Global Statistics

All countries
195,050,854
Confirmed
Updated on July 26, 2021 4:06 pm
All countries
175,209,494
Recovered
Updated on July 26, 2021 4:06 pm
All countries
4,179,019
Deaths
Updated on July 26, 2021 4:06 pm

Global Statistics

All countries
195,050,854
Confirmed
Updated on July 26, 2021 4:06 pm
All countries
175,209,494
Recovered
Updated on July 26, 2021 4:06 pm
All countries
4,179,019
Deaths
Updated on July 26, 2021 4:06 pm

UP (Lucknow ) : अलकायदा के दोनों आतंकियों का केस लड़ेगी ” जमीयत उलमा ए हिन्द “

UP: एटीएस अधिकारियों के पराक्रम द्वारा ” अलकायदा ” आतंकी संगठन से ताल्लुक रखने वाले दो आरोपियों को लखनऊ में गिरफ्तार किया गया। इसी बीच खबर आ रही है जमीयत उलेमा कानूनी इमदाद कमेटी के अध्यक्ष गुलज़ार आज़मी ने 14 जुलाई को ये बयान दिया की ATS द्वारा आतंकवाद के आरोप में गिरफ़्तार दो मुस्लिम युवकों के परिवार को ‘जमीयत उलेमा-ए-हिन्द “क़ानूनी लड़ाई में सहायता देगी। 

मिनहाज़ अहमद के पिता ने गुलज़ार आज़मी को लिखा पत्र : सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार, आरोपी मिनहाज़ अहमद के पिता ने गुलज़ार आज़मी को पत्र लिखा जिसमे बोला गया है “मेरे बेटे मिनहाज अहमद को ATS विभाग के लोग आतंकवाद के आरोप में ज़बरदस्ती गिरफ़्तार कर ले गए मैं खुद सरकारी कर्मचारी था और अल्लाह का आभारी हूँ कि मेरी ज़िंदगी हर प्रकार से साफ है और मैंने अपने बेटे की अच्छी परवरिश की है। मैंने अपने बेटे को सभी गलत लोगों के सांगत से दूर रखा। मेरी आपसे गुज़ारिश है की मैं इतना काबिल नहीं की बेटे का मुक़दमा लड़ सकूँ हमारी मदद कीजिये अल्लाह ताला आप सब को इसके बदले बड़ा इनाम देगा।”

गुलज़ार आज़मी का बयान मिलेगी मदद : गुलज़ार आज़मी ने बताया कि अनुरोध प्राप्त होने के बाद जमीयत उलेमा-ए-हिन्द के अध्यक्ष मौलाना अरशद मदनी के आदेश पर आरोपितों को कानूनी सहायता दी जाएगी। मदनी ने कहा कि जमीयत के प्रयासों से अब तक सैकड़ों युवक आतंकवाद के मुकदमों में रिहा हो चुके हैं, जो यह साबित करता है कि जाँच एजेंसियाँ बिना सबूत के धार्मिक पक्षपात के आधार पर गिरफ्तार कर लेती हैं और एक लम्बे समय के बाद अदालतें उन्हें सम्मानजनक बरी कर देती हैं।

जाँच एजेंसियों के एकतरफे रवैये से मुस्लिम लड़कों के साल बर्बाद होते हैं

जमीयत उलेमा-ए-हिन्द के अध्यक्ष मौलाना अरशद ने ये बयान दिया है कि जाँच एजेंसियों के इस एकतरफे रवैये से मुस्लिम लड़कों के जो साल बर्बाद होते हैं , उन्हें कौन लौटाएगा। इसलिए जमीयत ने फास्ट ट्रैक अदालत की माँग की थी ताकि फैसला जल्द हो। अगर वास्तव में दोषी हैं तो सज़ा मिले, अगर निर्दोष हैं तो उन्हें रिहा कर दिया जाए। मदनी ने कहा कि जमीयत आतंकवाद के मामलों में गिरफ्तार बेकुसूर मुसलमानों की सम्मानजनक रिहाई तक अपना संघर्ष जारी रखेगी।

मिनहाज के घर से भारी मात्रा में विस्फोटक सामग्री तथा एक पिस्तौल हुआ बरामद :

एटीएस ने अलकायदा समर्थित ‘अंसार ग़ज़वतुल हिंद’ से जुड़े लखनऊ के दुबग्गा निवासी मिनहाज अहमद तथा मड़ियांव के रहने वाले मशीरुद्दीन उर्फ मुशीर को रविवार (जुलाई 11, 2021) को गिरफ्तार कर मिनहाज के घर से भारी मात्रा में विस्फोटक सामग्री तथा एक पिस्तौल बरामद की थी। मशीरुद्दीन के पास से भी भारी मात्रा में विस्फोटक सामग्री बरामद की गई थी। दोनों को रिमांड पर लेकर पूछताछ की जा रही है।

Afghanistan : सेना डर के भागी तो महिलाओं ने उठाया हथियार

इस मामले में दोनों आरोपितों की मदद करने के आरोप में बुधवार को तीन और लोगों को गिरफ्तार किया गया है। राज्य के अपर पुलिस महानिदेशक (कानून-व्यवस्था) प्रशांत कुमार ने बताया था कि ये लोग अलकायदा के उत्तर प्रदेश मॉड्यूल के मुखिया उमर हलमंडी के निर्देश पर अपने साथियों की मदद से आगामी 15 अगस्त को उत्तर प्रदेश के विभिन्न शहरों, खासकर लखनऊ के महत्वपूर्ण स्थानों, स्मारकों और भीड़भाड़ वाले इलाकों में विस्फोट करने और मानव बम आदि द्वारा आतंकवादी घटनाओं को अंजाम देने की तैयारी कर रहे थे। इसके लिए हथियार तथा विस्फोटक भी जमा किया गया था।

इससे पहले भी जमीयत उलेमा-ए-हिंद ने हिंदू समाज पार्टी के अध्यक्ष कमलेश तिवारी की दिन-दहाड़े गला रेत कर, गोली मार कर हत्या करने वालों का विरोध करने और हत्यारों के खिलाफ कठोर कार्रवाई की बात करने के बजाय उनकी कानूनी मदद का ऐलान किया था। जमीयत उलेमा-ए-हिंद ने कहा था कि हत्यारों को बचाने में जो भी कानूनी खर्च आएगा, उसे वो वहन करेंगे, क्योंकि वो (हत्यारे) गरीब हैं।

 

 

 

 

Hot Topics

Related Articles