Global Statistics

All countries
197,071,474
Confirmed
Updated on July 29, 2021 6:37 pm
All countries
176,646,885
Recovered
Updated on July 29, 2021 6:37 pm
All countries
4,210,002
Deaths
Updated on July 29, 2021 6:37 pm

Global Statistics

All countries
197,071,474
Confirmed
Updated on July 29, 2021 6:37 pm
All countries
176,646,885
Recovered
Updated on July 29, 2021 6:37 pm
All countries
4,210,002
Deaths
Updated on July 29, 2021 6:37 pm

उत्पीड़न और अत्याचार के खिलाफ आंदोलित हुए समाजवादी, सड़क पर उतर कर किया प्रदर्शन, ज्ञापन सौंप दी गिरफ्तारी

भदोही/ज्ञानपुर। जिला पंचायत अध्यक्ष और ब्लाक  प्रमुख के चुनाव में की गई हिंसा, सत्ता का दुरूपयोग, महिलाओं के अपमान तथा दुव्र्यवहार के साथ ही बढ़ती महंगाई, बेरोजगारी, भ्रष्टाचार एवं ध्वस्त हो चुकी कानून व्यवस्था के विरोध में सपा सुप्रीमों व पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव के आह्वान पर समावादियों द्वारा जिले के तीनों तहसीलों पर धरना प्रदर्शन कर राज्यपाल के नाम ज्ञापन सौंपा गया। इस दौरान आंदोलित सपाइयों की जगह-जगह पर पुलिस द्वारा गिरफ्तारी करते हुए आंदोलन को विफल करने का प्रयास भी किया गया।  प्रदेश नेतृत्व द्वारा घोषित इस धरना प्रदर्शन कार्यक्रम को लेकर समाजवादी कार्यकर्ताओं एवं पुलिस के बीच जगह-जगह पर बहस भी हुई।

भदोही में धरना प्रदर्शन के लिए तहसील कूंच करने निकले पूर्व विधायक जाहिद बेग के नेतृत्व में सपा कार्यकर्ताओं को पुलिस ने बीच रास्ते में ही हिरासत में ले लिया। इस दौरान पूर्व विधायक श्री बेग पुलिस के इस बरताव पर वहीं पर ही धरने पर बैठ गये और जमकर सरकार विरोधी नारा लगाया गया। पूर्व विधायक श्री बेग ने कहा कि केंद्र और प्रदेश की भाजपा सरकार जनता का विश्वास खो चुकी है। इस पंचायत चुनाव में जनता ने जब भाजपा को नकार दिया, तब जिला पंचायत अध्यक्ष और ब्लाक प्रमुख के चुनाव में सत्ता के दबाव में भाजपा के लोगों द्वारा खुलेआम गुडा गर्दी और जगह-जगह पर हिंसा की गई। यही नहीं कई स्थानों पर सत्ता के जोर जगरदस्ती के कारण कई प्रत्याशियों के पर्चे फाड़कर उन्हें नामांकन से रोका गया और महिला प्रत्याशी एवं प्रस्तावकों के साथ छेड़खानी जैसी घटना भी सामने आई। सरकार के इस अलोकतांत्रिक कृत्य से लोगों में आक्रोश है। पुलिस के बल पर जनता की आवाज को दबाने के लिए भाजपा सरकार चाहे जितनी कोशीश कर ले, 2022 के चुनाव में उसे मुंह की खानी पड़ेगी।

इस दौरान सपा जिला उपाध्यक्ष हसनैन अंसारी, नईबाजार चेयरमैन विजय सोनकर, पन्ना लाल यादव, अलीशेर खां, राजकुमार यादव, मनोज यादव, जाबेद खां आदि तमाम लोग मौजूद रहे। इसी तरह सपा के पूर्व जिलाध्यक्ष मो. आरिफ सिद्दीकी को भी पुलिस द्वारा उनके घर में ही नजरबंद करके रखा गया। घोसिया प्रतिनिधि के अनुसार पूर्व सपा विधायक मधुबाला पासी के नेतृत्व में समाजवादियों ने वर्तमान सरकार की तानाशाही के खिलाफ जमकर हल्ला बोला। पूर्व विधायक श्रीमती पासी के नेतृत्व में सड़क पर उतरे समावादियों ने औराई तहसील पहुंचकर नारेबाजी करते हुए उप जिलाधिकारी आशीष मिश्रा को राज्यपाल के नाम ज्ञापन सौंपा। श्रीमती पासी ने कहा कि अत्याचार, उत्पीड़न और सत्ता के दुरूपयोग के खिलाफ उठने वाली आवाज को पुलिस के बल पर सरकार दबाना चाहती है, लेकिन समाजवादी इससे डरने वाले नहीं है। कहा कि पंचायत चुनाव में जिस तरह से गुंडागर्दी और महिलाओं के सम्मान का चीरहरण का मामला सामने आया है, उससे पूरा समाज आक्रोशित है।

आश्चर्य है कि मर्यादा और आदर्श की बात करने वाले प्रधानमंत्री और मुख्यमंत्री बोलने से कतरा रहे है। कहा कि धारा 144 के नाम पर समाजवादियों के आंदोलन को दबाया नहीं जा सकता। इस दौरान भारी संख्या में मौजूद पुलिस बल द्वारा पूर्व विधायक सहित समाजवादियों की गिरफ्तारी की गई। गिरफ्तारी देने वालों में सपा जिला महासचिव ह्दय नारायण प्रजापति, डॉ. सनवारूल हक, रामयज्ञ पाल, कल्लू सिंह, विनोद यादव, शेषनारायण यादव, महेंद्र पासी, जवाहर यादव, पूर्व जिला पंचायत अध्यक्ष श्यामला सरोज, श्यामधर आदि शामिल रहे। इसी तरह ज्ञानपुर तहसील मुख्यालय पर सपा जिलाध्यक्ष बाल विद्या विकास यादव के नेतृत्व में समाजवादियों ने जमकर नारेबाजी की। उप जिलाधिकारी को अपना मांग पत्र सौंपते हुए सपा जिलाध्यक्ष श्री यादव ने कहा कि प्रदेश की भाजपा सरकार सत्ता के मद में पूरी तरह से चुर है। उसे जनता के भावनाओं से कोई लेना देना नहीं है। उत्पीड़न, अत्याचार के मामले तेजी से बढ़े है।

सत्ता के संरक्षण में पल रहे गुड्डे और अपराधियों ने जिस तरह से पंचायत चुनाव में लोगों को मारा और पीटा, महिलाओं के साथ अभद्रता की, इससे यह साबित होता है कि इस सरकार के दिन अब पूरे हो चुके है। इस दौरान सपा जिलाध्यक्ष विकास यादव सहित प्रदर्शन मंे शामिल सपा के पूर्व प्रदेश सचिव कुंवर प्रमोद चंद्र मौर्य, राजेश सोनकर, प्रदीप यादव, संतलाल यादव, रवि पटेल, रविंद्र पटेल, गोविंद निसाद, सुमित मौर्या, अनिल यादव, कमलेश प्रजापति आदि सपा नेताओं को पुलिस द्वारा गिरफ्तार किया गया। जहां पर पुलिस लाइन ले जाकर सभी को दोपहर बाद रिहा किया गया।

Hot Topics

Related Articles