26 C
Mumbai
Wednesday, December 2, 2020

नीति आयोग ने स्वतंत्र कार्यालय खोलने पर दिया जोर, कहा- RBI की जिम्मेदारियों को भी बांटा जाए

Must read

नगर पालिका परिषद में आयोजित हुआ समारोह तीन वर्ष के सफल कार्यकाल पर पालिकाध्यक्ष सहित सभी सभासदों का किया गया स्वागत

भदोही। स्थानीय निकाय चुनाव हुए तीन वर्ष बीत गए। नगर पालिका परिषद ने अपने तीन वर्ष के कार्यकाल को सफलतापूर्वक पूरा कर लिया। जिसके...

सर्विस लेन के खस्ताहाली पर अधिकारी उदासीन

भदोही। इंदिरा मिल के फ्लाई ओवर निर्माण से यातायात व्यवस्था सुदृण हुआ था लेकिन खस्ता हाल सर्विस लेन ने मुश्किके बढा दिया है। हाल...

ट्रकों में आमने सामने की जोरदार टक्कर बाल बाल बचे लोग घंटों बाधित रहा आवागमन

चौरी। स्थानीय बाजार स्थित ब्रह्माश्रम मंदिर के निकट मंगलवार को प्रात: के समय दो ट्रकों के आमने सामने जोरदार टक्कर हो जाने के चलते...

नवधन में ग्राम समाज की अवैध जमीन से हटेगा विधायक विजय मिश्र का कब्जा तहसीलदार ज्ञानपुर के न्यायालय से बेदखली व जुर्माने का आदेश

नवधन में ग्राम समाज की भूमि पर विधायक ने बनाया है बाउंड्रीवाल ज्ञानपुर। बाहुबली विधायक विजय मिश्र द्वारा डीघ विकासखंड के नवधन गांव में ग्राम...
MCS Deskhttps://metrocitysamachar.com/
Latest Breaking News India, Express Headlines 2020, Political News - Metro City Samachar

नई दिल्ली। नीति आयोग के उपाध्यक्ष राजीव कुमार ने स्वतंत्र ऋण प्रबंधन कार्यालय की स्थापना की वकालत की है। इसके अलावा उन्होंने रिजर्व बैंक की विभिन्न जिम्मेदारियों को भी अलग-अलग निकायों में बांटने पर जोर दिया है। नीति आयोग की ओर से आयोजित एक कार्यक्रम में कुमार ने कहा कि आने वाले वर्षों में भारत का सकल घरेलू उत्पाद (जीडीपी) सात प्रतिशत से अधिक रहेगा।

नीति आयोग ने दी जानकारी

आपको बता दें कि उन्होंने स्वतंत्र ऋण प्रबंधन कार्यालय की स्थापना की जरूरत पर भी बल दिया। कुमार ने कहा कि पहले इस बात पर चर्चा होती है कि केंद्रीय बैंक की भूमिका मौद्रिक नीति-निर्माता या निगरानी करने वाले संगठन के रूप में सीमित होनी चाहिए या सरकारी ऋण प्रबंधन भी उसकी जिम्मेदारियों में से एक होना चाहिए।

2014 में हुई थी इसकी घोषणा

इसके साथ ही उन्होंने कहा कि वर्ष 2014 में वित्त मंत्रालय ने इसकी (स्वतंत्र ऋण प्रबंधन कार्यालय की स्थापना) घोषणा की थी लेकिन यह नहीं हो सका। वित्त मंत्री अरूण जेटली ने फरवरी, 2015 में अपने बजट भाषण में वित्त मंत्रालय के अंतर्गत सार्वजनिक ऋण प्रबंधन एजेंसी (पीडीएमए) के गठन का प्रस्ताव रखा था। पीडीएमए के गठन का विचार हितों के टकराव की वजह से रखा गया था।

आरबीआई भी ब्याज दर पर लेता है फैसला

वहीं, आरबीआई एक तरफ प्रमुख ब्याज दर पर फैसला करता है जबकि दूसरी तरफ वह सरकारी बॉन्ड की खरीद और बिक्री भी करता है। कुमार ने कहा कि रिजर्व बैंक की विभिन्न जिम्मेदारियों को बांटने पर भी चर्चा की जरूरत है। उन्होंने कहा कि इस संबंध में सरकार ने रिजर्व बैंक को मुद्रास्फीति लक्ष्य हासिल करने का सांविधिक प्राधिकरण बनाकर साहसिक कार्य किया है।

(ये कॉपी भाषा से ली गई है।)

Read the Latest Business News on Metrocitysamachar.com पढ़ें सबसे पहले Business News in Hindi की ताज़ा खबरें हिंदी में मेट्रो सिटी समाचार पर

More articles

- Advertisement -
- Advertisement -

Latest article

नगर पालिका परिषद में आयोजित हुआ समारोह तीन वर्ष के सफल कार्यकाल पर पालिकाध्यक्ष सहित सभी सभासदों का किया गया स्वागत

भदोही। स्थानीय निकाय चुनाव हुए तीन वर्ष बीत गए। नगर पालिका परिषद ने अपने तीन वर्ष के कार्यकाल को सफलतापूर्वक पूरा कर लिया। जिसके...

सर्विस लेन के खस्ताहाली पर अधिकारी उदासीन

भदोही। इंदिरा मिल के फ्लाई ओवर निर्माण से यातायात व्यवस्था सुदृण हुआ था लेकिन खस्ता हाल सर्विस लेन ने मुश्किके बढा दिया है। हाल...

ट्रकों में आमने सामने की जोरदार टक्कर बाल बाल बचे लोग घंटों बाधित रहा आवागमन

चौरी। स्थानीय बाजार स्थित ब्रह्माश्रम मंदिर के निकट मंगलवार को प्रात: के समय दो ट्रकों के आमने सामने जोरदार टक्कर हो जाने के चलते...

नवधन में ग्राम समाज की अवैध जमीन से हटेगा विधायक विजय मिश्र का कब्जा तहसीलदार ज्ञानपुर के न्यायालय से बेदखली व जुर्माने का आदेश

नवधन में ग्राम समाज की भूमि पर विधायक ने बनाया है बाउंड्रीवाल ज्ञानपुर। बाहुबली विधायक विजय मिश्र द्वारा डीघ विकासखंड के नवधन गांव में ग्राम...

स्मार्ट मीटरों में गड़बड़ी पर चुप है सरकार-मनोज आप का आरोप समस्या समाधान की जगह मुद्दों से भटकाने का हो रहा काम

भदोही। प्रदेश में स्मार्ट मीटर में हुई गड़बड़ी के सभी आंकड़ें सरकार के पास होने के बावजूद कोई कार्यवाही नहीं की जा रही है।...