27 C
Mumbai
Monday, November 30, 2020

ED की कार्रवाई के खिलाफ माल्या की याचिका पर 30 अक्टूबर को कोर्ट सुना सकती है फैसला

Must read

जेडीयू नेता बोले, चार्जशीटेड तेजस्वी को अपराध पर बोलने का हक नहीं

प्रदेश जदयू मुख्य प्रवक्ता संजय सिंह ने कहा है कि नेता विपक्ष तेजस्वी प्रसाद यादव अगर वाकई अपराध को लेकर गंभीर हैं तो सबसे...

बिहार संक्रमितों की संख्या 2,35,159 हुई, 606 नये कोरोना पॉजिटिव मिले, 6 की हुई मौत

बिहार में 606 नये कोरोना संक्रमित मरीजों की पहचान रविवार को हुई और छह कोरोना संक्रमितों की इलाज के दौरान मौत हो गयी। इसके...

बिहार: दारोगा बहाली की परीक्षा में 94 प्रतिशत अभ्यर्थी शामिल हुए, गया में पकड़ा गया मुन्नाभाई

दारोगा, सार्जेंट और सहायक जेल अधीक्षक के 2446 पदों के लिए संयुक्त मुख्य लिखित परीक्षा शांतिपूर्ण ढंग से सम्पन्न हो गया। बिहार के 12...

रफ्तार का कहर: बहन के घर आ रहे दो भाइयों को सुपौल में बस ने रौंदा

बिहार के सुपौल जिले में एनएच 327 ई जदिया-त्रिवेणीगंज मुख्य मार्ग में नाढ़ी मोड़ के पास रविवार सुबह सवा छह बजे एक बस ने...
MCS Deskhttps://metrocitysamachar.com/
Latest Breaking News India, Express Headlines 2020, Political News - Metro City Samachar

ED की कार्रवाई के खिलाफ माल्या की याचिका पर 30 अक्टूबर को कोर्ट सुना सकती है फैसला

कारोबारी विजय माल्या की याचिका पर मुंबई की अदालत 30 अक्टूबर को अपना आदेश सुना सकती है. याचिका में उसे भगोड़ा आर्थिक अपराधी घोषित करने के लिए प्रवर्तन निदेशालय के जरिए शुरू की गई कार्रवाई पर रोक लगाने का आग्रह किया है. विशेष अदालत ने इस मामले में माल्या के वकील और प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) के वकीलों की दलीलों को सुना. उसके बाद आदेश 30 अक्टूबर तक के लिए सुरक्षित रख लिया.

ईडी ने अपनी याचिका में आग्रह किया है कि फिलहाल लंदन में रह रहे माल्या को भगोड़ा आर्थिक अपराधी (एफईओ) घोषित किया जाए और उसकी संपत्ति जब्त की जाए और नए एफईओ कानून के प्रावधानों के तहत उसे केंद्र सरकार के नियंत्रण में लाया जाए. हालांकि माल्या के वकील अमित देसाई ने अदालत से मनी लाड्रिंग निरोधक कानून (पीएमएलए) मामले में ईडी की याचिका पर सुनवाई 26 नवंबर तक टाले जाने का आग्रह किया.

देसाई ने अदालत से कहा कि इस महीने की शुरूआत में मनी लांड्रिंग मामले में अपीलीय न्यायाधिकरण ने ईडी से माल्या की संपत्ति के संदर्भ में 26 नवंबर तक यथास्थिति बनाए रखने को कहा. न्यायाधिकरण उसी दिन मामले की आगे की सुनवाई करेगा. वकील के मुताबिक माल्या कर्जदाताओं का पैसा लौटाने को लेकर गंभीर हैं और उन्होंने पूर्व कर्मचारियों को भी लंबित वेतन और बकाये का भुगतान किया है.

वहीं दूसरी तरफ ईडी के वकील डीपी सिंह ने अदालत से कहा कि देसाई की दलील का मकसद केवल इतना सुनिश्चित करना है कि माल्या को देश की अदालत में कार्यवाही का सामना नहीं करना पड़े. उन्होंने कहा, ‘माल्या का कर्ज लौटाने या भारत आने का काई इरादा नहीं है.’ सिंह ने कहा, ‘माल्या को स्वदेश वापस लाने का एकमात्र तरीका उसे एफईओ घोषित करना है.’

More articles

- Advertisement -
- Advertisement -

Latest article

जेडीयू नेता बोले, चार्जशीटेड तेजस्वी को अपराध पर बोलने का हक नहीं

प्रदेश जदयू मुख्य प्रवक्ता संजय सिंह ने कहा है कि नेता विपक्ष तेजस्वी प्रसाद यादव अगर वाकई अपराध को लेकर गंभीर हैं तो सबसे...

बिहार संक्रमितों की संख्या 2,35,159 हुई, 606 नये कोरोना पॉजिटिव मिले, 6 की हुई मौत

बिहार में 606 नये कोरोना संक्रमित मरीजों की पहचान रविवार को हुई और छह कोरोना संक्रमितों की इलाज के दौरान मौत हो गयी। इसके...

बिहार: दारोगा बहाली की परीक्षा में 94 प्रतिशत अभ्यर्थी शामिल हुए, गया में पकड़ा गया मुन्नाभाई

दारोगा, सार्जेंट और सहायक जेल अधीक्षक के 2446 पदों के लिए संयुक्त मुख्य लिखित परीक्षा शांतिपूर्ण ढंग से सम्पन्न हो गया। बिहार के 12...

रफ्तार का कहर: बहन के घर आ रहे दो भाइयों को सुपौल में बस ने रौंदा

बिहार के सुपौल जिले में एनएच 327 ई जदिया-त्रिवेणीगंज मुख्य मार्ग में नाढ़ी मोड़ के पास रविवार सुबह सवा छह बजे एक बस ने...

बिहार: सड़कों पर बजेगा बैंड-बाजा, शादी समारोह में अब 100 से अधिक लोग होंगे शामिल

शादी- समारोह के अवसर पर बैंड-बाजा पर लगाई गई रोक को प्रशासन ने रविवार को हटा लिया। साथ ही लोगों को रियायत देते हुए...