26 C
Mumbai
Thursday, August 6, 2020

मुंबई विवि के प्रोफेसर को भारी पड़ी राहुल गांधी की आलोचना, छुट्टी पर भेजा गया

विज्ञापन
Loading...

Must read

अच्छी खबर! अपनी क्यारी- अपनी थाली योजना अब बिहार के सभी जिलों में

‘अपनी क्यारी- अपनी थाली’ योजना राज्य के चार जिलों में कोरोना से जंग में कामयाब रही तो अब सरकार उसके विस्तार की योजना...

कोविड-19 के गंभीर रूप से बीमार मरीजों के इलाज में कारगर साबित हुई नई दवा आरएलएफ-100

अमेरिका के ह्यूस्टन शहर में एक अस्पताल के डॉक्टरों ने आरएलएफ-100 नाम की नई दवा का इस्तेमाल किया है, जिससे गंभीर रूप से बीमार...

लेबनान की राजधानी बेरूत में हुए भीषण धमाके में यूपी की पत्रकार भी घायल

मंगलवार को लेबनान की राजधानी बेरूत में हुए भीषण विस्फोट में उत्तर प्रदेश के मेरठ की पत्रकार आंचल वोहरा भी घायल हो गई...

इमरान खान को करारा झटका: UNSC ने फिर कहा- द्विपक्षीय तरीके से हल करें कश्मीर मुद्दा

कश्मीर घाटी का अंतरराष्ट्रीयकरण करने की पाकिस्तान की कोशिशों को बुधवार को एक और करारा झटका लगा है। संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद (UNSC) ने...
MCS Deskhttps://metrocitysamachar.com/
Latest Breaking News India, Express Headlines 2020, Political News - Metro City Samachar

मुंबई । मुंबई विश्वविद्यालय के एक प्रोफेसर को राहुल गांधी की आलोचना करने के कारण अनिवार्य अवकाश पर भेज दिया गया है। कांग्रेस एवं वामदलों से जुड़े छात्र संगठन उक्त प्रोफेसर की बर्खास्तगी की मांग पर अड़े हैं।

प्राध्यापक योगेश सोमण मुंबई विश्वविद्यालय की थिएटर आर्ट अकादमी में निदेशक हैं। पिछले माह एक रैली में राहुल गांधी ने कहा था, ‘मैं राहुल गांधी हूं, न कि राहुल सावरकर।’ सोमण ने फेसबुक एवं ट्विटर पर इस बयान पर तीखी प्रतिक्रिया व्यक्त की थी। उन्होंने लिखा था कि तुम वाकई सावरकर नहीं हो। सच तो यह है कि तुम सच्चे गांधी भी नहीं हो। वह गांधी की पप्पूगीरी का विरोध करते हैं।

उपकुलपति के कार्यालय का घेराव

उनके इस 51 सेकेंड के वीडियो का विरोध करते हुए कांग्रेस के छात्र संगठन एनएसयूआइ, वामपंथी छात्र संगठन आल इंडिया स्टूडेंट फेडरेशन (एआइएसएफ) एवं छात्र भारती ने प्रदर्शन शुरू कर दिया। इन संगठनों के छात्रों ने उपकुलपति के कार्यालय का घेराव भी किया। छात्र संगठनों द्वारा लगातार हो रहे विरोध प्रदर्शनों को देखते हुए मंगलवार को योगेश सोमण को अनिवार्य अवकाश पर भेज दिया गया।

सोमण के समर्थन में भाजपा

भाजपा मुंबई अध्यक्ष आशीष शेलार ने सोमण पर हुई कार्रवाई की निंदा की और इसे असहिष्णुतापूर्ण कार्रवाई करार दिया। उन्होंने कहा कि एनएसयूआइ एवं एआइएसएफ के सदस्यों द्वारा प्रोफेसर को धमकियां दी जा रही हैं, क्या यह असहिष्णुता नहीं है? कुछ दिनों से शैक्षणिक एवं सांस्कृतिक संस्थानों के छात्रों को भड़काकर उन्हें आंदोलन करने के लिए प्रेरित किया जा रहा है। क्या यह असहिष्णुता नहीं है?

कार्रवाई का कांग्रेस ने किया समर्थन

शेलार की बात का जवाब देते हुए महाराष्ट्र कांग्रेस के प्रवक्ता सचिन सावंत ने कहा कि किसी भी सरकारी कर्मचारी को राजनीतिक गतिविधियों से दूर रहना चाहिए। सोमण भाजपा की शह पर राजनीतिक कार्यक्रमों में हिस्सा लेते रहे हैं। संविधान की रक्षा के लिए एनएसयूआइ ने जो कदम उठाया, हमें उस पर गर्व है।

विज्ञापन
Loading...

More articles

- Advertisement -
- Advertisement -

Latest article

अच्छी खबर! अपनी क्यारी- अपनी थाली योजना अब बिहार के सभी जिलों में

‘अपनी क्यारी- अपनी थाली’ योजना राज्य के चार जिलों में कोरोना से जंग में कामयाब रही तो अब सरकार उसके विस्तार की योजना...

कोविड-19 के गंभीर रूप से बीमार मरीजों के इलाज में कारगर साबित हुई नई दवा आरएलएफ-100

अमेरिका के ह्यूस्टन शहर में एक अस्पताल के डॉक्टरों ने आरएलएफ-100 नाम की नई दवा का इस्तेमाल किया है, जिससे गंभीर रूप से बीमार...

लेबनान की राजधानी बेरूत में हुए भीषण धमाके में यूपी की पत्रकार भी घायल

मंगलवार को लेबनान की राजधानी बेरूत में हुए भीषण विस्फोट में उत्तर प्रदेश के मेरठ की पत्रकार आंचल वोहरा भी घायल हो गई...

इमरान खान को करारा झटका: UNSC ने फिर कहा- द्विपक्षीय तरीके से हल करें कश्मीर मुद्दा

कश्मीर घाटी का अंतरराष्ट्रीयकरण करने की पाकिस्तान की कोशिशों को बुधवार को एक और करारा झटका लगा है। संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद (UNSC) ने...

लॉकडाउन के बाद बढ़ गया बोझ, रोजाना 48 मिनट ज्यादा काम कर रहे लोग

लॉकडाउन के कारण आई आर्थिक चिंताओं ने लोगों पर काम का बोझ बढ़ा दिया। हार्वर्ड और एनवाईयू संस्थानों के विशेषज्ञों ने अपने अध्ययन...