32 C
Mumbai
Wednesday, October 21, 2020

क्‍या आपको पता है कि पटाखे और आतिशबाजी का चलन कहां से आया?

विज्ञापन
Loading...

Must read

भोजपुर में बोले राजनाथ सिंह- BJP व JDU की जोड़ी सचिन-सहवाग की तरह, इसे नकारना मत

केंद्रीय रक्षा मंत्री और भारतीय जनता पार्टी के दिग्गज नेता राजनाथ सिंह ने बिहार के भोजपुर में एक चुनावी जनसभा को संबोधित करेत...
MCS Deskhttps://metrocitysamachar.com/
Latest Breaking News India, Express Headlines 2020, Political News - Metro City Samachar

नई दिल्‍ली: सुप्रीम कोर्ट ने कुछ शर्तों के साथ पटाखे चलाने की अनुमति देने के साथ ही इन पर बैन संबंधी मांग को खारिज कर दिया है. कोर्ट ने कम उत्‍सर्जन के लिए हरित पटाखों के उत्‍पादन और बिक्री की अनुमति दी. इसके साथ ही दीपावली और अन्य त्योहारों पर आतिशबाजी के लिए रात आठ बजे से रात 10 बजे तक का समय निर्धारित किया. पिछले एक साल से कोर्ट में चल रही बहस के बाद दीपावली के महज 15 दिन पहले आए इस निर्णय से आतिशबाजी प्रेमियों को राहत मिली है.

वैसे तीज-त्‍योहार पर पटाखे चलाने की परंपरा सदियों पुरानी है. माना जाता है कि आतिशबाजी की परंपरा चीन में नौवीं सदी में शुरू हुई थी. यह भी कहा जाता है कि धार्मिक मान्‍यताओं के मुताबिक बुरी शक्तियों को भगाने के लिए चीन में इसकी शुरुआत हुई. प्राचीन चीन की चार महान खोजों में गनपाउडर के आविष्‍कार को भी गिना जाता है. उसी के इस्‍तेमाल से पटाखे चलाने की शुरुआत हुई. चीन के परंपरागत नव वर्ष और मून फेस्टिवल के दौरान तो इनका चलन निश्चित रूप से देखने को मिलता है. दुनिया में चीन पटाखे और आतिशबाजी का सबसे बड़ा निर्माता और निर्यातक है. रंगीन आतिशबाजी का प्रयोग यूरोप में 1830 के दशक में शुरू हुआ था. आकाश में दिखने वाली आधुनिक आतिशबाजी का आविष्‍कार 20वीं की शुरुआत में हुआ था.

दिवाली पर फोड़ सकेंगे पटाखे, सुप्रीम कोर्ट ने शर्तों के साथ दी बिक्री की मंजूरी

पटाखों पर सुप्रीम कोर्ट के निर्णय की पृष्‍ठभूमि में यदि देखा जाए तो दुनिया के कई अन्‍य मुल्‍कों में भी इस संबंध में कई शर्तें और पाबंदियां अख्तियार की गई हैं. दरअसल इसकी वजह से होने वाले हादसों और हताहतों के कारण ही मुल्‍कों में इसकी वैधानिकता पर बहस होती रही है. इस कड़ी में दुनिया के कुछ प्रमुख देशों में पटाखों के इस्‍तेमाल के संबंध में शर्तों, पाबंदियों पर आइए डालते हैं एक नजर:

Image result for firecrackers zee news

चीन
चीनी नव वर्ष के दौरान शुरुआती तीन दिनों में लोगों के बीच आतिशबाजी की प्रतिस्‍पर्द्धा का चलन है. सदियों पुरानी इस परंपरा को 1990 के दशक के बाद से चीन के कई शहरों में बैन करने की कोशिश की गई. 2004 के एक प्रकाश उत्‍सव के दौरान आतिशबाजी के बीच मची भगदड़ से 37 लोगों की मौत हो गई थी. लेकिन 2008 के बाद से चीन के अधिकांश शहरों में आतिशबाजी की अनुमति है. गांवों में कोई पाबंदी नहीं है.

कनाडा
एक्‍सप्‍लोसिव एक्‍ट के तहत पटाखों पर बैन है. इसलिए इनके आयात, भंडारण और निर्माण को गैरकानूनी माना जाता है. 27 सितंबर, 1972 को कनाडा में उस वक्‍त पटाखों पर बैन लगा दिया गया जब मीडिया रिपोर्टों में इस तरह की खबरें आईं कि इनकी वजह से दो मासूमों की जान चली गई.

ब्रिटेन
1997 में पटाखों पर रोक लगा दी गई. लेकिन आतिशबाजी(fireworks) पर पाबंदी नहीं है.

अमेरिका
अलग-अलग राज्‍यों में अलग नियम हैं. 2007 में एक दशक पुराने पटाखों पर पाबंदी संबंधी नियमों में ढील दी गई.

विज्ञापन
Loading...

More articles

- Advertisement -
- Advertisement -

Latest article

भोजपुर में बोले राजनाथ सिंह- BJP व JDU की जोड़ी सचिन-सहवाग की तरह, इसे नकारना मत

केंद्रीय रक्षा मंत्री और भारतीय जनता पार्टी के दिग्गज नेता राजनाथ सिंह ने बिहार के भोजपुर में एक चुनावी जनसभा को संबोधित करेत...

क्या पाकिस्तान FTF की ‘ग्रे सूची’ से निकल सकता है या नहीं? जानें क्या कहती है नई रिपोर्ट

पाकिस्तान, वित्तीय कार्रवाई कार्य बल (एपएटीएफ) की 'ग्रे सूची' में संभवत: बना रहेगा क्योंकि वैश्विक निगरानी कार्य योजना द्वारा दिए गए 27 लक्ष्यों में...