28 C
Mumbai
Sunday, August 9, 2020

राम मंदिर भूमि पूजन के लिए दो वृद्ध भाइयों ने 150 से अधिक नदियों का जल किया इकट्ठा

विज्ञापन
Loading...

Must read

अमेरिका में डूब रहे तीन बच्चों को बचाने में भारतीय युवक की मौत

अमेरिका के कैलिफॉर्निया में तीन बच्चों को डूबने से बचाते समय 29 वर्षीय भारतीय की मौत हो गई। मीडिया में यह खबर आई है।...

बिहार में बाढ़ से 16 जिलों की 73 लाख आबादी प्रभावित, 10 लाख लोगों को मिल रहा भोजन

बिहार में बाढ़ ने 24 और पंचायतों को प्रभावित कर दिया है। इस तरह अब राज्य के 16 जिलों के 125 प्रखंडों की...

खुलासा: अमेरिकी राष्ट्रपति चुनाव में रूस ट्रंप को, तो चीन बाइडेन को चाहता है जिताना

रूस राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप और चीन जो बाइडेन को चुनाव जिताना चाहता है। अमेरिका के एक खुफिया अधिकारी ने इसका खुलासा किया है। देश...

तमिलनाडु में कोरोना वायरस से 118 मरीजों की मौत, 5883 नए मामले

तमिलनाडु में शनिवार (8 अगस्त) को कोविड-19 के 5,883 नए मामले सामने आए। संक्रमण से 118 और मरीजों की मौत होने से राज्य...
MCS Deskhttps://metrocitysamachar.com/
Latest Breaking News India, Express Headlines 2020, Political News - Metro City Samachar

पांच अगस्त को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी अयोध्या में राम मंदिर का भूमि पूजन करेंगे। इसको लेकर विशेष तैयारी की जा रही है। कोरोना महामारी के कारण सतर्कता भी बरती जा रही है। राम मंदिर भूमि पूजन से पहले 70 साल से अधिक उम्र के दो भाइयों ने रविवार को अयोध्या में 150 से अधिक नदियों का जल इकट्ठा किया, जिसका इस्तेमाल भूमि पूजन में किया जाएगा।

राधेश्याम पांडे और शबद वैज्ञानिक महाकवि त्रिफला 1968 से श्रीलंका के सोलह स्थानों से मिट्ठी के साथ-साथ भारत की आठ नदियों, तीन समुद्रों से पानी इकट्ठा कर रहे हैं।

राधे श्याम पांडे ने न्यूज एजेंसी एएनआई को बताया, “यह मेरा हमेशा से ही सपना रहा है कि जब भी राम मंदिर का निर्माण होगा, मैं भारत की नदियों के पवित्र जल और श्रीलंका से मिट्टी एकत्र करूंगा और श्री राम की कृपा से वह लक्ष्य हासिल हो गया है। हमने 151 नदियों से पानी एकत्र किया है। इनमें श्रीलंका की 8 बड़ी नदियां, तीन समुद्र और 16 स्थानों की मिट्टी भी शामिल है।“ उन्होंने कहा, “1968 से 2019 तक, मैंने इसे इकट्ठा करने के लिए पैदल, साइकिल, मोटरसाइकिल, ट्रेन और हवाई जहाज का सफर किया।”

करीब आठ हजार पवित्र स्थलों से मिट्टी, जल का उपयोग किया जाएगा
अयोध्या में राम मंदिर निर्माण के लिए पांच अगस्त को होने वाले भूमि पूजन में देशभर के करीब आठ हजार पवित्र स्थलों से मिट्टी, जल और रजकण का उपयोग किया जाएगा। कार्यक्रम से जुड़े लोगों का कहना है कि सामाजिक समरसता का संदेश देने के लिए देशभर से मिट्टी एवं जल का संग्रह किया जा रहा है।

श्रीराम जन्मभूमि तीर्थक्षेत्र ट्रस्ट के सदस्य कामेश्वर चौपाल ने कहा, ”देशभर से अयोध्या पहुंचने वाली मिट्टी एवं जल का आंकड़ा अभी तक जोड़ा नहीं गया है, लेकिन ऐसा अनुमान है कि सात-आठ हजार स्थानों से मिट्टी, जल एवं रजकण पूजन के लिए अयोध्या पहुंचेगा। दो दिन पहले तक करीब 3,000 स्थानों से मिट्टी और जल वहां पहुंच चुका है। उन्होंने कहा कि मिट्टी और जल एकत्र करने का कार्यक्रम राष्ट्रीय एकता एवं सामाजिक समरसता को मजबूत बनाने का अनूठा उदाहरण है।

चौपाल ने कहा, ”उदाहरण के लिए झारखंड में ‘सरना स्थल आदिवासी समाज का महत्वपूर्ण पूजा स्थल है। जब हम उस स्थान की मिट्टी एकत्र करने गए तो दलित और आदिवासी समाज में अभूतपूर्व उत्साह का माहौल देखने को मिला। उनका कहना था कि राम और सीता तो हमारे हैं, तभी हमारी माता शबरी की कुटिया में पधारे और जूठे बेर खाए।

