Deprecated: jetpack_enable_opengraph is deprecated since version 2.0.3! Use jetpack_enable_open_graph instead. in /opt/bitnami/apps/wordpress/htdocs/wp-includes/functions.php on line 4777
26 C
Mumbai
Saturday, October 31, 2020

सबरीमाला पर बोले भागवत- सुप्रीम कोर्ट ने परंपरा पर नहीं किया विचार

विज्ञापन
Loading...

Must read

IPL 2020: क्रिस गेल ने रचा इतिहास, बने टी-20 क्रिकेट में 1000 छक्के लगाने वाले पहले क्रिकेटर

वेस्टइंडीज के धुरंधर बल्लेबाज क्रिस गेल ने इंडियन प्रीमियर लीग(आईपीएल) में किंग्स इलेवन पंजाब की तरफ से इतिहास रचते हुए राजस्थान रॉयल्स के...

स्टार प्रचारक का दर्जा रद्द होने पर कमलनाथ बोले- EC ने नहीं दिया कोई नोटिस, वो जाने उनका काम जाने

चुनाव आयोग द्वारा शुक्रवार को कांग्रेस के वरिष्ठ नेता कमलनाथ का मध्यप्रदेश उपचुनाव के लिए स्टार प्रचारक का दर्जा रद्द करने पर कमलनाथ...

फ्रांस के खिलाफ मुस्लिम जगत में बढ़ा आक्रोश, दुनियाभर में हजारों लोग सड़कों पर उतरे

पाकिस्तान, लेबनान से लेकर फलस्तीनी क्षेत्र समेत कई अन्य जगहों पर हजारों मुसलमान फ्रांस के खिलाफ प्रदर्शन के लिए शुक्रवार को सड़कों पर...
MCS Deskhttps://metrocitysamachar.com/
Latest Breaking News India, Express Headlines 2020, Political News - Metro City Samachar

सबरीमाला पर बोले भागवत- सुप्रीम कोर्ट ने परंपरा पर नहीं किया विचार

सबरीमाला मंदिर में 10 से 50 आयु वर्ग की महिलाओं के प्रवेश की अनुमति देने के सुप्रीम कोर्ट के फैसले के विरोध में हो रहे प्रदर्शनों के बीच आरएसएस प्रमुख मोहन भागवत ने गुरुवार को कहा कि शीर्ष अदालत ने समाज द्वारा स्वीकृत परंपरा की प्रकृति पर विचार नहीं किया और इसने समाज में ‘विभाजन’ को जन्म दिया.

उन्होंने कहा कि लोगों के दिमाग में यह सवाल पैदा होता है कि सिर्फ हिंदू समाज को ही अपनी आस्था के प्रतीकों पर बार-बार हमलों का सामना क्यों करना पड़ता है. सरसंघचालक ने विजयादशमी के अवसर पर अपने वार्षिक संबोधन में कहा, यह स्थिति समाज की शांति और सेहत के लिए अनुकूल नहीं है.

उन्होंने कहा कि सभी पहलुओं पर विचार किए बगैर सुनाए गए फैसले और धैर्यपूवर्क समाज की मानसिकता सृजित करने को न तो वास्तविक व्यवहार में कभी अपनाया जाएगा और न ही बदलते वक्त में इससे नई सामाजिक व्यवस्था बनाने में मदद मिलेगी.

भागवत ने कहा, सबरीमाला मंदिर पर हालिया फैसले से पैदा हुए हालात ऐसी ही स्थिति दर्शाते हैं. समाज द्वारा स्वीकृत और वर्षों से पालन की जा रही परंपरा की प्रकृति एवं आधार पर विचार नहीं किया गया. इस परंपरा का पालन करने वाली महिलाओं के एक बड़े तबके की दलीलें भी नहीं सुनी गई. आरएसएस प्रमुख ने कहा कि इस फैसले ने शांति, स्थिरता और समानता के बजाय समाज में अशांति, संकट और विभाजन को जन्म दिया है.

बीते 28 सितंबर को तत्कालीन चीफ जस्टिस दीपक मिश्रा की अगुवाई वाली सुप्रीम कोर्ट की संविधान पीठ ने केरल स्थित सबरीमला मंदिर में रजस्वला आयु वर्ग (10-50 वर्ष) की महिलाओं के प्रवेश पर लगी सदियों पुरानी पाबंदी निरस्त कर दी थी और उन्हें मंदिर में जाने की इजाजत दे दी.

विज्ञापन
Loading...

More articles

- Advertisement -
- Advertisement -

Latest article

IPL 2020: क्रिस गेल ने रचा इतिहास, बने टी-20 क्रिकेट में 1000 छक्के लगाने वाले पहले क्रिकेटर

वेस्टइंडीज के धुरंधर बल्लेबाज क्रिस गेल ने इंडियन प्रीमियर लीग(आईपीएल) में किंग्स इलेवन पंजाब की तरफ से इतिहास रचते हुए राजस्थान रॉयल्स के...

स्टार प्रचारक का दर्जा रद्द होने पर कमलनाथ बोले- EC ने नहीं दिया कोई नोटिस, वो जाने उनका काम जाने

चुनाव आयोग द्वारा शुक्रवार को कांग्रेस के वरिष्ठ नेता कमलनाथ का मध्यप्रदेश उपचुनाव के लिए स्टार प्रचारक का दर्जा रद्द करने पर कमलनाथ...

फ्रांस के खिलाफ मुस्लिम जगत में बढ़ा आक्रोश, दुनियाभर में हजारों लोग सड़कों पर उतरे

पाकिस्तान, लेबनान से लेकर फलस्तीनी क्षेत्र समेत कई अन्य जगहों पर हजारों मुसलमान फ्रांस के खिलाफ प्रदर्शन के लिए शुक्रवार को सड़कों पर...

दिल्ली में रोज रिकॉर्ड तोड़ रहा कोरोना, आज आए सर्वाधिक 5891 नए केस व 47 की गई जान

दिल्ली में कोरोना वायरस संक्रमण प्रतिदिन रिकॉर्ड तोड़ रहा है। बीते तीन दिनों से लगातार संक्रमण के पांच हजार से अधिक नए मामले...