Global Statistics

All countries
198,975,120
Confirmed
Updated on August 2, 2021 1:23 am
All countries
177,875,179
Recovered
Updated on August 2, 2021 1:23 am
All countries
4,239,777
Deaths
Updated on August 2, 2021 1:23 am

Global Statistics

All countries
198,975,120
Confirmed
Updated on August 2, 2021 1:23 am
All countries
177,875,179
Recovered
Updated on August 2, 2021 1:23 am
All countries
4,239,777
Deaths
Updated on August 2, 2021 1:23 am

हैदराबाद की राजधानी तेलंगाना से पहले कैबिनेट मंत्री हैं किशन रेड्डी ; साधारण कार्यकर्ता से मंत्री बनने तक का सफर कैसा रहा ?

किशन रेड्डी को मंत्रिमंडल विस्तार में केबिनेट मंत्री बनाया गया है. किशन रेड्डी उन नेताओं में से हैं, जिन्होंने एक कार्यकर्ता के तौर पर राजनीति की शुरुआत की थी और आज मंत्री पद तक पहुंचे हैं.

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के नेतृत्व वाली सरकार के दूसरे कार्यकाल में पहली बार मंत्रिमंडल का विस्तार किया गया. इस दौरान 43 सांसदों ने मंत्री पद की शपथ ली, जिसमें कई नए चेहरों को जगह मिली. मंत्रिमंडल में उन नेताओं को भी शामिल किया गया है, जो जमीनी राजनीति की सीढ़ी चढ़ते हुए यहां तक पहुंचे हैं. ऐसे नेताओं में एक नाम तेलंगाना के सांसद किशन रेड्डी का भी है.

 

कैसा रहा सफर एक साधारण कार्यकर्त्ता से मंत्री बनने तक : किशन रेड्डी एक किसान परिवार से आते हैं और उन्होंने सीआईटीडी से टूल्स इंजीनियरिंग में डिप्लोमा किया है. उन्होंने साल 1977 में एक युवा नेता के तौर पर राजनीति में कदम रखा और फिर 1980 में BJP की स्थापना के बाद इससे जुड़ गए. साल 2002 से 2005 के बीच BJP युवा मोर्चा का राष्ट्रीय अध्यक्ष बनाया गया. इसके बाद 2004 में जी. किशन रेड्डी हिमायतनगर सीट से पहली बार विधायक बने और उस वक्त वो ही सिर्फ ऐसे बीजेपी नेता थे, जिन्होंने आंध्र प्रदेश में जीत दर्ज की थी.

इसके बाद उन्होंने 2009 और 2014 में अंबरपेट विधानसभा सीट से जीत हासिल की. इसी बीच, साल 2010 में उन्हें आंध्र प्रदेश (तत्कालीन) का बीजेपी अध्यक्ष भी बनाया गया. इससे पहले रेड्डी ने 2009 में आंध्र प्रदेश विधानसभा में बीजेपी के फ्लोर लीडर के तौर पर काम किया, लेकिन आंध्र प्रदेश बीजेपी का अध्यक्ष बनाए जाने के बाद रेड्डी ने इस पद से इस्तीफा दे दिया था. किशन रेड्डी तेलंगाना के सिकंदराबाद से सांसद हैं, जो 2019 में चुनाव जीतकर संसद पहुंचे. रेड्डी को तेलंगाना के सिकंदराबाद लोकसभा क्षेत्र से 2019 में सांसद चुना गया था और वो गृह राज्य मंत्री भी बने. किसी राजनीतिक पृष्ठभूमि वाले परिवार से ताल्लुक ना होने के बावजूद किशन रेड्डी ने कार्यकर्ता से कैबिनेट मंत्री तक का सफर तय किया.

मोदी सरकार के दूसरे कार्यकाल में गृह मंत्रालय की ओर से कई बिल संसद में पेश किए. उनकी तीन तलाक, आर्टिकल 370, साइबर क्राइम पोर्टल www.cybercrime.gov.in, जैसे महत्वपूर्ण फैसलों में अहम भूमिका रही है. इसके अलावा उन्होंने कोरोना वायरस महामारी के दौरान भी कई ऐसे कार्य किए हैं, जिनकी काफी सराहना की गई है.

लोगों के समुचित विकास और समाज सेवा को लेकर उन्हें कई अंतरराष्ट्रीय सम्मान भी मिले हैं. उन्हें यूनिसेफ की ओर से बेस्ट चाइल्ड फ्रेंडल लेजिस्लेटर के अवार्ड से सम्मानित किया गया था. इसके अलावा Maryland India Business Round Table, अमेरिका की ओर से लीडरशिप अवार्ड भी दिया गया है.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Hot Topics

Related Articles