वहीं, विश्व हिन्दू परिषद (विहिप) के केंद्रीय महामंत्री मिलिंद परांडे ने कहा, ”भगवान राम ने सामाजिक समरसता और सशक्तीकरण का संदेश स्वयं के जीवन से दिया। इसलिए उनके मंदिर निर्माण के भूमि पूजन में देशभर की पवित्र नदियों के जल और तीर्थ स्थानों की मिट्टी का उपयोग किया जा रहा है। परांडे ने कहा कि भगवान राम द्वारा अहिल्या का उद्धार, शबरी और निषादराज से प्रेम एवं मित्रता सामाजिक समरसता के अनुपम उदाहरण हैं।

विहिप सूत्रों ने बताया कि इसी श्रृंखला में काशी स्थित संत रविदास जी की जन्मस्थली, बिहार के सीतामढ़ी स्थित महर्षि वाल्मीकि आश्रम, महाराष्ट्र में विदर्भ के गोंदिया जिला के कचारगड, झारखंड के रामरेखाधाम, मध्य प्रदेश के टंट्या भील की पुण्यभूमि से जुड़े स्थलों, पटना के श्रीहरमंदिर साहिब, डॉ. बाबासाहेब आंबेडकर के जन्मस्थान महू, दिल्ली के जैन मंदिर और वाल्मीकि मंदिर जैसे स्थलों से मिट्टी एवं पवित्र जल एकत्र किया जा रहा है। उन्होंने बताया कि पश्चिम बंगाल के कालीघाट, दक्षिणेश्वर, गंगासागर और कूचबिहार के मदन मोहन जैसे मंदिरों की पवित्र मिट्टी के साथ ही गंगासागर, भागीरथी, त्रिवेणी नदियों के संगम से जल अयोध्या भेजा जा रहा है। प्रयागराज के पावन संगम के जल एवं मिट्टी का भी भूमि पूजन में उपयोग किया जाएगा ।

बिहार की फल्गु नदी से बालू और रेत भी अयोध्या भेजा जा रहा
भूमि पूजन से जुड़े लोगों ने बताया कि बिहार की फल्गु नदी से बालू और रेत भी अयोध्या भेजा जा रहा है। गया धाम स्थित यह नदी पवित्र पितृ-तीर्थ है। इसके अलावा पावापुरी स्थित जलमंदिर, कमल सरोवर, प्रचीन पुष्करणी तालाब, हिलसा स्थित प्रसिद्ध सूर्य मंदिर, सम्राट चंद्रगुप्त मौर्य से जुड़े भोरा तालाब, राजीगर की पंच वादियों की मिट्टी और जल भी भेजा जा रहा है। विहिप पदाधिकारियों ने कहा कि भूमि पूजन के लिए मंदराचल पर्वत की मिट्टी भी भेजी गई है। पौराणिक मान्यता है कि इसी पर्वत से समुद्र मंथन किया गया था। उन्होंने कहा कि इसके अलावा देश के अन्य हिस्सों से भी मिट्टी, जल एवं रजकण भेजने का सिलसिला जारी है।

आपको बता दें कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी जब पांच अगस्त को राम मंदिर का भूमि पूजन करेंगे तो उस दौरान आरएसएस चीफ मोहन भागवत और उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ सहित कई साधु-शंत मौजूद रहेंगे। इसको लेकार तैयारी जोर-शोर से जारी है।

विज्ञापन
Loading...

More articles

- Advertisement -
- Advertisement -

Latest article

अमेरिका में डूब रहे तीन बच्चों को बचाने में भारतीय युवक की मौत

अमेरिका के कैलिफॉर्निया में तीन बच्चों को डूबने से बचाते समय 29 वर्षीय भारतीय की मौत हो गई। मीडिया में यह खबर आई है।...

बिहार में बाढ़ से 16 जिलों की 73 लाख आबादी प्रभावित, 10 लाख लोगों को मिल रहा भोजन

बिहार में बाढ़ ने 24 और पंचायतों को प्रभावित कर दिया है। इस तरह अब राज्य के 16 जिलों के 125 प्रखंडों की...

खुलासा: अमेरिकी राष्ट्रपति चुनाव में रूस ट्रंप को, तो चीन बाइडेन को चाहता है जिताना

रूस राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप और चीन जो बाइडेन को चुनाव जिताना चाहता है। अमेरिका के एक खुफिया अधिकारी ने इसका खुलासा किया है। देश...

तमिलनाडु में कोरोना वायरस से 118 मरीजों की मौत, 5883 नए मामले

तमिलनाडु में शनिवार (8 अगस्त) को कोविड-19 के 5,883 नए मामले सामने आए। संक्रमण से 118 और मरीजों की मौत होने से राज्य...

प्रदर्शनकारियों ने लेबनान के विदेश मंत्रालय पर बोला धावा, पुलिस ने दागे आंसू गैस के गोले

लेबनान में प्रदर्शनकारियों के एक समूह ने शनिवार (8 अगस्त) को राजधानी में विदेश मंत्रालय की इमारत पर धावा बोल दिया। उन्हें रोकने के...