Global Statistics

All countries
197,948,685
Confirmed
Updated on July 30, 2021 11:48 pm
All countries
177,154,704
Recovered
Updated on July 30, 2021 11:48 pm
All countries
4,223,053
Deaths
Updated on July 30, 2021 11:48 pm

Global Statistics

All countries
197,948,685
Confirmed
Updated on July 30, 2021 11:48 pm
All countries
177,154,704
Recovered
Updated on July 30, 2021 11:48 pm
All countries
4,223,053
Deaths
Updated on July 30, 2021 11:48 pm

युवाओं के अंदर राम नाम की ज्योत जगाएगा ‘स्कूल ऑफ राम नाम’ का वर्चुअल बैंक, हो गयी शुरुआत

शास्त्रों के द्वारा राम नाम को कष्ट निवारण मंत्र कहा गया है, यह इस लोक के अलावे परलोक को भी संवारता है. शास्त्रों के अनुसार “राम नाम” का जाप ब्रह्माण्ड की परिक्रमा के समान है.

जयपुर -भारत के आदर्श “मर्यादा पुरुषोत्तम भगवान श्री राम” की महिमा का बखान करने और तकनीक के दौर का उपयोग कर युवाओं को राम नाम की भक्ति से जोड़ने के लिए दुनिया के पहले वर्चुअल विद्यालय “स्कूल ऑफ राम नाम ” के वर्चुअल बैंक की शुरुआत हुई है, गलता तीर्थ के महंत स्वामी श्री अवधेशाचार्य ने इस ऑनलाइन बैंक का उदघाटन किया ।

इस बैंक में हिन्दी, उर्दू, बांग्ला, अंग्रेजी आदि किसी भी भाषा का उपयोग कर राम नाम लिख के जमा किया जा सकता है, शास्त्रों में बताया गया है कि ” राम से भी बड़ा राम का नाम होता है ” . काशी हिन्दू विश्वविद्यालय (BHU ) में अध्ययनरत विद्या भारती के पूर्व छात्र प्रिंस तिवारी ने राम नाम की अलख जगाने और राम नाम को भक्ति से जोड़ने के लिए दुनिया के पहले वर्चुअल विद्यालय “स्कूल ऑफ राम नाम” के वर्चुअल बैंक की शुरुआत की है ,इस वर्चुअल बैंक का शुभारंभ गलता तीर्थ के महंत स्वामी श्री अवधेशाचार्य महाराज ने किया.

प्रिंस तिवारी ने बताया कि ये एक अनोखा बैंक है, जो लोग पूर्वकाल से राम नाम लिखते आ रहे हैं. राम नाम बैंक ने जप माला के क्रम से 108 बार राम नाम को एक पेज पर अंकित करने की विशेष विधि तैयार की है, जो भारत तक ही नहीं बल्कि विश्व के हर कोने तक पहुंचने वाली है. हर वर्ष रामनवमी “राम नाम ” लेखन के बाद भक्त पुरे वर्ष भर अपनी पुस्तिका बैंक में जमा करते रहेंगे. प्रथम बार जमा करने पर भक्तों को एक खाता संख्या दी जाएगी और उसके बाद हर बार उसी खाते में उनके द्वारा लिखित राम नाम का लेखा-जोखा जोड़ा जाएगा. तिवारी ने बताया कि छह साल की आयु से लेकर किसी भी आयु वर्ग के लोग खाता खोल सकते हैं. उन्हें खाता संख्या दी जाएगी. राम नाम लेखन पुस्तिका इंटरनेट से मुफ्त डाउनलोड हो सकेगा. इसके ऊपर रामनाम लिख कर मेल द्वारा सब्मिट करना होगा. और खाते में जितने भी राम नाम संग्रहित होंगे उसका लेखा जोखा हर वर्ष रामनवमी को किया जाएगा.

 

सोशल नेटवर्किंग के साइट पर भी राम नाम का परचम लहराएगा : 

श्री राम का नाम हिन्दी, उर्दू, बांग्ला, अंग्रेजी आदि कई भाषाओं में हाथ से लिखा हुआ और टाइप फॉर्म में जमा करने की सुविधा दी गयी है। वर्तमान दौर में फेसबुक, ट्विटर जैसे कई सोशल नेटवर्किंग साइट पर भी श्री राम नाम की गूंज होगी। “राम नाम” लेखन पुस्तिका इन्टरनेट से निःशुल्क डाउनलोड किया जा सकता है। कम्प्यूटर, लैपटॉप, टैबलेट पर ही राम नाम टाइप करेंगे, इस आधुनिकीकरण क्रांति के जरिए कागज की अच्छी बचत होगी और युवा पीढ़ी भी धर्म के कार्यों में जुड़कर अपने प्रतिदिन की चिंताओं से मुक्ति पा सकेंगे। स्वामी श्री अवधेशाचार्य ने कहा कि मोक्ष प्राप्ति, शांति एवं आध्यात्मिक उर्जा ग्रहण करने के अनेकों माध्यम है बस रूचि होनी चाहिए।

शास्त्रों के अनुसार श्री राम नाम को निवारण मंत्र कहा जाता है , ये लोक और परलोक दोनों स्थानो पर कर्म को संवारता है. राम नाम की महिमा इतनी बड़ी है जिसको ब्रह्माण्ड की परिक्रमा के समान माना जाता है। इस बैंक का उपयोग भारत के अलावे समूचे विश्व के श्रद्धालु जो राम के नाम का परचम लहराकर सबका कल्याण की सोचते हैं वो सभी अपनी-अपनी भाषाओं में लिखकर “राम नाम” को जमा कर सकते हैं। स्वामी अवधेशाचार्य और युवराज स्वामी राघवेन्द्र जी ने राम नाम के महत्व पर प्रकाश डाला जिसमे बड़ी संख्या में युवाओं ने कार्यकर्म में जुड़कर अपनी रूचि दिखाई।

इस बैंक के माध्यम से लोगों के अंदर न केवल आस्था बल्कि विश्वास भी प्रबल होगा ,जिस राम नाम की पूंजी को वो यहां जमा करेंगे उससे उनका ये लोक ही नहीं बल्कि परलोक भी संवरेगा । बैंक में जमा राम नाम की पूंजी का ब्याज का लाभ राम भक्त खाताधारक के परलोक को बेहतर करेगा.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Hot Topics

Related Articles