Global Statistics

All countries
197,920,220
Confirmed
Updated on July 30, 2021 10:48 pm
All countries
177,138,823
Recovered
Updated on July 30, 2021 10:48 pm
All countries
4,222,642
Deaths
Updated on July 30, 2021 10:48 pm

Global Statistics

All countries
197,920,220
Confirmed
Updated on July 30, 2021 10:48 pm
All countries
177,138,823
Recovered
Updated on July 30, 2021 10:48 pm
All countries
4,222,642
Deaths
Updated on July 30, 2021 10:48 pm

ब्लैक फंगस है एक खतरनाक इंफेक्शन, कोरोना संक्रमितों में हो रहे इस इंफेक्शन ने बढ़ा दी लोगों की चिंता

ज्ञानपुर। कोविड-19 की दूसरी लहर के बीच ब्लैक फंगस आ गया। हालांकि जिले में अभी तक इस रोग से संक्रमित कोई रोगी नहीं पाया गया। लेकिन चिकित्सकों की मानें तो यह रोग करोना के संक्रमण से ठीक हुए रोगी चपेट में आ रहे हैं। ऐसे में इस बिमारी ने अब लोगों की चिंता बढ़ा दी है। साथ ही डेल्टा प्लस को भी लेकर लोग भयभीत हैं।

ब्लैक फंगस (म्यूकरमाइकोसिस) देश के अन्य राज्यों में बड़े ही तेजी के साथ फैल रहा है। एक ऐसा खतरनाक इंफेक्शन है। जो अब तक बहुत ही कम लोगों को होता रहा है। लाखों में किसी एक को यह संक्रमण होता था। लेकिन पिछले कुछ दिनों के दौरान कोरोना से संक्रमित मरीजों में यह इंफेक्शन बड़ी तेजी से फैला है। यह इतना खतरनाक संक्रमण है कि इसके शिकार करीब आधे लोगों की जान चली जाती है। कुछ ऐसे मामले भी सामने आए हैं। जिनमें मरीजों को बचाने के लिए उनकी आंखें तक निकालनी पड़ी हैं। ब्लैक फंगस के सबसे अधिक मामले डायबिटिक लोगों में आ रहे हैं। ऐसे में इन्हें सबसे अधिक सावधानी बरतने की जरूरत है और नियमित तौर पर अपना शुगर लेवल चेक करते रहना चाहिए।

ब्लैक फंगस करता है मस्तिष्क व फेफड़ों को प्रभावितः डॉ. पटेल

नगर के वरिष्ठ चिकित्सक डॉ. आरके पटेल ने बताया कि ब्लैक फंगस एक खतरनाक फंगस है। डायबिटिज के मरीज में जिन्हें स्टेरॉयड दिया जा रहा है, कैंसर का इलाज करा रहे मरीज अधिक मात्रा में स्टेरॉयड लेने वाले, कोरोना संक्रमित जो ऑक्सीजन मॉस्क या वेंटिलेटर के जरिए ऑक्सीजन सपोर्ट पर हैं। उनकी रोग प्रतिरोधक क्षमता बेहद कम हो जाती है। उन्होंने कहा कि ऐसे मरीजों को ब्लैक फंगस होने का खतरा बना रहता है। जो आमतौर पर साइनस, मस्तिष्क और फेफड़ों को प्रभावित करता है। डॉ. पटेल ने कहा कि डेल्टा प्लस भी काफी खतरनाक है। इन सबसे बचने के लिए मास्क पहने और दो गज की दूरी बनाए रखें। क्योंकि इसका संक्रमण नाक व मुंह से फैलता है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Hot Topics

Related Articles