Global Statistics

All countries
198,846,340
Confirmed
Updated on August 1, 2021 5:13 pm
All countries
177,785,391
Recovered
Updated on August 1, 2021 5:13 pm
All countries
4,238,145
Deaths
Updated on August 1, 2021 5:13 pm

Global Statistics

All countries
198,846,340
Confirmed
Updated on August 1, 2021 5:13 pm
All countries
177,785,391
Recovered
Updated on August 1, 2021 5:13 pm
All countries
4,238,145
Deaths
Updated on August 1, 2021 5:13 pm

अच्छी जीवन और अच्छी सेहत चाहते हैं तो सप्ताह में दिनों के हिसाब से करें दालों का प्रयोग , जाने क्या कहता है ब्रह्मवैवर्त पुराण ?

अच्छी जीवन और अच्छी सेहत चाहते हैं तो सप्ताह में दिनों के हिसाब से करें दालों का प्रयोग ,जाने क्या कहता है ब्रह्मवैवर्त पुराण ?

सप्ताह के सातों दिन का संबन्ध किसी न किसी ग्रह से जरूर होता है. यदि आपकी इच्छा इन ग्रहों को मजबूत करना है तो सप्ताह के प्रत्येक दिन उस ग्रह से संबन्धित रंग के वस्त्र को पहनना और उसी रंग का आहार लेना भी उचित होगा। ब्रह्मवैवर्त पुराण में लोगों को सप्ताह के प्रत्येक दिन के हिसाब से अलग दाल खाने की अद्भुत और विशेष बात कही गई है जिसका उपयोग कर सेहत और मन को प्रसन्न रखा जा सकता है।

सनातन धर्म के अनुसार सप्ताह का हर दिन किसी न किसी देवी या देवता से संबन्धित है। साथ ही इन दिनों का सम्बन्ध अलग-अलग ग्रहों से भी माना जाता है। इन ग्रहों का संबन्ध सभी रंगों से है, साथ ही इनकी अपनी अलग अलग ऊर्जा का प्रतिक भी है। यदि प्रत्येक दिन के हिसाब से ग्रह से संबन्धित रंग के वस्त्र को धारण किया जाए और उसी रंग की चीजों को अपने आहार में प्रयोग किया जाये तो किसी भी व्यक्ति पर इसका सकारात्मक प्रभाव पड़ता है और उनके सभी कार्यों की पूर्ति होती चली जाती है ,इसके अलावे उस दिन से संबन्धित व्यक्ति का ग्रह भी शक्तिशाली होता है। ब्रह्मवैवर्त पुराण के अनुसार लोगों को सप्ताह के प्रत्येक दिन के हिसाब से अलग दाल खाने के लिए विशेष कहा गया है। माना जाता है कि ऐसा करने से व्यक्ति की कुंडली के अपने ग्रहों की स्थिति को आसानी से मजबूत किया जा सकता है।

आइये जानते हैं किस दिन कौन सी दाल का प्रयोग करना लाभदायक होगा : 

सोमवार : छिलके वाली मूंग की दाल का सेवन सोमवार को करना चाहिए ,लेकिन आपको छिलके वाली मूंग का दाल अगर पसंद नहीं है, तो आप अरहर की दाल का प्रयोग कर सकते हैं क्यूंकि ये बहुत लोगों की पसंद होती है। इसे खाने से व्यक्ति का चंद्र ग्रह मजबूत होता है.

मंगलवार : मंगलवार के दिन लाल रंग का अपना विशेष महत्व होता है ,ऐसे में लाल मसूर की दाल का उपयोग काफी मंगलदायक माना जाता है. हर मंगलवार को लाल मसूर की दाल का सेवन करने मात्र से और इसको दान के रूप में देने से मंगल के द्वारा उत्पन्न होने वाले सभी शुभ प्रभाव दूर होते हैं।

बुधवार : बौद्धिक क्षमता के विकास के लिए और भगवान बुध व गणपति की कृपा पाने के लिए बुधवार के दिन हरी छिलके की मूंग की दाल खाएं. संभव हो तो इसे किसी जरूरतमंद को दान भी करें. ऐसा करने से बुध ग्रह मजबूत होता है, धन की कमी नहीं रहती, सेहत अच्छी होती है और निर्णय लेने की क्षमता मजबूत होती है.

गुरुवार : गुरुवार का दिन भगवान विष्णु और देव गुरू बृहस्पति को समर्पित माना जाता है. इस दिन पीली चीजों का सेवन उत्तम माना जाता है. गुरुवार के दिन चने की दाल खाना सबसे शुभ माना जाता है. साथ ही, ये दाल किसी को दान करनी चाहिए या गाय को गुड़ के साथ आटे की लोई में खिलानी चाहिए. इससे गुरु ग्रह मजबूत होता है. शादी विवाह अड़चनें दूर होती हैं. व्यक्ति धर्म के मार्ग पर अग्रसर होता है, साथ ही धन की कमी नहीं रहती.

शुक्रवार : शुक्र ग्रह को धन, वैभव और विलासितापूर्ण जीवन देने वाला माना जाता है. इस दिन मूंग या कुल्थी की दाल खाना शुभ होता है. इससे आपके जीवन में भौतिक सुख सुविधाओं की कमी नहीं रहती.

शनिवार : शनिवार का दिन शनिदेव को समर्पित माना गया है. इस दिन काली चीजों का सेवन करने से कुंडली में शनि की स्थिति मजबूत होती है. इस दिन काले रंग की उड़द की दाल खानी चाहिए, साथ ही दान भी करनी चाहिए. शनि के मजबूत होने से राहु और केतु संबन्धी तमाम कष्ट भी दूर होते हैं.

रविवार : रविवार का दिन सूर्य देव को समर्पित माना जाता है. वैसे तो इस दिन का रंग लाल है, लेकिन इस दिन लाल रंग की दाल का सेवन करने के लिए मना किया गया है. इस दिन चने की या बिना छिलके वाली मूंग की दाल का सेवन करना अच्छा माना जाता है. इससे सूर्य संबन्धी समस्याएं दूर होती हैं.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Hot Topics

Related Articles