32 C
Mumbai
Thursday, May 28, 2020
विज्ञापन
Loading...

डोनाल्ड ट्रंप को ‘अस्वस्थ मोटा’ कहने की नैंसी पेलोसी ने बताई वजह

विज्ञापन
Loading...

Must read

विश्व में कोरोना संक्रमितों की संख्या 57 लाख के करीब, 3.55 लाख लोगों की मौत

विश्व भर में कोरोना वायरस (कोविड 19) महामारी से संक्रमितों की संख्या 57 लाख के करीब पहुंच गयी है जबकि इस बीमारी से अब...

‘आक्रामकता सिखाई नहीं जाती, यह तेज गेंदबाजों का स्वाभाविक गुण होना चाहिए’

अपने करियर के दौरान बल्लेबाजों में दहशत पैदा करने वाले वेस्टइंडीज के तेज गेंदबाज कर्टली एंब्रोस का मानना है कि गेंदबाजों को आक्रामकता...

जोर से बात करने पर हवा में फैल सकता है कोरोनावायरस

एक हालिया शोध के अनुसार, जो लोग जोर-जोर से बात करते हैं उनके मुंह से निकली हजारों बूंदें गायब होने से पहले आठ से...

बॉलीवुड के ‘सिंघम’ ने 700 परिवारों की मदद के लिए बढ़ाया अपना हाथ, लोगों से की दान देने की अपील

देश में कोरोना के खिलाफ जंग में बॉलीवुड सेलेब्स बढ़-चढ़कर काम कर रहे हैं। इन दिनों बॉलीवुड एक्टर सोनू सूद ने प्रवासियों मजदूरों...
MCS Deskhttps://metrocitysamachar.com/
Latest Breaking News India, Express Headlines 2020, Political News - Metro City Samachar

प्रतिनिधि सभा की अध्यक्ष नैंसी पेलोसी ने बुधवार (20 मई) को कहा कि उन्होंने राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप को ‘अस्वस्थ मोटा’ इसलिए करार दिया क्योंकि वह महिलाओं को उनके वजन के लिए नीचा दिखाते हैं। इसके साथ ही पेलोसी ने राष्ट्रपति को राष्ट्रीय राजधानी में फैले कोरोना वायरस के प्रकोप के दौरान थोड़ा वजन कम करने की भी सलाह दी।

उन्होंने अपनी साप्ताहिक प्रेसवार्ता में संवाददाताओं से कहा, ”मैंने उन्हें उन्हीं की दवा की एक खुराक दी।” उन्होंने समय-समय पर महिलाओं पर टिप्पणी की और मुझे लगता है कि वह सोचते हैं कि मजाक उड़ाना किसी निश्चित परंपरा का हिस्सा है।”

पाकिस्तान के लिए जागा अमेरिका का प्यार, चीन से लगा रहा कर्ज माफ करने की ‘गुहार’

पेलोसी ने ट्रंप के बारे में कहा, ”मैं केवल उस बात का ही हवाला दे रही थी जो डॉक्टरों ने उनके बारे में कही इसलिए मैं बहुत ही सहानुभूतिपूर्ण तरीके से तथ्यात्मक थी। राष्ट्रपति मोटे हैं लेकिन वह अस्वस्थ नहीं हैं।”

पेलोसी ने सोमवार (18 मई) को कहा था कि ट्रंप को कोरोना वायरस से बचाव के लिए हाइड्रॉक्सीक्लोरोक्वीन दवा का सेवन नहीं करना चाहिए क्योंकि वह मोटे हैं और उनमें बीमारियों का खतरा ज्यादा है। वहीं, ट्रंप ने पेलोसी की सलाह को ‘समय की बर्बादी’ करार दिया था। इस समय अमेरिका एक तरफ कोरोना वायरस से जबकि दूसरी तरफ बिगड़ती अर्थव्यवस्था से जूझ रहा है और इस समय में भी राष्ट्रपति ट्रंप और सदन की अध्यक्ष नैंसी पेलोसी के बीच लगातार जुबानी जंग जारी है।

विज्ञापन
Loading...

More articles

- Advertisement -
- Advertisement -

Latest article

विश्व में कोरोना संक्रमितों की संख्या 57 लाख के करीब, 3.55 लाख लोगों की मौत

विश्व भर में कोरोना वायरस (कोविड 19) महामारी से संक्रमितों की संख्या 57 लाख के करीब पहुंच गयी है जबकि इस बीमारी से अब...

‘आक्रामकता सिखाई नहीं जाती, यह तेज गेंदबाजों का स्वाभाविक गुण होना चाहिए’

अपने करियर के दौरान बल्लेबाजों में दहशत पैदा करने वाले वेस्टइंडीज के तेज गेंदबाज कर्टली एंब्रोस का मानना है कि गेंदबाजों को आक्रामकता...

जोर से बात करने पर हवा में फैल सकता है कोरोनावायरस

एक हालिया शोध के अनुसार, जो लोग जोर-जोर से बात करते हैं उनके मुंह से निकली हजारों बूंदें गायब होने से पहले आठ से...

बॉलीवुड के ‘सिंघम’ ने 700 परिवारों की मदद के लिए बढ़ाया अपना हाथ, लोगों से की दान देने की अपील

देश में कोरोना के खिलाफ जंग में बॉलीवुड सेलेब्स बढ़-चढ़कर काम कर रहे हैं। इन दिनों बॉलीवुड एक्टर सोनू सूद ने प्रवासियों मजदूरों...