Global Statistics

All countries
198,878,345
Confirmed
Updated on August 1, 2021 6:14 pm
All countries
177,800,785
Recovered
Updated on August 1, 2021 6:14 pm
All countries
4,238,503
Deaths
Updated on August 1, 2021 6:14 pm

Global Statistics

All countries
198,878,345
Confirmed
Updated on August 1, 2021 6:14 pm
All countries
177,800,785
Recovered
Updated on August 1, 2021 6:14 pm
All countries
4,238,503
Deaths
Updated on August 1, 2021 6:14 pm

Corona : एक बार फिर बढ़ना शुरू हुआ कोरोना संक्रमण

महाराष्ट्र और केरल में कोरोना संक्रमण (Corona in Maharashtra) ने फिर से रफ़्तार पकड़ी है. तीसरी लहर का डर (Third Wave of Corona) पहले ही जताया जा चुका है. ऐसे में दूसरी लहर खत्म होने से पहले ही एक बार फिर संक्रमण बढ़ना चिंता बढ़ाने वाला है.

अब तक देश में कोरोना संक्रमितों की संख्या लगभग 3 करोड़ का आंकड़ा पार कर चुकी है. कोरोना की वजह से अब तक 4 लाख से अधिक लोगों की मृत्यु हो चुकी है. इस बीच देश के छह साल से अधिक उम्र के 67.6 प्रतिशत लोगों में कोरोना वायरस की एंटीबॉडी तैयार हो चुकी है.

यानी देश की दो तिहाई से अधिक आबादी कोरोना से संक्रमित हो चुकी है. 40 प्रतिशत जनता अभी भी असुरक्षित है. देश का चौथा सीरो सर्वे (SERO Survey)  जारी हुआ है जिससे ये चौंकाने वाले नतीजे सामने आए हैं. सीरो सर्वे से जुड़ी यह जानकारी ICMR ने दी है.

85 प्रतिशत स्वास्थ्य कर्मचारियों में एंटीबॉडी

21 राज्यों के 70 जिलों में जून और जुलाई महीनों में चौथा राष्ट्रीय सीरो सर्वे किया गया. इसमें 28 हजार 975 लोगों ने और 7 हजार 252 स्वास्थ्य कर्मचारियों ने हिस्सा लिया. इनमें से 85 प्रतिशत स्वास्थ्य कर्मचारियों में एंटीबॉडी पाया गया. ऐसे में ICMR ने धार्मिक, राजनीतिक और अन्य कार्यक्रमों में बढ़ती हुई भीड़ को लेकर चिंता जताई है और भीड़ बढ़ाने से बचने की सलाह दी है.

महाराष्ट्र और केरल को लेकर अधिक चिंता

इस बीच एक अहम जानकारी सामने आई है. तेजी से फैलते कोरोना संक्रमण की वजह से लोगों में डर का माहौल है. महाराष्ट्र और केरल में अभी भी कोरोना मरीजों की संख्या क्यों बढ़ रही है, IMA अध्यक्ष ने इसके कारण बताए. इंडियन मेडिकल एसोसिएशन (IMA) अध्यक्ष ने बताया कि केरल और महाराष्ट्र में बड़ी तादाद में अंतर्राष्ट्रीय पर्यटक आते हैं. अंतर्राज्यीय आवाजाही भी बड़े पैमाने पर होती है. इस वजह से इन दोनों राज्यों में कोरोना संक्रमितों की संख्या में तेजी से बढोत्तरी हो रही है.

IMA अध्यक्ष डॉ. जे. ए. जयलाल ने मंगलवारी को यह वक्तव्य दिया. लेकिन उन्होंने यह भी बताया कि केरल में कोरोना संक्रमण अधिक होने के बावजूद वहां मृत्यु दर राष्ट्रीय औसत से कम है. उन्होंने बताया कि लॉकडाउन को लेकर कोई स्पष्ट निर्णय ना कर पाने की वजह से केरल में कोरोना संक्रमण अत्यधिक तेजी से बढ़ा.

केरल में हफ्ते में दो दिन थोड़े अंतरों के साथ लॉकडाउन किया जाता है. इससे बाजारों में भीड़ कायम रहती है. लॉकडाउन सभी जगह और सबके लिए एक साथ और एक ही तरह से लागू किया जाएगा, तभी कोरोना नियंत्रण में आएगा. सुप्रीम कोर्ट ने केरल सरकार को बकरी ईद में लोगों को कोरोना संक्रमण वाले इलाकों में भी छूट देने पर झिड़कियां सुनाईं और कहा कि इससे सरकार ने महामारी के संकट में जनता को जोखिम में डाला है.

Hot Topics

Related Articles