Global Statistics

All countries
198,843,118
Confirmed
Updated on August 1, 2021 4:13 pm
All countries
177,784,158
Recovered
Updated on August 1, 2021 4:13 pm
All countries
4,238,118
Deaths
Updated on August 1, 2021 4:13 pm

Global Statistics

All countries
198,843,118
Confirmed
Updated on August 1, 2021 4:13 pm
All countries
177,784,158
Recovered
Updated on August 1, 2021 4:13 pm
All countries
4,238,118
Deaths
Updated on August 1, 2021 4:13 pm

45 प्रकार के कर्मकार एवं स्वनियोजित श्रमिक पंजीयन कराने के पात्रः सरजूराम

ज्ञानपुर। अपर श्रम आयुक्त उ.प्र. विन्ध्याचल मंडल, पिपरी सोनभद्र सरजू राम शर्मा ने बताया कि असंगठित कर्मकार सामाजिक सुरक्षा अधिनियम 2008 सपठित उ.प्र. असंगठित कर्मकार सामाजिक सुरक्षा नियमावली 2016 के अंर्तगत 45 प्रकार के कर्मकार एवं स्वनियोजित श्रमिक पंजीयन कराने के पात्र हैं। जिसमें धोबी, दर्जी, माली, मोची, नाई, बुनकर, कोरी, जुलाहा, रिक्शा चालक, घरेलू कर्मकार, कुड़ा बिनने वाले कर्मकार, हाथ ठेला चलाने वाले, फुटकर सब्जी, फल फूल बिक्रेता, चाय चाट ठेला लगाने वाले, फूटपात व्यापारी, हमाल कूली, जनरेटर लाइट उठाने वाले, कैटरिंग में कार्य करने वाले, फरी लगाने वाले, मोटर साइकिल, साइकिल मरम्मत करने वाले, गैरेज कर्मकार, परिवहन में लगे कर्मकार, आटो चालक, सफाई कामगार, ढ़ोल बाजा बजाने वाले, टेन्ट हाउस में कार्य करने वाले, मछूवारा तांगा, बैलगाड़ी चलाने वाले, अगरबत्ती (कुटीर उद्योग) बनाने वाले, गाड़ीवान, दुकानों में काम करने वाले ऐसे मजदूर जो ईएसआई व ईपीएफ से आवर्त न हो। खेतीहर कर्मकार चरवाहा दूध दुहने वाले, नाव चलाने वाला (नाविक) नट नटीनी, रसोईया, हड्डी बिनने वाले (हड्डे बिन्ने) समाचार पत्र बेचने वाले (हाकर) ठेका मजदूर (जो ईएसआई एवं ईपीएफ से आवर्त न हो) खड्डी पर कार्य करने वाले (सूत, रगाई, कताई, धुलाई आदि) दरी, कम्बल, जरी, जरदोजी, चिकन कार्य, मीट शॉप व पोल्ट्री फार्म पर कार्य करने वाले, डेयरी पर कार्य करने वाले श्रमिक, कॉच की चूड़ी व अन्य कॉच उत्पादो में स्वरोजगार कार्य करने वाले कर्मकार।उन्होंने बताया कि उपरोक्त कर्मकारों का पंजीयन एवं उन्हें विभिन्न कल्याणकारी योजनाओं का हितलाभ दिलाये जाने की कार्यवाही एवं अनुश्रवण हेतु उ.प्र. राज्य सामाजिक सुरक्षा बोर्ड का गठन किया गया है। जिसका मुख्यालय इन्दिरा भवन लखनऊ में स्थित है। बोर्ड की वेबसाइट का उद्घाटन मुख्यमंत्री जी के द्वारा गत 09 जून 2021 को किया जा चुका है। उपरोक्त वेबसाइट के माध्यम से उपरोक्त 45 प्रकार के कामगार अपना पंजीयन कर सकते है। अथवा किसी कम्प्यूटर वाले व्यक्ति या जनसेवा केन्द्र से करा सकते है। पॉच वर्ष के लिए पंजीयन कराने हेतु एक मुस्त शुल्क 60 जमा करना होगा। तथा पॉच वर्ष पूर्ण होने पर 50 शुल्क जमा करने हेतु अगले पॉच वर्ष के लिए नवीनीकरण कराया जा सकेगा। पंजीयन कराने के इच्छूक श्रमिक सर्व प्रथम इन्टरनेट ब्राउजर से बोर्ड की वेबसाइट खोलें। वेबसाइट खोलने पर वर्कर रजिस्टेशन एप्लीकेशन पर एप्लाई को क्लीक करें। उसके बाद न्यू वर्कर रजिस्टेªशन पर क्लीक करें। उसके बाद नेचर आफ वर्क, इम्पाइमेंट ऑफ वर्कर पर क्लीक करके अपने कार्य की प्रक्रिया को चुनें। उसके बाद श्रमिक अपना आधार नम्बर, नाम, मोबाइल नम्बर डालकर ओटीपी सेन्ट पर क्लीक करें। उसके बाद श्रमिक के मोबाइल नम्बर पर 6 अंको का नम्बर मिलेगा। जिसे ओटीपी के कॉलम में भरकर सबमिट करें।

