना की सबसे ऊंची इमारत हुआ करता था।

ऐसा था गोलघर का स्ट्रक्चर
गोलघर के ऊपरी सिरे पर एक छिद्र बनाया गया है जिससे अनाज को गोलघर में भरा जाता था। अनाज को बाहर निकालने के लिए चार दरवाजे बनाए गए हैं। छत तक जाने के लिए दो सर्पिलाकार सीढ़ियों को बनाया गया है। इसका आकार 125 मीटर और ऊंचाई 29 मीटर है। इसमें कोई स्तंभ नहीं है और इसकी दीवारें आधार में 3.6 मीटर मोटी हैं। गोलघर के शिखर तक पहुंचने के लिए 145 सीढियां हैं। इसे राज्य सरकार ने 1979 में राज्य स्मारक घोषित कर दिया था। खास बात यह है कि यहां से शहर का एक बड़ा हिस्सा देखा जा सकता है।

सिख को मुस्लिम समझ कर दिया हमला, पुलिस ने किया गिरफ्तार तो कही चौंकाने वाली बात

हर साल आते हैं हजारों सैलानी

गोलघर के महत्व का अंदाजा इस बात से लगाया जा सकता है कि इसे जहां राज्य सरकार ने स्मारक घोषित कर दिया है। वहीं इसे देखने के लिए हर साल हजारों सैलानी बिहार आते हैं और इसे देखकर आनंदित हो जाते हैं।

More articles

- Advertisement -
- Advertisement -

Latest article

युवती अपहरण मामले में नया मोड़, दुष्कर्म पीड़िता ने जारी किया वीडियो

यूपी के फतेहपुर जिले में रेप पीड़िता के अपहरण से मची सनसनी के मामले में बुधवार को नया मोड़ आ गया। सोमवार को युवती...

यूपी: 30 फीट के गहरे बोरवेल में गिरा चार साल का बच्चा, बच्चे जान बचाने की कोशिशें जारी

महोबा जिले में कुलपहाड़ क्षेत्र के बुधौरा गांव में बुधवार को किसान भागीरथ कुशवाहा का चार साल का इकलौता बेटा धर्नेंद्र उर्फ बाबू 30...

बिहार: डीआरआई को मिली बड़ी कामयाबी, 1.5 किलो सोने के बिस्किट के साथ महिला अपराधी समेत दो गिरफ्तार

सोना तस्करी के खिलाफ डीआरआई को बड़ी कामयाबी हाथ लगी है। म्यांमार से तस्करी कर गुवाहाटी लाए गए डेढ़ किलो सोने को दो व्यक्ति...

बाइक सवार बदमाशों ने दिनदहाड़े बिहार में पशुपालन विभाग के रिटायर्ड पदाधिकारी से 2.5 लाख रुपए छीने

बिहार के सहरसा जिले के बटराहा मुहल्ला स्थित घर के पास बुधवार को दिनदहाड़े बदमाशों ने सेवानिवृत्त पदाधिकारी से ढाई लाख रुपए की छिनतई...

हवाई फायरिंग करते हुए गोपालगंज के व्यवसायी की बेतिया में गोली मारकर की हत्या, बदमाश हुए फरार

बिहार के बेतिया में मनुआपुल के जोकहां रेलवे ढाला के समीप गोपालगंज के कटेया थाने की रामदास बगही पंचायत के सैदपुरा गांव निवासी व्यवसायी...