27.5 C
Mumbai
Sunday, April 11, 2021

इस वजह से बॉलीवुड में 'जंपिग जैक' कह जाने लगे जितेन्द्र, इंडस्ट्री के हैं पहले रियल डांसिग स्टार, जानिए सभी अनसुने किस्से…

Must Read

महाराष्ट्र में लगेगा पूर्ण लॉकडाउन, CM उद्धव ठाकरे ने दिये संकेत ! फडणवीस ने कहा … तो फूट जायेगा लोगों का गुस्‍सा

सोमवार या मंगलवार को हो सकती समी़क्षा मुंबई. कोरोना पर सर्वंदलीय बैठक में सीएम उद्धव ठाकरे ने कहा कि पूर्ण...

महाभारत के ‘इंद्रदेव’ और कांग्रेस विधायक की कोरोना से मौत

                    कांग्रेस नेता रावसाहेब जयंतराव अंतापुरकर      ...

सुनी गलियां, सुना मंजर… कुछ ऐसी नजर आई मुंबई की सड़कें !

  मुंबई.महाराष्ट्र में शुक्रवार रात 8 बजे से सोमवार सुबह 7 बजे तक लगाये गये वीकेंड पूर्ण लॉकडाउन (Maharashtra Weekend...
MCS Deskhttps://metrocitysamachar.com/
Latest Breaking News India, Express Headlines 2020, Political News - Metro City Samachar

मुंबई के गोरेगांव में लड़कों का एक समूह अक्सर फिल्मों का पहला शो देखा करता था। फिल्म देखने के बाद वे लोगों को बताते कि फिल्म कैसी है। एक दिन निर्माता-निर्देशक व्ही शांताराम फिल्म देखने आए हुए थे। उन्होंने लड़कों के समूह में एक लड़के को फिल्म के बारे में लोगों से बातचीत करते हुए देखा। व्ही शांताराम उस लड़के से काफी प्रभावित हुए और उन्होंने निश्चय किया कि वह उसे अपनी फिल्म में काम करने का मौका देंगे। उन्होंने उसे अपने पास बुलाकर अपनी फिल्म ‘गीत गाया पत्थरों ने’ में काम करने की पेशकश की। यह लड़का रवि कपूर था जो बाद में फिल्म इंडस्ट्री में जितेन्द्र के नाम से मशहूर हुआ।

jeetendra-birthday-special-unknown-facts

सात अप्रेल 1942 को एक जौहरी परिवार में जन्मे जितेन्द्र का रूझान बचपन से ही फिल्मों की ओर था और वह अभिनेता बनना चाहते थे। वह अक्सर घर से भाग कर फिल्म देखने चले जाते थे। जितेन्द्र ने अपने सिने कॅरियर की शुरूआत 1959 में प्रदर्शित फिल्म ‘नवरंग’ से की जिसमें उन्हें छोटी सी भूमिका निभाने का अवसर मिला।

 

jeetendra-birthday-special-unknown-facts

लगभग पांच वर्ष तक जीतेन्द्र फिल्म इंडस्ट्री में अभिनेता के रूप में काम पाने के लिये संघर्षरत रहे। वर्ष 1964 में उन्हें व्ही शांताराम की फिल्म ‘गीत गाया पत्थरों ने’ में काम करने का अवसर मिला। इस फिल्म के बाद जितेन्द्र अपनी पहचान बनाने में कामयाब हो गए। वर्ष 1967 में उनकी एक और सुपरहिट फिल्म फर्ज प्रदर्शित हुई। रविकांत नगाइच निर्देशित इस फिल्म में जितेन्द्र ने डांसिग स्टार की भूमिका निभाई। इस फिल्म में उन पर फिल्माया गीत ‘मस्त बहारो का मैं आशिक’ श्रोताओं और दर्शकों के बीच काफी लोकप्रिय हुआ। इस फिल्म के बाद जितेन्द्र को जंपिग जैक कहा जाने लगा।

 

jeetendra-birthday-special-unknown-facts

फर्ज की सफलता के बाद डांसिग स्टार के रूप में जितेन्द्र की छवि बन गयी। इस फिल्म के बाद निर्माता निर्देशकों ने अधिकतर फिल्मों में उनकी डांसिंग छवि को भुनाया। निर्माताओं ने उनको एक ऐसे नायक के रूप में पेश किया जो नृत्य करने में सक्षम है। इन फिल्मों में हमजोली और कारंवा जैसी सुपरहिट फिल्में शामिल है। इस बीच जितेन्द्र ने जीने की राह, दो भाई और धरती कहे पुकार के जैसी फिल्मों में हल्के-फुल्के रोल कर अपनी बहुआयामी प्रतिभा का परिचय दिया। वर्ष 1973 में प्रदर्शित फिल्म जैसे को तैसा के हिट होने के बाद फिल्म इंडस्ट्री में उनके नाम के डंके बजने लगे और वह एक के बाद एक कठिन भूमिकाओं को निभाकर फिल्म इंडस्ट्री में स्थापित हो गये।