इस पर आवेदन का फार्म खुलकर प्राप्त होगा। जिसमें अपना नाम, पता, बैंक खाता विवरण, आदि समस्त विवरण भरें। इसके बाद श्रमिक अपना फोटो अपलोड करें। उसके बाद प्रधानमंत्री श्रमिक सुरक्षा बीमा का सहमति सह घोषणा फार्म भरकर एवं हस्ताक्षर करके अपलोड करें। उसके बाद सह घोषणा पर सही क्लीक करके सबमिट करें। उसके बाद शुल्क भुगतान का प्रकार चुनें जिसमें ऑनाईन या कैश आयेगा। कैश की स्थिति में चालान बनकर आयेगा। जिसे बैंक में जमा करना होगा। ऑनलाईन का भुगतान विकल्प चुनने पर इन्टरनेट बैंकिग, डेविट/क्रेडिट कार्ड, भीम यूपीआई वॉयलेट आदि के माध्यम से शुल्क का ऑनलाईन भुगतान कर सकते है। 60 का शुल्क भुगतान हो जाने पर श्रमिक अपना पंजीयन प्रमाण पत्र डाउनलोड एवं प्रिन्ट कर सकते है। पंजीकृत श्रमिक निम्नलिखित दो योजनाओं का हितलाभ प्राप्त करने के अधिकारी रहेगें। मुख्यमंत्री दुर्घटना बिमा योजना, इस योजना के अन्तर्गत पंजीकृत श्रमिक दुर्घटना के कारण मृत्यु या पूर्ण शारिरीक अक्षमता की स्थिति में दो लाख, दोनों हाथों अथवा दोनो पैरो की क्षति होने पर दो लाख, एक हाथ तथा एक पैर की क्षति होने पर दो लाख, एक हाथ या एक पैर या एक ऑख की क्षति होने पर एक लाख, स्थायी दिव्यांगता 50 प्रतिशत से अधिक होने पर एक लाख तथा स्थायी दिव्यांगता 25 प्रतिशत अधिक किन्तु 50 प्रतिशत से कम होने पर 50 हजार की आर्थिक सहायता दी जायेगी। मुख्यमंत्री जन आरोग्य योजना- इस योजना के अन्तर्गत पंजीकृत श्रमिकों एवं उनके परिजनों स्टेट एजेंसी कॉम्प्रीहेन्सिव हेल्थ एण्ड इन्टीग्रेटेड सर्विसेज (साचीज)के द्वारा अधिकृत सरकारी एवं निजी अस्पतालों में इलाज कराने पर प्रति परिवार पॉच लाख तक प्रतिवर्ष कैशलेस निःशुल्क चिकित्सा सुविधा प्रदान की जायेगी।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Hot Topics

Related Articles