31.5 C
Mumbai
Sunday, October 25, 2020

#MeToo: अकबर के खिलाफ एशियन एज की 17 महिला पत्रकारों ने याचिका दाखिल करके कहा, 'कोर्ट उनकी कहानी भी सुने'

विज्ञापन
Loading...

Must read

वोट डालने के बाद अमेरिकी राष्ट्रपति बोले- मैंने ट्रंप नाम के व्यक्ति को वोट दिया

अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने शनिवार सुबह वेस्ट पाम बीच में मतदान किया और इसके बाद संवाददातओं से कहा कि उन्होंने ट्रंप...
MCS Deskhttps://metrocitysamachar.com/
Latest Breaking News India, Express Headlines 2020, Political News - Metro City Samachar

#MeToo: अकबर के खिलाफ एशियन एज की 17 महिला पत्रकारों ने याचिका दाखिल करके कहा, 'कोर्ट उनकी कहानी भी सुने'

वरिष्ठ पत्रकार और विदेश राज्य मंत्री एमजे अकबर के खिलाफ 17 महिलाओं ने लिखित याचिका दायर की है. ये सभी महिला पत्रकार कभी ना कभी एमजे अकबर के साथ एशियन एज में काम कर चुकी हैं.

इन 17 महिला पत्रकारों में तीन मौजूदा एडिटर भी शामिल हैं. इनमें मीनल वघेल हैं, जो फिलहाल मुंबई मिरर की एडिटर हैं. दूसरी एडिटर एटी जयंति हैं जो अभी डेक्कन क्रॉनिकल की एडिटर हैं. इस मुहिम से जुड़ने वाली तीसरी एडिटर सुपर्णा शर्मा हैं. सुपर्णा अभी एशियन एज, दिल्ली की रेजिडेंट एडिटर हैं.

यह भी पढ़ें: होटल के कमरे में अंडरवियर पहनकर क्यों खड़े थे अकबर

ऐसा पहली बार ऐसा हुआ है जब तीन मौजूदा महिला एडिटर #MeToo अभियान में शामिल हुए हैं. इन तीनों एडिटर को मिलाकर कुल 17 महिलाओं ने अकबर के खिलाफ याचिका दायर की है.

पूरी याचिका यहां पढ़ें

मिनिस्टर एमजे अकबर ने हमारे पूर्व सहयोगी प्रिया रमानी के खिलाफ क्रिमिनल डिफमेशन केस किया है क्योंकि उन्होंने एशियन एज में रहते हुए अकबर के खराब बर्ताव के बारे में बताया. अकबर तब एशियन एज के एडिटर थे.

अकबर के खराब व्यवहार के खिलाफ कई महिलाओं ने खुलकर बोला है. उसके बावजूद रमानी पर केस किया गया है.

अकबर के लीगल एक्शन से यह साफ है कि वह पुरानी बातों की अनदेखी कर रहे हैं जिसकी वजह से पिछले कई साल से महिलाओं को काफी पीड़ा हुई है. इस बीच वह सांसद और मंत्री के तौर पर अपनी ताकत का मजा ले रहे हैं.

जब प्रिया रमानी ने सार्वजनिक तौर पर उनके खिलाफ बोला तो उन्होंने न सिर्फ अपने निजी अनुभव बताए बल्कि महिलाओं के प्रति अकबर के बर्ताव का भी खुलासा किया. रमानी इस जंग में अकेली नहीं हैं. हम ऑनरेबल कोर्ट से प्रार्थना करेंगे कि मानहानि के केस की सुनवाई करते हुए हम याचिकाकर्ता के सेक्सुअल हरासमेंट की भी कहानी सुनें.

इन 17 महिला पत्रकारों ने साइन की याचिका

मीनल बघेल (एशियन एज 1993-1996) – अभी मुंबई मिरर की एडिटर.

मनीषा पांडे (एशियन एज 1993-1998)

तुषिता पटेल (एशियन एज 1993-2000)

कनिका गहलोत (एशियन एज 1995-1998)

सुपर्णा शर्मा (एशियन एज 1993-1996) अभी एशियन एज-दिल्ली की रेजिडेंट एडिटर

रमोला तलवार बादाम (एशियन एज 1994-1995)

कनिका गजारी (एशियन एज 1995-1997)

मालविका बनर्जी (एशियन एज 1995-1998)

एटी जयंति (एशियन एज 1995-1996) अभी डेक्कन क्रॉनिकल की एडिटर

हामिदा पारकर (एशियन एज 1996-1999)

जोनाली बरागोहेन (एशियन एज)

संजरी चटर्जी (एशियन एज)

मीनाक्षी कुमार (एशियन एज 1996-2000)

सुजाता दत्ता सचदेव (एशियन एज 1999-2000)

होइनु हॉजेल (एशियन एज 1999-2000)

कुशालरानी गुलाब (एशियन एज 1993-1997)

आइशा खान (एशियन एज 1995-1998)

विज्ञापन
Loading...

More articles

- Advertisement -
- Advertisement -

Latest article

वोट डालने के बाद अमेरिकी राष्ट्रपति बोले- मैंने ट्रंप नाम के व्यक्ति को वोट दिया

अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने शनिवार सुबह वेस्ट पाम बीच में मतदान किया और इसके बाद संवाददातओं से कहा कि उन्होंने ट्रंप...

टीआरपी फर्जीवाड़ा मामला: एनबीए ने सरकार ने सीबीआई जांच वापस लेने का अनुरोध किया

न्यूज ब्रॉडकास्टर्स एसोसिएशन (एनबीए) ने सरकार से टेलीविजन रेटिंग प्वाइंट्स (टीआरपी) में किए गए कथित फर्जीवाड़े की सीबीआई जांच फौरन वापस लेने का...