30 C
Mumbai
Thursday, May 28, 2020
विज्ञापन
Loading...

Coronavirus संक्रमण फैलाने के आरोप में देवास और आगर-मालवा जिले के 23 लोग गिरफ्तार

विज्ञापन
Loading...

Must read

जोर से बात करने पर हवा में फैल सकता है कोरोनावायरस

एक हालिया शोध के अनुसार, जो लोग जोर-जोर से बात करते हैं उनके मुंह से निकली हजारों बूंदें गायब होने से पहले आठ से...

बॉलीवुड के ‘सिंघम’ ने 700 परिवारों की मदद के लिए बढ़ाया अपना हाथ, लोगों से की दान देने की अपील

देश में कोरोना के खिलाफ जंग में बॉलीवुड सेलेब्स बढ़-चढ़कर काम कर रहे हैं। इन दिनों बॉलीवुड एक्टर सोनू सूद ने प्रवासियों मजदूरों...
MCS Deskhttps://metrocitysamachar.com/
Latest Breaking News India, Express Headlines 2020, Political News - Metro City Samachar

मध्यप्रदेश के आगर-मालवा और देवास जिलों में कोरोना वायरस संक्रमण के फैलने के सनसनीखेज आरोप में 23 लोगों को गिरफ्तार किया गया है। कोरोना महामारी फैलाने की शंका के खौफनाक कृत्यों में लिप्त रहने के आरोप में पुलिस ने सभी 23 आरोपियों को  गिरफ्तार किया है। प्रदेश में कोरोना वायरस की महामारी से आठ लोगों की मौत हो चुकी है।

आगर-मालवा के जिला पुलिस अधीक्षक मनोज सिंह ने समाचार एजेंसी भाषा को बताया कि जिले के नलखेड़ा कस्बे में एक धार्मिक स्थान के पीछे बने एक कमरे में सामूहिक तौर पर रहने वाले 12 लोगों को गिरफ्तार किया गया है और इन्हें पृथक रखा गया है।

हालांकि उन्होंने साफ किया कि गिरफ्तार किए गए इन लोगों में से किसी ने भी मार्च माह में निजामुद्दीन मरकज में आयोजित तबलीगी जमात के धार्मिक सम्मेलन में हिस्सा नहीं लिया था। एक अन्य अधिकारी ने बताया कि ये मुस्लिम श्रद्धालु अपने समुदाय के लोगों के बीच धर्मोपदेश करने में शामिल थे। 

एसपी ने बताया कि ये लोग दिल्ली के रहने वाले हैं और यहां 10 मार्च को आए थे। उन्होंने कहा कि इन लोगों ने इसकी सूचना भी अधिकारियों को नहीं दी और एक साथ रहकर यहां लागू धारा 144 के तहत निषेधाज्ञा का उल्लंघन किया है।

सिंह ने बताया कि इनके खिलाफ भादंवि की धारा 188 (सरकारी सेवक के कानूनी आदेश की अवहेलना), धारा 269 (उपेक्षापूर्ण कार्य जिससे जीवन के लिए संकटपूर्ण रोग का संक्रमण फैलना संभाव्य हो) और धारा 270 (परिद्वेषपूर्ण कार्य, जिससे जीवन के लिए संकटपूर्ण रोग का संक्रमण फैलना संभाव्य हो) के तहत मामला दर्ज किया गया है।

इसी तरह देवास के पुलिस अधीक्षक कृष्णा वेणी देसावपु ने बताया कि बृहस्पतिवार को देवास में 11 लोगों को आईपीसी की समान धाराओं में गिरफ्तार किया गया है। इनमें से 10 लोग जयपुर से आए थे और वे उस स्थानीय व्यक्ति को जानकारी दिये बिना बिना इधर उधर जा रहे थे जिसने उन्हें आश्रय दिया था। वे जिले में कर्फ्यू लगा होने के बाद भी ऐसा कर रहे थे। उन्होंने बताया कि ये लोग धार्मिक कार्यों से यहां आए हैं।
   

एसपी ने बताया कि प्रक्रिया के मुताबिक इन सभी लोगों को 14 दिन के लिए पृथक रखा गया है। उन्होंने बताया कि इन लोगों में से किसी ने भी मार्च माह में निजामुद्दीन मरकज में आयोजित तबलीगी जमात के धार्मिक सम्मेलन में हिस्सा नहीं लिया था। हालांकि देवास एसपी ने कहा कि ये लोग तबलीगी जमात का हिस्सा हैं और धार्मिक संदेश फैलाने में लगे हुए हैं।

Covid-19: गर्भवती महिलाओं के लिए समय चुनौती भरा, अकेले ही मुकाबला करने को मजबूर

विज्ञापन
Loading...

More articles

- Advertisement -
- Advertisement -

Latest article

जोर से बात करने पर हवा में फैल सकता है कोरोनावायरस

एक हालिया शोध के अनुसार, जो लोग जोर-जोर से बात करते हैं उनके मुंह से निकली हजारों बूंदें गायब होने से पहले आठ से...

बॉलीवुड के ‘सिंघम’ ने 700 परिवारों की मदद के लिए बढ़ाया अपना हाथ, लोगों से की दान देने की अपील

देश में कोरोना के खिलाफ जंग में बॉलीवुड सेलेब्स बढ़-चढ़कर काम कर रहे हैं। इन दिनों बॉलीवुड एक्टर सोनू सूद ने प्रवासियों मजदूरों...

भारत की नीतियों से परेशान हुए इमरान खान, बताया- पड़ोसियों के लिए खतरा

पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान ने बुधवार को आरोप लगाया कि भारत की 'अहंकार से पूर्ण विस्तारवादी नीतियां' उसके पड़ोसियों के लिए खतरा बन...