Global Statistics

All countries
195,060,907
Confirmed
Updated on July 26, 2021 5:07 pm
All countries
175,229,708
Recovered
Updated on July 26, 2021 5:07 pm
All countries
4,179,124
Deaths
Updated on July 26, 2021 5:07 pm

Global Statistics

All countries
195,060,907
Confirmed
Updated on July 26, 2021 5:07 pm
All countries
175,229,708
Recovered
Updated on July 26, 2021 5:07 pm
All countries
4,179,124
Deaths
Updated on July 26, 2021 5:07 pm

समाजवाद का ढह गया किला जिला पंचायत पर निर्दल अनिरुद्ध का कब्जा, विजय मिश्र के जेल में होने से बदली सियासी फिजा, भाजपा में रविन्द्रनाथ त्रिपाठी का बढ़ा सियासी कद 

भदोही। पूर्वांचल की भदोही जिलापंचायत अध्यक्ष पद पर भाजपा विधायक रविन्द्रनाथ त्रिपाठी के भाई एवं निर्दल उम्मीदवार अनिरुद्ध त्रिपाठी ने कब्जा जमा लिया है।

शनिवार को हुए मतदान में 26 मतों में 25 लोगों ने मतदान किया। त्रिपाठी को कुल 20 मत मिले जबकि प्रतिद्वंदी अमित सिंह को सिर्फ चार मत। एक मत निरस्त हुआ है। जीत के बाद जिलाधिकारी आर्यका आखौरी ने उन्हें प्रमाण पत्र सौंपा। इस चुनाव को लेकर भाजपा दो खेमों में बंट गई थी। लेकिन दिग्गज भाजपाई विधायक के साथ थे। भारी संख्या में फोर्स तैनात की गई थी। भाजपा ने पहले अमित सिंह को अपना उम्मीदवार घोषित किया था जबकि उनके सामने पार्टी के ही भाजपा विधायक रविंद्रनाथ त्रिपाठी के भाई अनिरुद्ध ने निर्दल उम्मीदवार के रूप में अपना नामांकन किया था। इस स्थिति को देखते हुए भाजपा के सामने विकट परिस्थिति बन गई थी। क्योंकि जिला पंचायत अध्यक्ष का चुनाव भाजपा बनाम भाजपा हो गया था। जबकि समाजवादी पार्टी, बसपा और कांग्रेस इस पूरे खेल से बाहर दिखे। समाजवादी पार्टी की उम्मीदवार श्याम कुमारी अपना नामांकन तक नहीं दाखिल कर पायी, जिसकी वजह से सपा जिलाध्यक्ष को पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव की नाराजगी झेलनी पड़ी।

ऐसे हालात में लड़ाई सीधे तौर पर भाजपा बनाम भाजपा में हो गई थी। इस चुनाव को लेकर पार्टी दो भागों में विभाजित हो गई थी। एक धड़ा अमित सिंह को समर्थन कर रहा था जबकि दूसरा भाजपा विधायक रविंद्र नाथ त्रिपाठी के साथ रहा। इस हालात में भाजपा बेहद असमंजस में थी जिसकी वजह से उसे अंततः अधिकृत उम्मीदवार अमित सिंह से समर्थन वापस लेना पड़ा। जिसके बाद से ही माना जा रहा है कि भाजपा विधायक रविंद्र नाथ त्रिपाठी के भाई अनिरुद्ध का पलड़ा भारी है। इस जीत के बाद विधायक रविन्द्रनाथ त्रिपाठी एक मजबूत ब्राह्मण नेता के रुप में भी उभरे हैं। इस चुनाव का भविष्य में पूर्वांचल की राजनीति पर भी पड़ेगा। अब देखना होगा की ब्राह्मणों में वह विजय मिश्र जैसी छबि बना पाते हैं कि नहीं यह वक्त बताएगा। जिला पंचायत अध्यक्ष पर कब्जा करने के बाद भाजपा विधायक रविंद्रनाथ त्रिपाठी राजनीति के मजे हुए खिलाड़ी के रूप में उभरे हैं। उन्होंने बाहुबली विधायक विजय मिश्र के तिलस्म को तोड़ दिया है।

अब तक इस सीट पर समाजवादी पार्टी की जीत होती चली आ रही थी, जिसमें विधायक विजय मिश्र का दबदबा रहता था। लेकिन विधायक विजय मिश्र इस समय जेल में हैं। जिसकी वजह से भाजपा विधायक रविंद्रनाथ त्रिपाठी ने इस सीट पर कब्जा जमा लिया। उनकी जीत कई मायनों में अहम है। भदोही की राजनीति में वह नयी शख्सियत के रूप में उभरे हैं। इस जीत की वजह से योगी सरकार में उनका कद बढ़ सकता है। उन्होंने न सिर्फ अपने भाई को जीत दिलाई है, बल्कि भदोही जिला पंचायत पर कब्जा कर समाजवादी पार्टी का गढ़ ढ़हा दिया है। इस चुनाव में जीत के बाद सभी विरोधी चित्त हो गए हैं। विधायक का सियासी कद भी बढ़ गया है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Hot Topics

Related Articles