 

jeetendra-birthday-special-unknown-facts

सत्तर के दशक में जितेन्द्र पर आरोप लगने लगे कि वह केवल नाच गाने से भरपूर रूमानी किरदार ही निभा सकते है। उन्हें इस छवि से बाहर निकालने में निर्माता-निर्देशक गुलजार ने मदद की और उन्हें लेकर परिचय, खुशबू और किनारा जैसी पारिवारिक फिल्मों का निर्माण किया। इन फिल्मों में उनके संजीदा अभिनय को देखकर दर्शक आश्चर्यचकित रह गए। जितेन्द्र के सिने करियर पर नजर डालने पर पता लगता है कि वह मल्टी स्टारर फिल्मों का अहम हिस्सा रहे है। फिल्मी जगत के रूपहले पर्दे पर जीतेन्द्र की जोड़ी रेखा के साथ खूब जमी। अस्सी के दशक में उनकी जोड़ी अभिनेत्री श्रीदेवी और जया प्रदा के साथ काफी पसंद की गयी। अपनी अनूठी नृत्य शैली के कारण इस जोड़ी को दर्शकों ने सिर आंखों पर बैठा लिया।

 

jeetendra-birthday-special-unknown-facts

वर्ष 1982 से 1987 के बीच जितेन्द्र ने दक्षिण भारत के फिल्मकार टी रामाराव, के. बापैय्या, के. राघवेन्द्र राव आदि की फिल्मों में भी काम किया। नब्बे के दशक में अभिनय मे एकरूपता से बचने और स्वंय को चरित्र अभिनेता के रूप में भी स्थापित करने के लिये उन्होंने खुद को विभिन्न भूमिकाओं में पेश किया। वर्ष 2000 के दशक में फिल्मों में अच्छी भूमिकाएं नहीं मिलने पर उन्होंने फिल्मों में काम करना काफी हद तक कम कर दिया। इस दौरान वह अपनी पुत्री एकता कपूर को छोटे पर्दे पर निर्मात्री के रूप स्थापित कराने में उनके मार्गदर्शक बने रहे। जितेन्द्र ने चार दशक लंबे सिने करियर में 250 से भी अधिक फिल्मों में अपने दमदार अभिनय से दर्शकों को मंत्रमुग्ध किया है। वह इन दिनों अपनी पुत्री एकता कपूर को फिल्म निर्माण में सहयोग कर रहे है।

- Advertisement -
- Advertisement -

Latest News

महाराष्ट्र में लगेगा पूर्ण लॉकडाउन, CM उद्धव ठाकरे ने दिये संकेत ! फडणवीस ने कहा … तो फूट जायेगा लोगों का गुस्‍सा

सोमवार या मंगलवार को हो सकती समी़क्षा मुंबई. कोरोना पर सर्वंदलीय बैठक में सीएम उद्धव ठाकरे ने कहा कि पूर्ण...

महाभारत के ‘इंद्रदेव’ और कांग्रेस विधायक की कोरोना से मौत

                    कांग्रेस नेता रावसाहेब जयंतराव अंतापुरकर       इंद्र की भूमिका निभाने वाले...

सुनी गलियां, सुना मंजर… कुछ ऐसी नजर आई मुंबई की सड़कें !

  मुंबई.महाराष्ट्र में शुक्रवार रात 8 बजे से सोमवार सुबह 7 बजे तक लगाये गये वीकेंड पूर्ण लॉकडाउन (Maharashtra Weekend lockdown guidelines) के दौरान शनिवार...

बंगाल विधानसभा चुनाव: चौथे चरण के मतदान में हिंसा, गोलीबारी में 5 लोगों की मौत, पोलिंग बूथ 126 पर वोटिंग बंद

कोलकता. बंगाल विधानसभा चुनाव एक फिर हिंसक बन गया. शनिवार को शीतलकुची के माथाभंगा ब्लॉक में गोलीबारी कि घटना सामने आई है . चौथे...

मीरा-भायंदर में पानी की समस्या से लोग परेशान, नगर निगम अच्छी जलनीति का अभाव : मनसे   

मीरा भायंदर ।  मीरा भायंदर नगर निगम की स्थापना 28 फरवरी 2002 को हुई थी। भले ही निगम को अपनी स्थापना के 19 साल...
- Advertisement -

More Articles Like This

- Advertisement -