26.1 C
Mumbai
Friday, November 27, 2020

इंसान के पास हमेशा घूमते रहते हैं धर्मराज के ये दूत, कर्मों का सारा विवरण चित्रगुप्त तक पहुंचाना होता है इनका काम

Must read

साइको बेटे ने किया बाप का मर्डर

नागपुर. एमआईडीसी थानांतर्गत अमरनगर इलाके में बुधवार की रात एक दिल दहला देने वाली वारदात सामने आई. साइको बेटे ने अपने ही पिता पर धारदार...

कल्याण रेलवे स्टेशन पर बाल-बाल बची जान

ठाणे: मुंबई (Mumbai) के पास कल्याण रेलवे स्टेशन (Kalyan Railway Station) पर एक सब इन्स्पेक्टर और टिकट चेकिंग स्टाफ की सूझभुज से एक शख्स की...

मुंबई-पुणे एक्सप्रेस-वे पर ST बस और ट्रक में भीषण टक्कर

मुंबई-पुणे एक्सप्रेस हाईवे पर गुरुवार सुबह स्टेट ट्रांसपोर्ट (एसटी) और एक ट्रक में जोरदार टक्कर हो गई। दुर्घटना में एक युवक की मौत हुई...

मुंबई आतंकी हमले के 12 साल: जब गोलियों की तड़तड़ाहट से दहल उठी थी मायानगरी

साल 2008 में देश की आर्थिक राजधानी मुंबई पर एक आतंकवादी हमला हुआ था, जिसने भारत समेत पूरी दुनिया को हैरान कर दिया था।...
MCS Deskhttps://metrocitysamachar.com/
Latest Breaking News India, Express Headlines 2020, Political News - Metro City Samachar

नई दिल्ली। जीव जैसा कर्म करता है उसे वैसा ही फल मिलता है। अपने कर्मों से कोई पीछा नहीं छुड़ा सकता है। मौत के बाद आत्मा को जीवित अवस्था में उसके द्वारा किए गए कर्मों के आधार पर सजा का भुगतान करना पड़ता है। 18 पुराणों में से एक गरुड़ पुराण में इन सारी बातों का बहुत ही सुंदर विवरण किया गया है।

 

 गरुड़ पुराण

गरुड़ पुराण में ऐसा कहा गया है कि हर एक इंसान के पास हमेशा श्रवण नामक गण रहते हैं। किसी को कभी न दिखाई देने वाले ये गण मनुष्य के आसपास विचरण करते रहते हैं। स्वर्गलोक, पाताललोक और मृत्युलोक में भ्रमण करने वाले ये गण ब्रह्माजी के पुत्र हैं और इनका काम घूम-घूमकर जीव के अच्छे बुरे कर्मों को देखना होता है।

 

स्वर्गलोक

श्रवण नामक ये देवता दूर रहने पर भी हर एक चीज पर बारीकि से नजर रख सकते हैं और ये सुन भी सकते हैं। इसी वजह से इनका नाम श्रवण है। इंसान किसी काम को अगर सभी से छिपाकर भी अंजाम देता है तो भी श्रवण को इसकी भनक लग ही जाती है। इन देवताओं की स्त्रियों को श्रवणी के नाम से जाना जाता है। देवियों को महिलाओं के चरित्रों की पहचान होती है।

 

Hell

ये सभी धर्मराज के दूत हैं। प्राणियों द्वारा किए गए हर एक कर्म की सूचना ये चित्रगुप्त तक पहुंचाते हैं। यमदूत जब किसी आत्मा को यमलोक ले जाते हैं तो सबसे पहले यमपुरी के द्वार पर स्थित द्वारपाल को सूचित करते हैं। इसके बाद द्वारपाल द्वारा यह बात चित्रगुप्त तक पहुंचाई जाती है और चित्रगुप्त के माध्यम से यमराज जान पाते हैं कि कोई आत्मा उनके पास आई है।

 

चित्रगुप्त

यमराज उस आत्मा द्वारा किए गए कर्मों का लेखा जोखा चित्रगुप्त से पूछते हैं। चित्रगुप्त सारी जानकारी यमराज को देते हैं। विचार करने के बाद ही किसी को स्वर्गलोक में जगह मिलती है तो किसी को नर्क का दर्शन करना पड़ता है।

जन्म ग्रहण

कर्मों के आधार पर ही आत्मा धरती पर जन्म ग्रहण करती है। कोई सुखमय जीवन बिताता है तो किसी की जिंदगी जहन्नुम बन जाती है।

More articles

- Advertisement -
- Advertisement -

Latest article

साइको बेटे ने किया बाप का मर्डर

नागपुर. एमआईडीसी थानांतर्गत अमरनगर इलाके में बुधवार की रात एक दिल दहला देने वाली वारदात सामने आई. साइको बेटे ने अपने ही पिता पर धारदार...

कल्याण रेलवे स्टेशन पर बाल-बाल बची जान

ठाणे: मुंबई (Mumbai) के पास कल्याण रेलवे स्टेशन (Kalyan Railway Station) पर एक सब इन्स्पेक्टर और टिकट चेकिंग स्टाफ की सूझभुज से एक शख्स की...

मुंबई-पुणे एक्सप्रेस-वे पर ST बस और ट्रक में भीषण टक्कर

मुंबई-पुणे एक्सप्रेस हाईवे पर गुरुवार सुबह स्टेट ट्रांसपोर्ट (एसटी) और एक ट्रक में जोरदार टक्कर हो गई। दुर्घटना में एक युवक की मौत हुई...

मुंबई आतंकी हमले के 12 साल: जब गोलियों की तड़तड़ाहट से दहल उठी थी मायानगरी

साल 2008 में देश की आर्थिक राजधानी मुंबई पर एक आतंकवादी हमला हुआ था, जिसने भारत समेत पूरी दुनिया को हैरान कर दिया था।...

PM मोदी कर रहे संविधान दिवस पर संबोधन

नयी दिल्ली. आज संविधान दिवस पर PM मोदी  संबोधन कर रहे हैं. आइये सुनें उनका भाषण. https://twitter.com/narendramodi/status/1331866010140385280 क्या कह रहे हैं PM मोदी: PM मोदी ने कहा...