Global Statistics

All countries
197,126,377
Confirmed
Updated on July 29, 2021 7:37 pm
All countries
176,656,580
Recovered
Updated on July 29, 2021 7:37 pm
All countries
4,210,112
Deaths
Updated on July 29, 2021 7:37 pm

Global Statistics

All countries
197,126,377
Confirmed
Updated on July 29, 2021 7:37 pm
All countries
176,656,580
Recovered
Updated on July 29, 2021 7:37 pm
All countries
4,210,112
Deaths
Updated on July 29, 2021 7:37 pm

Love जिहाद : हिंदू लड़की और मुस्लिम युवक धूमधाम से करना चाह रहे थे शादी, वॉट्सऐप पर कार्ड वायरल होने पर रद्द करना पड़ा समारोह

महाराष्ट्र के नासिक में एक हैरान करने वाला मामला सामने आया है। यहां दो अलग-अलग धर्मों के युवक-युवती शादी करना चाह रहे थे। उनके परिवार भी इसके लिए राजी थे, लेकिन समाज के कुछ ठेकेदारों ने इस पर ऐतराज जताया। उन्होंने शादी का कार्ड देखकर इसे लव-जिहाद करार दे दिया। शादी का इतना विरोध हुआ कि लड़के-लड़की और उनके परिवार को समाज के आगे झुकना पड़ा और दोनों ने अपनी शादी रद्द कर दी।

दोनों परिवारों की रज़ामंदी : लड़की के पिता प्रसाद अडगांवकर ज्वेलरी के बिजनेस से जुड़े हैं। उन्होंने बताया कि दोनों परिवारों की रजामंदी और मौजूदगी में लड़का और लड़की नासिक कोर्ट में रजिस्टर्ड शादी कर चुके हैं। परिवार 18 जुलाई को पूरे रीति-रिवाज से इस शादी को करना चाह रहा था। इसके लिए नासिक का एक बड़ा होटल भी बुक कर लिया गया था। इस मामले में जबरन शादी जैसा कुछ नहीं है। पिता ने बताया कि इन सब के बावजूद वे अपनी बेटी के साथ खड़े हैं और उसकी पसंद पर पूरा भरोसा है।

दोनों परिवार की पहचान काफी पुरानी थी : अडगांवकर ने आगे बताया, ‘रसिका दिव्‍यांग है और इस कारण परिवार को उसके लिए अच्‍छा लड़का देखने में परेशानी आ रही थी। हाल ही में रसिका और उसके साथ पढ़ने वाले उसके दोस्‍त आसिफ खान ने अपनी रजामंदी से शादी करने का फैसला किया। दोनों के परिवार एक-दूसरे को काफी साल से जानते हैं, ऐसे में दोनों परिवार शादी के लिए राजी हो गए।’

E rickshaw बैटरी से बनाया बम , टारगेट चुनकर हमले की थी साज़िश

WhatsApp पर हुआ था Card वायरल : प्रसाद अडगांवकर के मुताबिक, कोरोना के खतरे को देखते हुए वे सिर्फ दोनों परिवार और कुछ करीबी लोगों को इस शादी में बुलाना चाहते थे, लेकिन इससे पहले ही शादी का कार्ड कई वॉट्सऐप ग्रुप में सर्कुलेट हो गया। इसके बाद उनके पास कार्यक्रम रद्द करने के लिए धमकी भरे फोन कॉल और मैसेज आने लगे। 9 जुलाई को उन्‍हें कुछ लोगों ने मिलने के लिए बुलाया। वहां उनसे कहा गया कि वे यह शादी रद्द कर दें।

पीड़ित परिवार ने केस दर्ज नहीं कराया :
इतने विवाद के बावजूद प्रसाद या उनके परिवार की ओर से किसी के खिलाफ कोई शिकायत दर्ज नहीं करवाई गई है। लाड सुवर्णाकर संस्था, नासिक के अध्यक्ष सुनील महलकर ने बताया कि कुछ दिन पहले प्रसाद की ओर से हमें एक पत्र मिला, जिसमें लिखा था कि उनकी बेटी की शादी रद्द कर दी गई है। हालांकि इस मामले को लेकर लड़के के परिवार ने अब तक चुप्पी साध रखी है।

Hot Topics

Related Articles