28 C
Mumbai
Sunday, August 9, 2020

नेपाल जल्द ही अपने नए नक्शे को भारत, UN और गूगल को भेजेगा; तीन भारतीय इलाकों पर जताया है हक

विज्ञापन
Loading...

Must read

खुलासा: अमेरिकी राष्ट्रपति चुनाव में रूस ट्रंप को, तो चीन बाइडेन को चाहता है जिताना

रूस राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप और चीन जो बाइडेन को चुनाव जिताना चाहता है। अमेरिका के एक खुफिया अधिकारी ने इसका खुलासा किया है। देश...

तमिलनाडु में कोरोना वायरस से 118 मरीजों की मौत, 5883 नए मामले

तमिलनाडु में शनिवार (8 अगस्त) को कोविड-19 के 5,883 नए मामले सामने आए। संक्रमण से 118 और मरीजों की मौत होने से राज्य...

प्रदर्शनकारियों ने लेबनान के विदेश मंत्रालय पर बोला धावा, पुलिस ने दागे आंसू गैस के गोले

लेबनान में प्रदर्शनकारियों के एक समूह ने शनिवार (8 अगस्त) को राजधानी में विदेश मंत्रालय की इमारत पर धावा बोल दिया। उन्हें रोकने के...

केरल के इडुक्की में लैंडस्लाइड वाले स्थान से 26 शव बरामद, 46 अब भी लापता

केरल के इडुक्की जिले में भूस्खलन की घटना के बाद मलबे से अब तक 26 शव बरामद किए गए हैं, जबकि लापता लोगों...
MCS Deskhttps://metrocitysamachar.com/
Latest Breaking News India, Express Headlines 2020, Political News - Metro City Samachar

अपने देश के नए नक्शे को नेपाल इस महीने के मध्य तक भारत, संयुक्त राष्ट्र, गूगल और अन्य अंतरराष्ट्रीय समुदायों को भेज देगा। नेपाल के भूमि मामलों की मंत्री पद्मा अरयल ने समाचार एजेंसी एएनआई से शनिवार (1 अगस्त) को यह बात कही। नेपाल के नए नक्शे में भारत की सीमा से लगे रणनीतिक रूप से महत्वपूर्ण लिपुलेख, कालापानी और लिम्पियाधुरा इलाकों पर दावा किया गया है।

भारत के कड़े विरोध के बावजूद नेपाल की संसद ने नए राजनीतिक नक्शे को अद्यतन (अपडेट) करने के लिए संविधान में बीते 18 जून को संशोधन कर दिया था, जिसमें रणनीतिक रूप से महत्वपूर्ण भारत के तीन क्षेत्रों को शामिल किया गया है। भारत ने नेपाल के मानचित्र में बदलाव करने और कुछ भारतीय क्षेत्रों को उसमें शामिल करने से जुड़े संविधान संशोधन विधेयक को नेपाली संसद के निचले सदन में पारित किए जाने पर 13 जून को प्रतिक्रिया व्यक्त करते हुए कहा था कि यह कृत्रिम विस्तार साक्ष्य एवं ऐतिहासिक तथ्यों पर आधारित नहीं है और यह ”मान्य” नहीं है।

भारत ने नवंबर 2019 में एक नया नक्शा जारी किया था, जिसके करीब छह महीने बाद नेपाल ने इस साल मई महीने में देश का संशोधित राजनीतिक और प्रशासनिक नक्शा जारी कर रणनीतिक रूप से महत्वपूर्ण इन इलाकों पर अपना दावा बताया था। नेपाली संसद के ऊपरी सदन यानी नेशनल असेम्बली ने संविधान संशोधन विधेयक को सर्वसम्मति से पारित कर दिया था। इसके बाद नेपाल के राष्ट्रीय प्रतीक में नक्शे को बदलने का रास्ता साफ हो गया था।

सड़क निर्माण शुरू होने पर तनाव हुआ
भारत और नेपाल के बीच रिश्तों में उस वक्त तनाव दिखा जब रक्षामंत्री राजनाथ सिंह ने आठ मई को उत्तराखंड में लिपुलेख दर्रे को धारचुला से जोड़ने वाली रणनीतिक रूप से महत्वपूर्ण 80 किलोमीटर लंबी सड़क का उद्घाटन किया। नेपाल ने इस सड़क के उद्घाटन पर तीखी प्रतिक्रिया देते हुए दावा किया कि यह सड़क नेपाली क्षेत्र से होकर गुजरती है। भारत ने नेपाल के दावों को खारिज करते हुए दोहराया कि यह सड़क पूरी तरह उसके भूभाग में स्थित है।

नेपाल ने मई महीने में जारी किया था देश का नया नक्शा
नेपाल ने 18 मई को देश का संशोधित राजनीतिक और प्रशासनिक नक्शा जारी कर रणनीतिक रूप से महत्वपूर्ण इन इलाकों पर अपना दावा बताया था। भारत यह कहता रहा है कि यह तीन इलाके उसके हैं। काठमांडू द्वारा नया नक्शा जारी करने पर भारत ने नेपाल से कड़े शब्दों में कहा था कि वह क्षेत्रीय दावों को “कृत्रिम रूप से बढ़ा-चढ़ाकर” पेश करने का प्रयास न करे।

विज्ञापन
Loading...

More articles

- Advertisement -
- Advertisement -

Latest article

खुलासा: अमेरिकी राष्ट्रपति चुनाव में रूस ट्रंप को, तो चीन बाइडेन को चाहता है जिताना

रूस राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप और चीन जो बाइडेन को चुनाव जिताना चाहता है। अमेरिका के एक खुफिया अधिकारी ने इसका खुलासा किया है। देश...

तमिलनाडु में कोरोना वायरस से 118 मरीजों की मौत, 5883 नए मामले

तमिलनाडु में शनिवार (8 अगस्त) को कोविड-19 के 5,883 नए मामले सामने आए। संक्रमण से 118 और मरीजों की मौत होने से राज्य...

प्रदर्शनकारियों ने लेबनान के विदेश मंत्रालय पर बोला धावा, पुलिस ने दागे आंसू गैस के गोले

लेबनान में प्रदर्शनकारियों के एक समूह ने शनिवार (8 अगस्त) को राजधानी में विदेश मंत्रालय की इमारत पर धावा बोल दिया। उन्हें रोकने के...

केरल के इडुक्की में लैंडस्लाइड वाले स्थान से 26 शव बरामद, 46 अब भी लापता

केरल के इडुक्की जिले में भूस्खलन की घटना के बाद मलबे से अब तक 26 शव बरामद किए गए हैं, जबकि लापता लोगों...

महिंदा राजपक्षे चौथी बार लेंगे श्रीलंका के प्रधानमंत्री पद की शपथ

श्रीलंका के पूर्व राष्ट्रपति महिंदा राजपक्षे रविवार (9 अगस्त) को एक ऐतिहासिक बौद्ध विहार में देश के प्रधानमंत्री के रूप में चौथी बार शपथ...