31 C
Mumbai
Friday, May 29, 2020
विज्ञापन
Loading...

यू.पी. : कालसर्प योग के प्रभाव में है सूर्य, जुलाई से कोरोना पर नियंत्रण सम्भव

विज्ञापन
Loading...

Must read

कर्ज देने को लेकर बैंकों को फिच की चेतावनी, दो साल में 6% तक बढ़ जाएगा एनपीए

फिच रेटिंग्स ने गुरुवार (28 मई) को एक रिपोर्ट में यह चेतावनी दी कि सरकार के करीब 20 लाख करोड़ रुपए के प्रोत्साहन पैकेज...

कोरोना लॉकडाउन के कारण पाकिस्तान में फंसे 300 भारतीय शनिवार को स्वदेश लौटेंगे

भारत ने पाकिस्तान में कोरोना वायरस महामारी के कारण लगे लॉकडाउन में फंसे अपने तीन सौ नागरिकों को वापस स्वदेश लौटने की अनुमति दे...
MCS Deskhttps://metrocitysamachar.com/
Latest Breaking News India, Express Headlines 2020, Political News - Metro City Samachar

डॉ. कुंदन ने तीन माह पूर्व दिसम्बर में चीन से घातक विषाणुओं के फैलने की की थी भविष्यवाणी

प्रभुनाथ शुक्ल / भदोही

भदोही, 18 अप्रैल। दुनिया चार माह से कोरोना संक्रमण से जूझ रही है। अब तक हजारों लोगों की मौत हो चुकी है। लाखों की संख्या में लोग संक्रमित है। लेकिन भदोही के ज्योतिषी एवं भविष्यवक्ता डॉ. कुंदन सिंह ने तीन माह पूर्व इसकी भविष्यवाणी कर दिया था। भविष्यवाणी में चीन से विषाणुओं के फैलने की आशंका जताई गई थी।

भविष्यवक्ता डॉ. कुंदन सिंह ने कोरोना महामारी की भावी रूपरेखा के साथ इसके ग्रहजन्य प्रभाव के बारे में विस्तार से जानकारी दी है। साथ ही सावधानी के लिए उपाय भी सुझाये हैं। ज्योतिर्विद ने दावा किया है कि एक पत्रिका के जनवरी अंक में प्रकाशित आलेख के माध्यम से इसकी घोषणा की थी। जिसमें कहा था कि चीन में विषाणुओं के फैलने से दुनिया में व्यापक प्रसार और जनहानि की संभावना रहेगी।

ज्योतिषी सिंह का दावा लाल गुलाबी और पीला रंग संक्रमण के असर को करता है कम

विशेष बातचीत में डॉ. सिंह बताते हैं कि मिथुन राशि पर राहु व धनु राशि पर केतु के आने तथा इन राशियों में सूर्य व चंद्र ग्रहण के लगने तथा सौरमण्डल पर कालसर्प योग की सृष्टि से कोरोना वायरस की उत्पत्ति 2019 के उत्तरार्ध में हुई। जिसकी वजह से इसने वैश्विक महामारी का रुप लिया। धनु व मिथुन शासित देशों व राज्यों में इस का विकराल रूप भी देखने को मिल रहा है।

दावा है कि 23 सितंबर 2020 को राहु केतु का राशि परिवर्तन होगा। जिससे दुनिया को इस महामारी से राहत मिलेगी। उसके पहले यह जगह-जगह अपना स्थान परिवर्तित करता रहेगा। यानी एक जगह नियंत्रित होगा तो दूसरी जगह फैलेगा। सूर्य व मंगल के प्रभाव से मई महीने में इसकी कोई न कोई कारगर औषधि खोज ली जाएगी। 15 जुलाई 2020 के बाद से सूर्य के कालसर्प के प्रभाव से बाहर निकलने के बाद से इस पर नियंत्रण होना शुरू हो जाएगा।

मिथुन राशि पर राहु के प्रभाव से यह बीमारी हाथ मुंह व नाक के माध्यम से विशेष रूप से फैलती है। भीड़ व आपसी संपर्क से इसका विस्तार होता है। हरा काला व भूरा रंग का कम से कम उपयोग हो। डा. सिंह का दावा है कि लाल, गुलाबी या पीला रंग का ज्यादा से ज्यादा उपयोग करने से बीमारी नियंत्रित हो सकती है। ठंड बढ़ने से इसका विस्तार व गर्मी से नियंत्रण होगा।

सिंह ने कहा है संक्रमित क्षेत्रों में एसी या कूलर का प्रयोग कम करें। सूर्य मंगल व गुरु की बल वृद्धि हेतु प्राणायाम व खानपान के द्वारा शारीरिक उर्जा व रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाएं। राहु के कारक मांसाहार, नशा, बासी व दूषित खान पान से परहेज करें। राहु नकारात्मक व रूढ़िवादी विचारों का कारक है। इससे बचें। सफाई व दूरी का विशेष ख्याल रखें। डॉक्टरों की सलाह व औषधियों के प्रयोग से सूर्य मंगल गुरु की बल वृद्धि होकर राहु के संक्रामक दुष्प्रभाव से निजात मिलेगी।

ज्योतिष विज्ञान के अनुसार उन्होंने संक्रमण से बचाव के उपाय का भी दावा किया है। जिसके अनुसार काला, भूरा, नीला या हरा रत्न पहने हो तो सितंबर तक के लिए निकाल दें। वह तब तक के लिए लाल गुलाबी या पीला रत्न या उपरत्न धारण करें। अग्निकोण या मुख्य द्वार पर लाल रंग के बल्ब का प्रयोग करें। ठंडे व अँधेरे स्थानों से दूर रहने का प्रयास करें। मिथुन राशि का हाथ मुंह व गले पर विशेष प्रभाव रहता है। अतः इसकी सफाई का विशेष ध्यान दें। राहु बाहरी व विधर्मी तत्वों का कारक है। चिकित्सक और सरकार के दिशा निर्देशों का पूरी तरह पालन करें।

विज्ञापन
Loading...

More articles

- Advertisement -
- Advertisement -

Latest article

कर्ज देने को लेकर बैंकों को फिच की चेतावनी, दो साल में 6% तक बढ़ जाएगा एनपीए

फिच रेटिंग्स ने गुरुवार (28 मई) को एक रिपोर्ट में यह चेतावनी दी कि सरकार के करीब 20 लाख करोड़ रुपए के प्रोत्साहन पैकेज...

कोरोना लॉकडाउन के कारण पाकिस्तान में फंसे 300 भारतीय शनिवार को स्वदेश लौटेंगे

भारत ने पाकिस्तान में कोरोना वायरस महामारी के कारण लगे लॉकडाउन में फंसे अपने तीन सौ नागरिकों को वापस स्वदेश लौटने की अनुमति दे...