24 C
Mumbai
Saturday, December 5, 2020

इस्लामाबाद हाई कोर्ट ने खारिज की नवाज शरीफ की जमानत याचिका, कहा-मेडिकल आधार पर बेल नहीं

Must read

बोईसर स्थित कार्यसम्राट सामाजिक संस्था द्वारा रुग्णवाहिका का उद्घाटन

  कार्यसम्राट नामक समाज सेवी संस्था के संस्थापक अध्यक्ष श्री विजय वैद्य की समाज सेवी भावना को मूर्त रूप देने के लिए संस्था ने एक...

कोलकाता में उतरा विमान,खराब मौसम के कारण बंगलुरु-दरभंगा फ्लाइट हुई डायवर्ट, यात्रियों को हुई परेशानी

दरभंगा एयरपोर्ट पर खराब मौसम में विमानों की लैंडिंग में परेशानी हो रही है। शुक्रवार को दूसरे दिन भी एक फ्लाइट को डायवर्ट करना...

विद्युत की चोरी में आठ पर मुकदमा दर्ज

जासं, भदोही : बकाया वसूली महाअभियान के क्रम में शुक्रवार को विजिलेंस टीम के साथ विद्युत विभाग के अधिकारियों ने मोढ़, बीजापुर, गड़ेरियापुर सहित...

बदमाशों तक पहुंची पुलिस प्रयागराज से आए थे बदमाश

जागरण संवाददाता, ऊंज (भदोही) : जंगीगंज बाजार में बुधवार को दुस्साहसिक तरीके से बाइक सवार बदमाशों ने पैसा मांगने पर फायरिग झोंक दी थी।...
MCS Deskhttps://metrocitysamachar.com/
Latest Breaking News India, Express Headlines 2020, Political News - Metro City Samachar

इस्लामाबाद। पाकिस्तान की एक अदालत ने पूर्व प्रधानमंत्री नवाज शरीफ की जमानत की अर्जी खारिज कर दी है। नवाज शरीफ की ओर से मेडिकल आधार पर जमानत की मांग रखी गई थी जिसे सोमवार को अदालत ने खारिज कर दिया। पाकिस्तानी मीडिया की रिपोर्ट के मुताबिक, इस्लामाबाद उच्च न्यायालय की पीठ ने कहा कि जमानत मेडिकल आधार पर नहीं दी जा सकती है।

निराशाजनक फैसला: पूर्व प्रधानमंत्री शाहिद खाकान अब्बासी

न्यायमूर्ति आमेर फारूक और न्यायमूर्ति मोहसिन अख्तर कयानी की पीठ ने यह फैसला सुनाया। आपको बता दें कि शरीफ को दस दिन पहले कोट लखपत जेल से जिन्ना अस्पताल भेजा गया। शरीफ कोट लखपत जेल में अपनी सजा काट रहे हैं। इस फैसले के बाद मीडिया से बातचीत करते हुए पूर्व प्रधानमंत्री शाहिद खाकान अब्बासी ने फैसले को निराशाजनक बताया।

‘सभी कानूनी रास्ता अख्तिायार करेंगे’

अब्बासी ने मीडिया के सामने कहा, ‘हमने हमेशा से अदालत के आदेशों का सम्मान किया है, हम इस आदेश का भी आदर करते है। हम सभी कानूनी रास्ता अख्तिायार करेंगे जो उपलब्ध हैं।’ उन्होंने कहा, ‘शरीफ के लिए जरूरी इलाज जेल में नहीं प्रदान किया जा सकता। इसीलिए जरूरी है कि उन्हें रिहा किया जाए।’ बता दें कि जवाबदेही अदालत के न्यायाधीश मोहम्मद अरशद मलिक ने 24 दिसंबर 2018 को शरीफ को अल-अजीजिया स्टील मिल्स कंपनी (एएससीएल) व हिल मेटल एस्टेब्लिशमेंट (एचएमई) के मामले में दोषी करार दिया था। इसके चलते उन्हें सात साल की जेल और 2.5 करोड़ डॉलर का जुर्माना लगाया था।

More articles

- Advertisement -
- Advertisement -

Latest article

बोईसर स्थित कार्यसम्राट सामाजिक संस्था द्वारा रुग्णवाहिका का उद्घाटन

  कार्यसम्राट नामक समाज सेवी संस्था के संस्थापक अध्यक्ष श्री विजय वैद्य की समाज सेवी भावना को मूर्त रूप देने के लिए संस्था ने एक...

कोलकाता में उतरा विमान,खराब मौसम के कारण बंगलुरु-दरभंगा फ्लाइट हुई डायवर्ट, यात्रियों को हुई परेशानी

दरभंगा एयरपोर्ट पर खराब मौसम में विमानों की लैंडिंग में परेशानी हो रही है। शुक्रवार को दूसरे दिन भी एक फ्लाइट को डायवर्ट करना...

विद्युत की चोरी में आठ पर मुकदमा दर्ज

जासं, भदोही : बकाया वसूली महाअभियान के क्रम में शुक्रवार को विजिलेंस टीम के साथ विद्युत विभाग के अधिकारियों ने मोढ़, बीजापुर, गड़ेरियापुर सहित...

बदमाशों तक पहुंची पुलिस प्रयागराज से आए थे बदमाश

जागरण संवाददाता, ऊंज (भदोही) : जंगीगंज बाजार में बुधवार को दुस्साहसिक तरीके से बाइक सवार बदमाशों ने पैसा मांगने पर फायरिग झोंक दी थी।...

समय का नहीं रखा ध्यान तो छूट सकती है ट्रैन

जागरण संवाददाता, लालानगर (भदोही) : पूर्वोत्तर रेलवे ने ट्रेनों के संचालन समय सारणी में बड़ा बदल किया है। पांच दिसंबर से लागू नए समय...